निजी ही नहीं सरकारी कार्यालयों में भी वर्क फ्रॉम होम से अनेक फायदे

50 फीसदी कार्मिक संभाल रहे उपखंड कार्यालय

By: Surendra

Published: 16 May 2020, 11:21 PM IST

शाहपुरा. कोरोना महामारी से एक तरफ पूरा देश जूझ रहा है, वहीं इसके कुछ सकारात्मक परिणाम भी सामने आए हैं। सबसे अहम तो यह कि परिवारों को एक साथ जोडऩे के साथ ही वर्क फ्रॉम होम की दिशा में कदम बढ़े हैं। जब से लॉक डाउन शुरू हुआ है अधिकांश सरकारी व निजी कार्यालय घरों से संचालित हो रहे हैं। कार्यालयों के कर्मचारी परिवार के साथ रहकर घरों से ही ऑफिस का कार्य कर रहे हैं। स्कूल-कॉलेजों में ऑनलाइन कक्षाएं संचालित हो रही है। इससे ऑनलाइन कार्य को गति मिली है। अधिकारियों की मानें तो यह कार्य आगे भी जारी रह सकता है।

यह है कार्य की स्थिति

अधिकांश ऑनलाइन कार्य करने वाले कर्मचारी घर से ही कार्य कर रहे हैं। जिला मुख्यालय से कोरोना से संबंधित मांगी जाने वाली जानकारियां, बाहर से आने वाले लोगों की संख्या, क्वारंटीन करने आदि की जानकारियां ऑनलाइन फीडिंग का कार्य कर्मचारी घर से कर रहे हैं।


शाहपुरा उपखण्ड कार्यालय

10 कर्मचारी हैं कार्यालय में
05 कर्मचारी नियमित आते हैं
05 कर्मचारी घर से कार्य करते हैं।

यह है लाभ

— कोरोना संक्रमण से सुरक्षा।
— कार्य की स्वतंत्रता।
— घर पर रहने का सुख।
— ऑनलाइन कार्य को गति।
— कार्यालय आने-जाने के लिए वाहन खर्च नहीं
— वाहनों की कमी से पर्यावरण शुद्धि

इनका कहना है

इन दिनों उपखण्ड कार्यालय 24 घंटे कार्य कर रहा है। अतिआवश्यक कार्य के लिए ही आधे कार्मिकों को कार्यालय बुलाया जाता है। आधे घर से कार्य करते हैं। सात दिन बाद कर्मचारियों को चेंज कर देते हैं। कार्य में भी कोई परेशानी नहीं आ रही।

नरेन्द्र कुमार मीणा, उपखण्ड अधिकारी शाहपुरा

Surendra
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned