UP में बकाया भुगतान मांग रहे गन्ना किसानों पर एफआईआर, PM मोदी का फूंका था पुतला

UP में बकाया भुगतान मांग रहे गन्ना किसानों पर एफआईआर, PM मोदी का फूंका था पुतला

Mohd Rafatuddin Faridi | Publish: Apr, 17 2019 05:20:54 PM (IST) | Updated: Apr, 17 2019 05:24:28 PM (IST) Basti, Basti, Uttar Pradesh, India

धरना दे रहे गन्ना किसानों ने चुनाव बहिष्कार का भी कर रखा है ऐलान, 60 हजार किसानों के शामिल होने का दावा।

चुनाव बहिष्कार कर बकाया भुगतान मांग के लिये पिछले 10 दिनों से धरना दे रहे हैं किसान।

बस्ती. यूपी के बस्ती में 2015 से बकाया गन्ने का भुगतान मांग को लेकर आंदोलनरत किसानों पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। मामला यूपी के बस्ती जिले का है, जहां की वाल्टरगंज चीनी मिल में किसानों के गन्ने का भुगतान बकाया है। इसे लेकर 100 से 150 किसान चीनी मिल के गेट पर धरना दे रहे हैं। किसानों ने लोकसभा चुनाव बहिष्कार का ऐलान भी कर रखा है। मंगलवार को प्रदर्शन कर रहे किसानों ने बकाया भुगतान न होने पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और उनका पुतला भी फूंका, जिसके बाद बुधवार को इस मामले में सात नामजद समेत 30 अज्ञात किसानों के खिलाफ आपराधिक मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। एफआईआर दर्ज होने के बाद धरने की अगुवाई कर रहे राम प्रकाश चौधरी ने कहा है कि इससे हम नहीं डरेंगे। पुलिस चाहे तो आकर हमें गिरफ्तार कर ले।

 

बताते चलें कि यूपी का बस्ती जिला गन्ने की खेती के लिये मशहूर है। यहां का मुख्य रोजगार कृषि है और किसानों की मुख्य फसल गन्ना। इसकी खेती पूरे जिले में बड़े पैमाने पर होती है। अंदाजा इसी आधार पर लगाया जा सकता है कि जिले में चार-चार चीनी मिलें हैं। वॉल्टरगंज चीनी मिल में इलाके के करीब 60 हजार गन्ना किसानों का 49 करोड़ रुपये बकाया 2015 से चला आ रहा है। भुगतान की मांग को लेकर किसान तब से अपनी आवाज उठाते चले आए हैं, लेकिन किसानों का कहना है कि अब तक न तो चीनी मिल ने भुगतान किया और न ही सरकार ने इस बात के लिये कोई कदम उठाया की किसानों का बकाया उन्हें मिले।

 

लोकसभा चुनावों के दौरान करीब 10 दिन पहले जिला पंचायत सदस्य राम प्रकाश चौधरी की अगुवाई में 100 से 150 किसान वॉल्टरगंज चीनी मिल के गेट पर बैठ गए। उनका साथ चीनी मिल के कर्मचारियों ने भी दिया। इसके बाद भी जब इनकी बात नहीं मानी गयी तो धरनारत किसानों ने लोकसभा चुनाव के बहिष्कार की धमकी दी। बकाया भुगतान को लेकर तब भी कुछ नहीं होने पर किसानों ने वहां चुनाव बहिष्कार का बैनर लगा दिया।

 

जिला प्रशासन ने बकाया भुगतान की डेटलाइन 15 अप्रैल तक दी थी। बावजूद इसके भुगतान न होने पर इन लोगों ने 16 अप्रैल मंगलवार को अपनी मांगों को लेकर किसान गेट पर ही प्रदर्शन कर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, केन्द्र सरकार, यूपी सरकार और वाल्टरगंज चीनी मिल मैनेजमेंट के खिलाफ नारेबाजी कर रहे थे। वहां प्रधानमंत्री का पुतला भी फूंका गया। इस मामले को लेकर बुधवार को वॉल्टरगंज थाने में धरनारत राम प्रकाश चौधरी, शत्रुघ्न सिंह, हरिराम, अंगद, मनिराम, वीरेन्द्र और चेतराम समेत 30 किसानों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।

 

चौधरी ने इस कार्रवाई के बाद कहा है कि प्रधानमंत्री ने 14 दिन में गन्ना बकाया भुगतान कराने का का वादा किया था, लेकिन बस्ती में किसानों का भुगतान कराने के बजाय उनपर एफआईआर दर्ज करा दिया गया है। आंदोलनरत किसान इससे डरेंगे नहीं। हमारा धरना जारी, पुलिस को गिरफ्तार करना हो तो आकर कर सकती है।

By Satish Srivastava

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned