नदियों पर दिख रहा भीषण गर्मी का असर, रेत में बदल गई हैं नदियां

नदियों पर दिख रहा भीषण गर्मी का असर, रेत में बदल गई हैं नदियां
Ramrekha River

Sarweshwari Mishra | Updated: 14 Jun 2019, 04:16:25 PM (IST) Basti, Basti, Uttar Pradesh, India

नाले में तब्दील हुई रामरेखा नदी

बस्ती. भीषण गर्मी की चपेट में पूरा उत्तर भारत है। एक तरफ लोग पानी के संकट से जूझ रहे हैं तो दूसरी तरफ ताल तलैया भी सूखे पड़े हैं। कृषि प्रधान देश में नदियों को जीवनरेखा माना जाता है, लेकिन प्रशासन की उपेक्षा से जिले की 4 पौराणिक नदियों का अस्तित्व संकट में है। भीषण गर्मी का असर इन नदियों पर देखने को मिल रहा है। कभी लहराती-बलखाती बहने वाली ये नदियां आज अपनी पहचान बचाने को जूझ रही हैं। हर्रैया तहसील क्षेत्र की मनोरमा, रामरेखा और आमी सहित कठिनइयां नदी का बहाव कई स्थानों पर थम गया है, हालात ऐसे है कि अब इस नदियों का अस्तित्व भी खत्म होने को है।
नदियां संस्कृति और सभ्यता के साथ-साथ आर्थिक उन्नति का भी आधार होती हैं। तमाम सभ्यताएं नदी किनारे विकसित हुईं। मनोरमा, आमी व रामरेखा, कठिनइयां नदी भी अपने आंचल में सैकड़ों गांवों को समेटे हुए थी। सिंचाई तथा पेयजल व्यवस्था पूरी तरह से इसी नदी पर आश्रित थी। अविरल धारा बाधित होने से नदी का स्वरूप छोटे-छोटे तालाबों में परिवर्तित हो गया है। न तो आज बेजुबानों के लिए घाट पर पीने को पानी है और न सिंचाई के लिए पर्याप्त जल।

 

dry river

नाले में तब्दील हुई रामरेखा नदी
अस्तित्व के लिए जूझ रही दूसरी नदी है रामरेखा। कभी इस नदी के जल से सीता जीने प्यास बुझाई थी, लेकिन आज अतिक्रमण की वजह से यह सिमटती जा रही है। साफ-सफाई के अभाव में नदी नाले में तबदील हो गई है। मान्यता है कि जनकपुर लौटते समय राम, सीता और लक्ष्मण ने इसी स्थान पर विश्राम किया था। माता सीता को प्यास लगने पर भगवान राम ने अपने बाण से रेखा खींच कर जल निकाला था, जिससे माता ने अपनी प्यास बुझाई थी। यहां से निकला जल आगे जाकर हर्रैया के पास मनवर नदी में मिला था। तभी से इसे रामरेखा नदी के नाम से जाना जाता है, रामरेखा नदी के तट पर बना रामजानकी मंदिर परिसर चौरासी कोसी परिक्रमा का प्रथम पड़ाव स्थल है। इतने महत्व के बाद भी रामरेखा नदी दुर्दशा झेल रही है। किसी भी सरकार में नदी की सफाई और सौंदर्यीकरण पर ध्यान नहीं दिया गया। मंदिर के पुजारी बाबा दयाशंकर दास का कहना है कि सफाई के अभाव में नदी में जलकुंभी के अलावा तमाम तरह के झाड़-झंखाड़ उग आए हैं। आज इसका जल जानवर भी नहीं पी पा रहे हैं।

रेत में परिवर्तित हुई कठिनइया नदी
मुंडेरवा थाना क्षेत्र में बहने वाली कठिनईया नदी आज अपने अस्तित्व को लेकर संकट में है। सूखे की मार ने 80 किलोमीटर लंबी नदी को पूरी तरह से रेत में बदल दिया है। पानी के बजाय अब इस नदी में सिर्फ धूल और मिट्टी के सिल्क ही नजर आते हैं। खुद में पौराणिकता को समेटे यह नदी पहले लोगों के लिये कष्टहरणी नदी थी लेकिन आज सूखे की मार ने कठिनईया को जल विहीन कर दिया है। वैसे तो यह नदी सिद्वार्थनगर जिले से बहकर संतकबीर नगर जिले में कुआनो नदी में जाकर समाहित हो जाती है लेकिन इस प्रकृति ने ऐसा कहर बरपाया कि कठिनईया नदी अपने कठिन दौर से गुजरने को विवश हो गई। ऐसी मान्यता है कि पहले इस नदी में नहाने से लोगों के कष्ट दूर होते थे, किसानों के लिये सिचाई तो पशु पक्षियों के लिये यह नदी तारणहार थी, मगर प्रकृति ने ऐसा खेल खेला कि आज यह इस नदी को खुद किसी तारणहार का इंतेजार है। बरसात के मौसम में यह नदी प्रलयकारी रूप अख्तियार करती रही है। हैरानी की बात यह है कि नदी, नालों के संरक्षण की बात करने वाली सरकार और स्वयं सेवी संस्थाओं को नदी की यह हालत नहीं दिख रही है। नदी के दोनों तरफ उपजाउ जमीन है और किसानो को सिंचाई के लिये कभी इस नदी का सहारा होता था। मगर इस बार नदी खुद प्यासी हो गई है तो वह कैसे औरों की प्यास बुझा पायेगी।

BY- Satish Srivastava

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned