बालक की पहुंच तक पिस्टल, गैंग बनी बच्चों का खेल?

पुखराज उर्फ कोलिस हत्याकांड का मामला, वारदात में प्रयुक्त पिस्टल, बालक की पहुंच तक पिस्टल चिंताजनक

By: Bhagwat

Published: 16 Sep 2020, 09:41 AM IST

ब्यावर. सदर थाना क्षेत्र के ग्राम अंधेरी देवरी में बिच्छु गैंग के सरगना की गोली मारकर हत्या करने की घटना ने कई सवाल खड़े किए है। एक बालक तक पिस्टल पहुंची। पिस्टल की सप्लाई देने वालों की भी सड़क हादसे में मौत हो चुकी है। ऐसे में पिस्टल सहित अन्य हथियारों की सप्लाई का काम करने वालों तक पहुंच पाना पुलिस के लिए आसान नहीं होगा। जबकि जिस तरह की पिस्टल का उपयोग कर गोलिया दागी गई। यह चिंताजनक है। जबकि क्षेत्र में गैंग बनाना एवं इसको लेकर अभद्र भाषा का प्रयोग करते हुए सोशल साइट पर क्लिप अपलोड करना खेल बन गया है।सदर थाना क्षेत्र के ग्राम अंधेरी देवरी में पुखराज उर्फ कोलिस की हत्या के मामले ने कई सवाल खड़े किए है। इसमें सबसे बड़ा सवाल यह है पिस्टल जैसा हथियार एक बालक की पहुंच में कैसे आया। इसका जरिया क्या रहा? पिस्टल का इस तरह से आदान-प्रदान होना क्षेत्र के लिए चिंताजनक है। करीब तीन चार साल पहले शहर थाना पुलिस की ओर से पिस्टल सहित कुछ युवकों को पकड़ा भी गया था।

गैंग का खेल...

क्षेत्र में अलग-अलग नाम से गैंग बनाना बच्चों का खेल हो गया है। इन गैंग में जो फोटो सोशल साइट पर आ रहे है। वों चिंताजनक है। इसमें यह एक दूसरे को धमकी देने के अलावा अभद्र भाषा का प्रयोग करते है। इसके अलावा कम उम्र के किशोर व युवाओं का इससे जुडऩा चिंताजनक है।

...तो लूटकर हो जाते है चुपचाप

सदर थाना क्षेत्र के अंधेरी देवरी में बालक के वारदात करने एवं वारदात करने का जो कारण सामने आया। यह भी क्षेत्र के लिए चिंता का विषय है। बालक ने कबूला कि उसके दादा के साथ लूट व मारपीट के कारण ही उसने कोलिस की हत्या की। इस मामले में थाने में कोई शिकायत नहीं दी। ऐसे में सवाल खड़ा होता है कि क्षेत्र में लोगों के साथ लूटपाट होने के बावजूद वों थाने तक नहीं पहुंच रहे है। अगर ऐसा है तो कितने ही लोग लूट के बाद चुपचाप हो जाते है। इस तरह के कितनी ही वारदात सामने ही नहीं आ पाती है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned