ऐतिहासिक अजमेरी गेट हुआ क्षतिग्रस्त

-अजमेरी गेट की छत का मलबा गिरा, हादसा टला, ब्यावर शहर का है प्रवेशद्वार

By: Bhagwat

Published: 30 Sep 2020, 04:04 PM IST

ब्यावर. ऐतिहासिक अजमेरी गेट के छत का एकाएक प्लास्टर गिर गया। प्लास्टर गिरने के दौरान यहां से कोई नहीं निकल रहा था। इससे हादसा होने से टल गया। हालांकि अजमेरी गेट पर दिनभर लोगों की आवाजाही लगी रहती है। यहां पर दिनभर खासा यातायात का दबाव रहता है। शहर की स्थापना के समय चार गंट का निर्माण कराया गया। इनमें अजमेरी गेट के अलावा सुरजपोल गेट, चांगगेट व मेवाड़ी गेट शामिल है। इन दरवाजों की समय पर सार संभाल नहीं करने से यह क्षतिग्रस्त होते जा रहे है। बस स्टैंड से शहर में प्रवेश का द्वार अजमेरी गेट है। इस दरवाजे का निर्माण शहर की स्थापना के समय किया गया था। इसकी सुंदरता देखते ही बनती है। प्रशासन की अनदेखी के चलते यह दरवाजा क्षतिग्रस्त होने लगा है। इस दरवाजे की छत का प्लास्टर मंगलवार को एकाएक भर-भरा कर गिर गया। इस दौरान उधर से गुजर रहे लोग प्लास्टर गिरने की आवाज सुनकर वहीं पर रुक गए। कुछ देर यहां पर लोग एकत्र रहे। लोग एतियातन छोटे दरवाजे से निकले। कुछ देर बाद दरवाजे से आवाजाही सामान्य हुई।


शहर की नींव का पत्थर रखा था
कर्नल डिक्सन ने ब्यावर शहर को बसाया। तब नींव का पत्थर यहीं पर रखा गया था। ऐसे में इस दरवाजे का ऐतिहासिक महत्व है। इसकी सुंदरता व बनावट आज भी सबको अपनी और लुभाती है। इस दरवाजे के निर्माण के समय लगे दरवाजे आज भी मौजूद है। जो उस समय की कारीगरी एवं मजबूती के मिसाल है।
शहर के स्थापना के समय अजमेरी गेट पर ही नीव का पत्थर रखा था।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned