राजा-महाराजा काल की गिन्नियां बेचने आई महिलाएं

नकली सोने की गिन्नियां बेचते तीन महिलाएं पकड़ी , 847 सोने की नकली गिन्नियां जब्त

By: Bhagwat

Published: 30 Sep 2020, 04:15 PM IST

ब्यावर. शहर थाना पुलिस ने नकली सोने की गिन्नियां बेचकर ठगी करते हुए तीन महिलाओं को पकड़ा है। इनके कब्जे से पुलिस ने 847 गिन्नियां जब्त की है। यह महिलाएं गुजरात राजकोट की रहने वाली है। आरोपित महिलाओं को न्यायालय मे पेश किया। पुलिस इस गिरोह में शामिल अन्य लोगों के बारे में पूछताछ कर रही है। शहर थानाधिकारी संजय शर्मा ने बताया कि माधोपूरिया मोहल्ला निवासी श्याम सोनी ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि तीन महिलाएं जो गुजराती कपड़े पहने हुए है। इन दिनों ब्यावर में आई हुई है। उन महिलाओं ने श्याम सोनी को रास्ते में बताया कि उनके पूर्वज राजा महाराजाओं के यहंा काम करते थे। उनका दिया हुआ सोने उनके पास रखा हुआ है। अब पैसों की कमी होने के कारण उस सोने को सस्ते में बेचना चाहती है। इन महिलाओं ने पांच हजार रुपए एडवांस लेकर एक गिन्नी दी। इसी जांच करवाई तो यह गिन्नी नकली पाई गई। पुलिस ने यह मामला सामने आने के बाद एक टीम का गठन किया। टीम ने पड़ताल कर गुजरात के कुबलिया पाडा थाना थोराला राजकोट निवासी उषा 50, लता 42 एवं शिंकु 25 को पकड़ा। पुलिस ने इन्हें थाने लाकर पूछताछ की तो यह इनके पास 847 गिन्नियां मिली। जिनका वजन 867 ग्राम था। यह इसको सोने की बताकर बेचने के बाद फरार होने की फिराक में थी। इससे पहले ही महिलाएं पकड़ी गई।

तीस लाख की बता, दस लाख में बेचने की फिराक में थी...

पुलिस पूछताछ में सामने आया कि यह महिलाए इन्हें सोने की गिन्नियां बताकर बेचना चाह रही थी। महिलाएं इन गिन्नियों की कीमत करीब तीस-चालीस लाख बताकर दस लाख रुपए में बेचकर फरार होने की फिराक में थी। यह गिन्नियां बेचकर किसी के साथ ठगी करती। इससे पहले ही पुलिस के हत्थे चढ़ गई। कहां से लाई एवं कहां बनी गिन्नियांनकली गिन्नियों को सोने की बताकर बेचने के मामले में मुख्य आरोपित को पकडऩे के लिए पुलिस ने पड़ताल तेज कर दी है। इस गिरोह में और कौन शामिल है। इन गिन्नियों का निर्माण कहां पर किया गया। यह गिन्नियां किसी बनी हुई है। इस गिरोह में शामिल लोग और कहां पर ठहरे हुए है। इस मामले में पुलिस ने पड़ताल तेज कर दी है। नकली सोने की गिन्नियां बेचकर ठगी करने वाली महिलाओं को पकडऩे वाली टीम में सहायक उपनिरीक्षक सुरेन्द्रसिंह, कैलाशचंद, राजेन्द्र, दिनेश, अमृता व गुड्डी शामिल रहे।

नहीं आए झांसे में, रहे सतक...

र्शहर थानाधिकारी संजय शर्मा ने बताया कि इस तरह के ठग गिरोह वाले अलग-अलग तरीकों से वारदात को अंजाम देते है। ऐसे गिरोह के लोगों के साजिश के शिकार नहीं हो। सस्ते के लालच में आकर इस तरह की सामान की खरीदारी नहीं करे। इस तरह के लोग बातों में उलझाकर एवं मजबूरी बताकर झांसा देते है एवं ठगी कर फरार हो जाते है। ऐसे लोगों से किसी प्रकार की सामग्री की खरीदारी नहीं करे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned