यह काम अब पकड़ेगा रफ़्तार

एक दिन में डेढ किलोमीटर बिछेगा ट्रैक

By: tarun kashyap

Published: 18 Jun 2019, 09:00 PM IST


ब्यावर. ब्यावर में भी अब जल्द ही डीएफसीसी के ट्रैक पर रेलगाडिय़ां दौड़ेगी। रेलगाड़ी ब्यावर में ऊपर से ही गुजर जाएगी। इसके लिए करीब 4 किलोमीटर लबा पुल बनाया गया है। जून के आखरी सप्ताह में ट्रैक बिछाने का काम शुरू होगा। इस साल के अंत तक गाडिय़ों का आवागमन शुरू हो सकेगा।
डीएफसीसी के अंतर्गत स्टेशन के बाहर पुलिया बनाई गई है। करीब दो साल पहले शुरू हुआ पुलिया निर्माण पूरा हो चुका है। अब पुलिया सहित ब्यावर के अंतर्गत आने वाले क्षेत्र में मशीन से दो तरफा ट्रैक बिछाया जाएगा। मशीन एक दिन में करीब डेढ किलोमीटर ट्रैक बिछा सकेगी। करीब एक माह में ट्रैक बिछाने का काम पूरा हो जाएगा। इसके बाद ट्रैक को टेस्ट किया जाएगा।
ब्यावर में ऊपर से गुजर जाएगी ट्रेन
डीएफसीसी से मालगाडिय़ां ब्यावर के ऊपर पुलिया से ही चली जाएगी। इसके लिए करीब 50 करोड़ रुपए की लागत से ब्रिज बनाया गया है। यह ब्रिज ब्यावर रेलवे स्टेशन के पास से होकर गुजर रहा है। ब्रिज में 15 खबे और १६ स्पैन है।
ज्यादा होगी ढुलाई
आम तौर पर सामान्य मालगाड़ी की लबाई ७५० मीटर तक होती है। लेकिन डीएफसीसी पर चलने वाली गाडिय़ां सामान्य मालगाड़ी से लबी तो होगी ही। इसके कोच भी बड़े होंगे। मालगाड़ी की लबाई ही करीब १.५ किलोमीटर तक लबी होगी। इसके डिब्बे भी बड़े होंगे। इनमें ज्यादा माल की ढुलाई हो सकेगी।
कम समय में ज्यादा दूरी
डीएफसीसी में केवल मालगाडिय़ों के लिए ही आवागमन होने के कारण माल कम समय में गंतव्य तक पहुंच जाएगा।
लदान होगा आसान
डीफसीसी में गाडिय़ों में माल के लदान के लिए बांगड़ ग्राम, हरिपुर, मारवाड़, चंचावल सहित अन्य स्थानों पर स्टेशन बनाए जा रहे है। इससे लदान आसान हो जाएगा।
सीमेंट का लदान होगा आसान
डीएफसीसी से सीमेन्ट के लदान को तो फायदा होगा ही। आस-पास के मिनरल सहित अन्य उद्योंगों को भी लदान में आसानी होगी। प्रतिदिन सैकड़ों ट्रकों से माल का लदान होता है। इससे सड़क पर ट्रैफिक तो कम होगा ही। प्रदूषण भी कम होगा।

tarun kashyap Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned