बेमेतरा में 10 दिन में हुई 11 गायों की मौत, गौशाला संचालक पर होगी एफआईआर

बेमेतरा में 10 दिन में हुई 11 गायों की मौत, गौशाला संचालक पर होगी एफआईआर

Laxmi Narayan Dewangan | Publish: Sep, 04 2018 11:51:10 PM (IST) Bemetara, Chhattisgarh, India

कलक्टर के निर्देश पर पशु चिकित्सा विभाग करेगा कार्रवाई, रजकुडी की अवैध गौशाला में मिले 61 मवेशी, सभी को कांजी हाउस में कराया शिफ्ट

बेमेतरा. जिले में गायों की फिर से लगातार मौत होने का मामला गरमा गया है। इस मामले में अब कलक्टर ने सख्त कार्रवाई करने का आदेश देते हुए गौशाला संचालक के खिलाफ एफआइआर दर्ज कराने के लिए कहा है। जिले में 10 दिन में 11 गायों की अकाल मौत हो गई। इसमें से रजकुंडी और ओटेबंद के गोशाला की 8 गायों की मौत हो गई। 7 गायों की मौत सोमवार तक हुई थी, मंगलवार को एक गाय की मौत हो गई। गाय को पोस्टमार्टम कर दफन कर दिया गया। स्टेडियम में रखी गई गायों में सोमवार तक तीन की मौत हो गई। वहीं रजकुंडी गौशाला मामले में कलक्टर ने उपसंचालक पशु सेवा विभाग को गौशाला संचालक के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज कराने के निर्देश दिए हैं।

पशु चिकित्सा विभाग ने डॉक्टरों की टीम ने किया गौशला का निरीक्षण
गोशाला में गायों की मौत का मामला सामने आने के बाद पशु चिकित्सा विभाग ने डॉक्टरों की टीम 29 अगस्त को भेजी। टीम ने दोनों गोशाला का निरीक्षण किया। टीम को रजकुडी में 61 गायों की हालत खराब मिली। टीम ने इन गायों को कांजी हाउस शिफ्ट करवाया। बाद में कांजी हाउस में दो गायों की मौत हो गई। टीम ने कांजी हाउस की स्थिति, चारा और पानी की व्यवस्था, मवेशियों के रहने के लिए शेड आदि की जानकारी ली। टीम ने दोनों गोशाला का 30 अगस्त को भी निरीक्षण किया। गोशाला से प्राप्त 61 मवेशी मिले। इसमें से 29 गाय,14 बछड़ा,16 बछिया एवं 2 संाड है। जिनके लिए पशु चिकित्सा विभाग ने चारा, दाना-पानी व छाया एवं उपचार कि व्यवस्था की है।

विभागीय मंत्री के निर्देश पर किया दौरा
विभागीय मंत्री बृजमोहन अग्रवाल के निर्देश पर छत्तीसगढ़ राज्य गोसेवा आयोग के सचिव डॉ. एमपी पासी एवं पशु चिकित्सा सेवाएं रायपुर के अपर संचालक डॉ. एके ध्रुव ने 31 अगस्त को ग्राम रजकुडी एवं ओटेबंद का दौरा किया था। यहां सरपंच लीलाराम निषाद एवं मां प्रवीण करुणा सेवा समिति की अध्यक्ष मीना देवी मांडले और ग्रामीणों के समक्ष प्रतिवेदन तैयार किया।

बिना अनुमति संचालित हो रहा था गौशाला
रजकुडी में गोशाला संचालन के लिए प्रवीण करुणा सेवा समिति ने गोसेवा आयोग में गोशाला के पंजीयन के लिए 30 अक्टूबर 2017 को आवेदन दिया था। आयोग के रजिस्ट्रार ने गोशाला के लिए निर्धारित मापदंड पूरे नहीं करने के कारण पंजीयन आवेदन को अमान्य कर दिया है। इसके बाद भी गोशाला का संचालन किया जा रहा था।

गाय के पेट से निकली 30 किलो पॉलीथिन
कंतेली स्टेडियम में रखे गए 46 मवेशियों में से 3 की मौत हो चुकी है। पशु चिकित्सक डॉ हेमन्त ने सोमवार को पोस्टमार्टम किया। मृत गाय के पेट से 30 किलो पालीथिन एवं प्लास्टिक के रस्सी निकली है। इससे पूर्व गाय का मृत बछड़ा हुआ था, जिन्हें प्रसव के दौरान बचाया नहीं जा सका था। गाय और बछड़े दोनों की मौत हो गई थी।

5 मिनट में निकल गए गोसेवा आयोग अध्यक्ष
सोमवार को गोसेवा आयोग के अध्यक्ष बिशेसर पटेल ने कंतेली स्टेडियम में मवेशियों को देखा। आयेग के अध्यक्ष 5 मिनट में वहां से निकल कर रवाना हो गए। हालांकि उन्होंने गायों की स्थिति पर चिंता जताई। जाते-जाते कंतेली स्टेडियम में रखे गए मवेशियों के लिए चारा पानी एवं छाया की समुचित व्यवस्था करने एवं बीमार गायों के उपचार की व्यवस्था करने के निर्देश दिए। मवेशियों को झालम गो अभ्यारण्य में शिफ्ट करने के निर्देश दिए हैं। बिशेसर पटेल ने कहा कि स्टेडियम गया था, जहां पर रखी गयाों को देखा हूं। मेरे पास समय कम था केवल दो मिनट के लिए गया था। अव्यवस्था को दूर करने के लिए निर्देश दिया हूं।

कोबिया में भी गायों की हालत ठीक नहीं
शहर के कोबिया वार्ड में कॉलेज से लगे गौठान में बेरिकेड्स बनाकर घेरा में रखी गए गायों की भी स्थिति ठीक नहीं है। जिस पर किसान पहले भी चिंता जता चुके हंै। जिला कांग्रेस कमेटी के अन्य पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ सचिव किरण वर्मा ने कहा कि जिले की गोशालाओं मे रखी गई गायों की स्थिति व स्वास्थ्य की जांच को लेकर टीम बनाने की जरूरत है। जिले की गोशालाओं मे क्षमता से अधिक गायों को रखा गया है। साथ ही झालम अभ्यारण में भी समुचित व्यवस्था नहीं है।

जांच अधिकारी ने कहा कार्रवाई होगी
जांच अधिकारी पशु चिकित्सा विभाग के उपसंचालक डॉ. अनिल कुमार शुक्ला ने बताया कि संस्था ने आयोग में पंजीयन नहीं होने के बावजूद भी ग्राम रजकुडी पशुओं को रखा था। जो पशु क्रूरता निवारण अधिनियम 1960 के 11ज के विपरीत है, यह आपराधिक प्रकरण है। उन्होंने कहा कि अनाधिकृत रुप से गोशाल चलाने वाली संस्था मां प्रवीण करुणा सेवा समिति की अध्यक्ष मीना देवी मांडले के खिलाफ प्रकरण दर्ज कराया जाएगा।

Ad Block is Banned