प्रदेश की सबसे बड़ी लूट के 40 लाख गायब, सस्पेंस बरकरार, सवालों से घिर गई है पुलिस

प्रदेश की सबसे बड़ी लूट के 40 लाख गायब, सस्पेंस बरकरार, सवालों से घिर गई है पुलिस
प्रदेश की सबसे बड़ी लूट के 40 लाख गायब, सस्पेंस बरकरार, सवालों से घिर गई है पुलिस

Laxmi Narayan Dewangan | Updated: 13 Oct 2019, 07:10:00 AM (IST) Bemetara, Bemetara, Chhattisgarh, India

प्रदेश की सबसे बड़ी लूट के बाकी 40 लाख रुपए की तलाश में पुलिस जुटी है। इसके लिए अलग-अलग टीम बनाई गई है। वहीं बैंक अधिकारियों को सख्त हिदायत दी गई है कि बैंकों की सुरक्षा बढ़ाई जाए। लापरवाही से काम नहीं चलेगा।

बेमेतरा. प्रदेश की सबसे बड़ी लूट के बाकी 40 लाख रुपए की तलाश में पुलिस जुटी है। इसके लिए अलग-अलग टीम बनाई गई है। वहीं बैंक अधिकारियों को सख्त हिदायत दी गई है कि बैंकों की सुरक्षा बढ़ाई जाए। लापरवाही से काम नहीं चलेगा। साथ ही बैंक प्रबंधन को नोटिस जारी करने की तैयारी चल रही है। पुलिस अधीक्षक कार्यालय में शुक्रवार को जिलेभर के बैंक अधिकारियों की बैठक हुई। इसमें पुलिस की ओर से बैंकों की सुरक्षा बढ़ाने के निर्देश दिए गए। एसपी प्रशांत ठाकुर ने कहा कि जिले के सभी बैंक प्रबंधन तय मानकों को गंभीरता से लें और उसका पालन करें। सुरक्षा में किसी प्रकार की लापरवाही नहीं चलेगी।

कैश वैन में जीपीआरएस सिस्टम नहीं होने पर सवाल
पुलिस सूत्रों के अनुसार लूट प्रकरण में जिस कंपनी की सुरक्षा में इतनी बड़ी रकम लाई जा रही है, उसके कर्मचारियों को 16 लाख रुपए के साथ गिरफ्तार किया गया है। इसलिए मामले में जिम्मेदार बैंक प्रबंधन को नोटिस जारी किया जा सकता है। एक करोड़ 64 लाख रुपए जिस वाहन में ले जाए जा रहे थे, उसमें जीपीआरएस सिस्टम और स्टेपनी नहीं होना भी सवाल बन चुका है। इन दोनों पर पुलिस प्रशासन स्टेट बैंक मैनेजर को तलब किया था।

अलग-अलग टीमों को सौंपी गई जिम्मेदारी
पुलिस ने इस मामले की जांच में जो जानकारी जुटाई है, उसके बाद अलग-अलग टीम गठित की है। सभी टीमों को तय बिंदुओं पर काम करने कहा गया है। जांच के बाद सभी टीम एसपी प्रशांत ठाकुर को अपनी रिपोर्ट सौंपेंगी। इस मामले में आला अधिकारी भी लगातार मॉनिटरिंग कर रहे हैं।

एक नकली और एक अवैध पिस्टल बरामद
पुलिस ने लूट के मामले में एक पिस्टल बरामद किया है, जिसे आरोपियों ने अवैध तरीके से खरीदा था। इसके अलावा एक और पिस्टल मिला है, जो नकली था। इसे आरोपियों ने धमकाने के लिए रखा था। वहीं 315 बोर का पिस्टल नहीं मिला है, जिसकी तलाश की जा रही है।

तीन अन्य आरोपियों को भी जेल दाखिल कराया
पुलिस ने लूट की वारदात के बाद ग्रामीणों की मदद से पकड़े गए चारों लुटेरों कुलदीप मलिक, संजीत जाट, अमित सिंह एवं जसवंत सिंह को 6 अक्टूबर को रिमांड पर लिया था। इसके दो दिन बाद कुलदीप मलिक को न्यायिक रिमांड पर जेल भेज दिया गया था। इसके बाद अन्य तीनों आरोपियों को न्यायिक रिमांड पर जेल भेज दिया गया। थाना प्रभारी राजेश मिश्रा ने बताया कि पुलिस रिमांड होने के बाद न्यायिक रिमांड पर चारों को जेल दाखिल करा दिया गया है।

इन सवालों का जवाब ढूंढ रही पुलिस
लूट की वारदात के बाद पुलिस ने आरोपियों को पकडऩे के लिए चारों तरफ से घेराबंदी कर दी थी। इसके बाद ग्रामीण भी पीछे पड़े हुए थे। नतीजा यह हुआ कि सभी चारों आरोपी और 80 लाख रुपए पकड़े गए। 6 अक्टूबर को 28 लाख रुपए अमलीडीह से बरामद किए गए थे। इसके बाद 11 अक्टूबर को 16 लाख रुपए कैश वैन की कंपनी के दो कर्मचारियों से ही बरामद किए गए। मामले में अब तक 6 लोग गिरफ्तार हो चुके हैं। फिर भी पुलिस अब तक 40 लाख रुपए का पता नहीं लगा पा रही है। रकम की खोज में पुलिस खेतों में ड्रोन उड़ा चुकी है, फिर भी वह खाली हाथ है। इतनी तगड़ी घेरेबंदी और कड़ी पूछताछ के बाद भी 40 लाख रुपए पुलिस खोज नहीं पा रही है। आखिर इतनी बड़ी रकम कहां गई और कौन ले गया। भागते समय कहीं और रकम फेंक दी गई या फिर किसी और दे दी गई, यह सब सवाल बना हुआ है।

वैन पंचर होने के 20 मिनट बाद पहुंच गए थे लुटेरे
5 अक्टूबर को अतरिया के पास कैश वैन पंचर हो गया था। इसके 20 मिनट बाद लुटेरे कार से मौके पर पहुंचे और वारदात को अंजाम दिया। प्रारंभिक तौर पर इसे संदेहास्पद माना जा रहा था। बेमेतरा एसपी प्रशांत ठाकुर ने कहा कि प्रकरण की जांच के लिए पुलिस पूरी गंभीरता से जुटी हुई है। इसके लिए अलग-अलग टीमें बनाई गई है। अलग-अलग दिशा में छानबीन की जा रही है।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned