जिला अस्पताल का ब्लड बैंक मात्र एक कर्मचारी के भरोसे, केंद्रीय टीम ने असंतोष जताया

जिला अस्पताल के ब्लड बैंक की व्यवस्था महज एक कर्मचारी के कंधे पर टिकी हुई है, जिस पर गुरुावार को पहुंची टीम ने असंतोष जताया।

By: Rajkumar Bhatt

Published: 20 Jul 2018, 12:29 AM IST

बेमेतरा. जिला अस्पताल में संचालित ब्लड बैंक में स्वीकृत पदों की अपेक्षा महज एक स्टाफ के कार्यरत होने पर केंद्र व राज्य स्तर के अधिकारियों की टीम ने असंतोष व्यक्त किया। पूरे प्रदेश में किए जा रहे निरीक्षण की कड़ी में केंद्र व राज्य सरकार की संयुक्त टीम गुरुवार को ब्लड बैंक के निरीक्षण के लिए पहुंची थी।

केंद्र और राज्य की संयुक्त टीम का दौरा

जिला अस्पताल के ब्लड बैंक का गुरुवार दोपहर करीब एक बजे केंद्र व राज्य की संयुक्त टीम ने औचक निरीक्षण किया। टीम में सेंटर की ओर से जहां पी थेाराज शामिल थे, वहीं दूसरी ओर राज्य से सहायक औषधि नियंत्रक संजय नेताम, जिला निरीक्षक आरती नागदेव व सिविल सर्जन डा एसके पाल मौजूद रहे।

उपलब्ध संसाधनों पर जताई संतुष्टि

टीम ने ब्लड बैक के सभी कक्षों का बारिकी से निरीक्षण कर उपलब्ध संसाधानों का अवलोकन किया। ब्लड बैक के संसाधनों व व्यवस्था से जहां दल के सदस्य संतुष्ट नजर आए, वहीं नाको द्वारा जारी लाइसेंस के शर्तों के अनुसार ब्लड बैंक में एक मेडिकल आफिसर, दो तकनीकी सहायक, एक नर्स की पदस्थापना करने की बजाए महज एक स्टाफ होने पर असंतोष जाहिर किया। स्टेट टीम के संजय नेताम ने बताया निरीक्षण की रिपोर्ट केंद्र को दी जाएगी।

कलक्टर ने भी जताई थी नाराजगी

गौरतलब हो कि बीते 6 जून को कलक्टर महादेव कावरे ने जिला अस्पताल का निरीक्षण किया था। इस दौरान जिले के जिला अस्पताल में लंबे समय से गैरहाजिर ब्लड बैक प्रभारी डॉ. मधुबाला मुलकवार को सेवा से पृथक करने का प्रस्ताव राज्य शासन को भेजने के निर्देश दिया गया था। जिसके बाद गुरुवार को पहुंची टीम ने कम स्टाफ को लेकर अंसतोष जाहिर किया है। सिविज सर्जन डॉ एसके पाल ने बताया कि निरीक्षण के लिए पहुंची टीम को स्टाप कम होने को लेकर प्रशासन से की गई मांग की जानकारी दी गई है।

Rajkumar Bhatt
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned