मुख्यमंत्री जी, आपके इन घोषणाओं पर अभी भी अमल होने का इंतजार है

एनएच की मरम्मत, बायपास व कोबिया में पिकनिक स्पॉट बनाने की घोषणाएं आज भी है अधूरी, मुख्यमंत्री के आने से फिर जगी उम्मीद

By: Laxmi Narayan Dewangan

Published: 07 Jun 2018, 12:43 AM IST

बेमेतरा . कृषि प्रधान जिले में वर्षों पुरानी घोषणाएं आज तक पूरी नहीं हो पाई है। जिसमें शहर के मुख्य मार्ग का जीर्णोद्धार, बायपास और कोबिया में पिकनिक स्पॉट बनाने की घोषणा आज भी अधूरी है। बताना होगा कि 2010 के दौरान जिले के कोबिया वार्ड में हरिहर छत्तीसगढ़ योजना के तहत 10 एकड़ के रकबे में फलदार व हवादार पौधे रोपे गए थे, तब मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिह ने स्थल को पिकनिक स्पॉट बनाने की मंशा जताई थी। जिसके बाद आज तक स्थल को बेहतर स्वरूप दिये जाने का प्रयास नहीं किया गया है। इसी तरह शहर के मध्य से होकर गुजरे नेशनल हाइवे में राज्य शासन द्वारा बायपास सड़क बनाने की घोषणा की गई थी, जो आज तक लंबित हैं। जिसकी मांग लोगों द्वारा लंबे अर्से से की जा रही है। साथ ही नगर से होकर गुजरे नेशनल हाइवे का संधारण करना भी जरूरी हो गया है।
साजा में आईटीआई की मांग
सीएम ने 21 मई 2015 में साजा में आईटीआई स्थापित करने घोषणा की थी। जिसके लिए 2017-18 के बजट में प्रस्ताव भेजा गया था। लेकिन राज्य सरकार ने बजट में शामिल नहीं किया। इसके बाद बेसिक स्कूल मैदान में आयेाजित कार्यक्रम में 19 जून 2015 को जिला शिक्षण एव प्रशिक्षण संस्थान के निर्माण के लिए 2016- 17 के प्रथम अनुपूरक बजट में शामिल किया गया था लेकिन 2017-18 के बजट में विलुप्त हो चुका है। नादघाट में एनीकेट से उद्वहन योजना की मंजूरी भौतिक रूप से कार्य संभव नहीं होने के कारण नहीं मिल पाई है। नगर पंचायत नवागढ़ में बहने वाले छुरिया नाले का प्रोटेक्शन कार्य की घोषणा 12 जनवरी 2017 को किया गया था पर निर्माण लंबित है।
स्टाफ का है रोना
जिले के स्वास्थ्य विभाग के पास स्टाफ की कमी है। जिसकी स्वीकृति को लेकर शासन से गुहार लगाया जाता रहा है पर विभाग को अब तक ग्रेड वन समेत अन्य पदों के 70 फीसदी पदों पर कार्यरतोंं की कमी का सामना करना पड़ रहा है। चिकित्सा विभाग के अलावा शिक्षा विभाग के पास भी प्राचार्य व प्रधानपाठक पदों की भारी कमी है।
सीएम से कर्ज माफी की मांग करेंगे किसान
जिले के सब्जी उत्पादक क्षेत्र साजा विकासखंड के गांव कन्दई एवं हाड़ाहुली के किसानों ने कर्ज माफी एवं प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत बीमा क्षतिपूर्ति राशि दिलाने की मांग मुख्यमंत्री से करने की बात कही है। ग्राम कन्दई के किसान शिवकुमार पटेल, आनंद कुमार पटेल, राजाराम पटेल, परदेशी वर्मा, भुनेश्वर वर्मा सहित 30 किसानों ने अपनी पीड़ा बताते हुए कहा कि पिछले तीन साल से क्षेत्र में हो रही कम बारिश के कारण अकाल की स्थिति है और बीते साल तो और भयावह स्थिति रही है। जिसके कारण धान-सोयाबीन के साथ ही सब्जी की फसल बर्बाद हुई है। उत्पादन लागत भी नहीं निकल पाया था। ऐसे में किसानों ने विकास यात्रा के दौरान मुख्यमंत्री से मिलकर हल निकालने के लिए गुहार लगाने का निर्णय लिया है।

Show More
Laxmi Narayan Dewangan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned