शिक्षामंत्री जी, बेमेतरा जिले के बच्चों को नहीं मिल रहा आरटीई का लाभ

जिले में 2148 सीटों पर देना है प्रवेश अभी तक पहुंचे मात्र 450 आवेदन, प्रचार-प्रसार में ध्यान नहीं दे रहे अधिकारी

By: Laxmi Narayan Dewangan

Published: 16 May 2018, 07:30 AM IST

बेमेतरा . जिले में शिक्षा के अधिकार के तहत ऑनलाईन आवेदन प्रस्तुत किए जाने की प्रकिया शुरू होने के बाद भी जिले के बेमेतरा साजा बेरला व नवागढ़ विकासखंड में संचालित 147 निजी स्कूलों में निर्धारित सीटों के लिए अब तक 20 फीसदी के करीब आवेदन पहुंचा है। जिले में 450 सीट के लिए आवेदन पहुचा है। व्यापक प्रचार-प्रसार नहीं किए जाने की वजह से जिले में पिछले सालों में भी आरटीई के लाभार्थियों की संख्या कम ही रही है।
जिले में हैं 147 निजी स्कूल
जिले के 147 निजी स्कूलों में निशुल्क एवं अनिवार्य बाल शिक्षा के अधिकार के तहत निर्धारित 25 फीसदी सीट पर करीब 2148 विद्यार्थियों को प्रवेश दिया जाना है। 9 मई से आवेदन लिया जा रहा है, जिसकी अंतिम तिथि 26 मई है। जिसमें से अब तक जिले के अशासकीय स्कूलों के लिए अपेक्षाकृत कम ही आवेदन प्रस्तुत किए गए हैं। पिछले सालों में भी जिले में शिक्षा के अधिकार के तहत लाभ पाने वालों की स्थिति कमजोर रही है। पिछले साल 910 विद्यार्थियों को लाभ मिला था, जबकि लक्ष्य 1090 का था। वहीं इस साल ऑनलाइन आवेदन प्रकिया होने के कारण आवेदन करने वालों की संख्या बढऩे की उम्मीद थी ।
ग्रामीण कह रहे प्रचार नजर नहीं आया
बताना होगा कि शिक्षा के अधिकार के तहत प्रवेश पाने वालों के लिए नियुक्त किए गए सहायक नोडल अधिकारीयों को जनप्रतिनिधियों के माध्यम से लक्षित वर्ग तक पहुंचकर प्रवेश के लिए प्रेरित करना है। वहीं गावों व शहर में मुनादी कर लोगों को निजी स्कूलों में प्रवेश के लिए जारी प्रकिया से अवगत कराना है, लेकिन जिले में इस तरह की स्थिति सामने नहीं आई है। पिकरी निवासी भुरू ढीमर ने बताया कि उसे प्रवेश के बारे में किसी प्रकार से जानकारी नहीं थी। न ही प्रचार प्रसार किया गया है। जानकारी होने पर मैं अपने बच्चे के लिए आवेदन जरुर करता। ग्राम लोलेसरा के टिकेंद्र वर्मा ने बताया कि गांव में किसी प्रचार से प्रचार-प्रसार नहीं किया गया है। जिसके कारण वे स्वयं और गांव के कई अब तक आवेदन देने नहीं पहुंचे हैं। ग्राम बीजाभाट के आशीष सिन्हा ने भी प्रचार-प्रसार का अभाव होने की बात कही है।
कई नोडल क्षेत्र में एक भी आवेदन नहीं
जानकारी के अनुसार जिले में कुल 65 सहायक नोडल अधिकारियों को अपने क्षेत्र में लक्षित वर्ग के बच्चों को प्रवेश दिलाने का जिम्मा दिया गया है। जिसमें से अब तक 32 सहायक नोडल अधिकारियों के पास ऑनलाईन आवेदन पहुंचा है। वहीं 33 नोडल क्षेत्र में एक भी आवेदन शिक्षा के अधिकार के तहत नहीं पहुंचा है। जिसके कारण जिले में लक्ष्य पाने में पिछडऩे की आशंका है।
आंगनबाड़ी केंद्रों में भी देनी थी सूचना
नि:शुल्क एवं अनिवार्य बाल शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 के तहत अशासकीय विद्यालयों की आरंभिक कक्षा में आरक्षित 25 प्रतिशत सीटों पर नि:शुल्क प्रवेश के लिए पंपलेट भी वितरित करना है। इसके साथ ही विभाग द्वारा निर्देश जारी किया गया था कि प्रत्येक गांवों में, आंगनबाड़ी केन्द्रों में पंपलेट चस्पा किए जाएं तथा विद्यालय में आने वाले अभिभावकों को भी अवगत कराया जाए। साथ ही ऑनलाईन आवेदन कराने में उनकी सहायता करे। जिससे प्रवेश लेने वालों की संख्या में वृद्धि हो सके।
स्कूल संचालकों को सालभर बाद भी जारी नहीं हुआ फंड
नि:शुल्क शिक्षा के अधिकार के तहत जिले के जिन शासकीय स्कूलों में पूर्व लाभार्थी पढ़ रहे हैं। उनके एवज में शासन द्वारा दिए जाने वाला फंड सत्र बीत जाने के बाद भी स्कूल संचालकों को नहीं मिला है। सन् 2017-18 में अध्ययन कर रहे 2868 विद्यार्थियों के लिए 1 करोड़ 43 लाख का भुगतान किया जाना शेष है। जबकि सत्र बीत चुका है। इस पर जिला शिक्षा अधिकारी एके भार्गव ने बताया कि कुछ फंड मिला था, जिसे जारी कर दिया गया है। आने वाले समय में फंड आने के बाद ही स्कूलों को राशि जारी की जाएगी। वहीं सन् 2016 - 17 की राशि जारी की जा चुकी है। जबकि दीगर जिलों में 3 साल से अधिक का भुगतान रूका हुआ है।
आरटीई के तहत प्रवेश के लिए पालक 25 मई तक ऐसे करें आवेदन
नि:शुल्क एवं अनिवार्य बाल शिक्षा अधिकार अधिनियम (आर.टी.ई.) अंतर्गत आर्थिक रूप से कमजोर एवं वंचित वर्ग के परिवार के बच्चों को प्रदेश के निजी विद्यालय में ऑन लाईन माध्यम से प्रवेश देने के लिए अंतिम तिथि 25 मई निर्धारित की गई है। बेमेतरा शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने बताया कि प्रवेश संबंधी समस्त प्रक्रिया निम्नानुसार है - हितग्राही परिवार के बच्चों के माता-पिता, अभिभावक जन सेवा केन्द्र, इंटरनेट कैफे या किसी भी नागरिक सहयोगी संस्था, जिला शिक्षा अधिकारी/विकासखंड शिक्षा अधिकारी, नोडल प्राचार्य के माध्यम से आवेदन ऑनलाईन वेबसाइट डॉट सीजी डॉट एनआईसी डॉट इन, आरटीई/स्टूडेण्ट , स्टूडेण्ट रजिस्ट्रेशन डॉट एएसपीएक्स में जमा कर सकते हैं। प्रवेश के लिए लॉटरी की प्रक्रिया मई/जून में होगी। अभिभावक अपने आवेदन की स्थिति ऑनलाईन देख सकेंगे एवं एसएमएस के माध्यम से आवश्यक जानकारियां दी जाएगी। प्रवेश संबंधी जानकारी एवं लाटरी के परिणाम आवेदक द्वारा दर्शाए गए मोबाइल नंबर पर भेजी जाएगी। प्रवेश प्रक्रिया की जागरूकता के लिए आंगनबाड़ी केन्द्रों एवं निजी शालाओं में पोस्टर्स उपलब्ध हैं। जिसमें हेल्प लाईन की जानकारी है। इसके लिए 011-395-89101 हेल्प लाईन नंबर है।

Laxmi Narayan Dewangan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned