बेमेतरा जिले में कलेक्टर ने लगाया 9 दिन का टोटल लॉकडाउन, 10 अप्रेल से सिर्फ इमरजेंसी सेवाओं को छूट

बेमेतरा जिले में बढ़ते कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या को देखते हुए कलेक्टर ने 9 दिन का टोटल लॉकडाउन लगा दिया है। (coronavirus in chhattisgarh)

By: Dakshi Sahu

Published: 08 Apr 2021, 06:14 PM IST

बेमेतरा. दुर्ग संभाग के बेमेतरा जिले में बढ़ते कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या को देखते हुए कलेक्टर ने 9 दिन का टोटल लॉकडाउन लगा दिया है। गुरुवार को कलेक्टर ने आदेश जारी करते हुए बताया कि जिले में 10 अप्रेल से 19 अप्रैल तक पूर्ण लॉकडाउन रहेगा। सरकारी दफ्तर, व्यापार के साथ-साथ शराब दुकानें भी इस दौरान बंद रहेगी। बिना वजह बाहर घूमने वालों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। मेडिकल, शासकीय और एमरजेंसी वाहन को छोड़ अन्य वाहनों को पेट्रोल डीजल नहीं दिया जाएगा। कलेक्टर शिव अनंत तायल ने बताया कि लॉकडाउन में केवल इमरजेंसी सेवाएं ही चालू रहेंगी। इसके अलावा किसी भी सेवा को लॉकडाउन में छूट नहीं दी गई है। बेमेतरा से पहले दुर्ग, रायपुर और राजनांदगांव जिले में कोरोना से बिगड़ते हालातों को देखकर लॉकडाउन लगाया गया है।

301 नए कोरोना मरीजों की पुष्टि, दो की मौत
बुधवार को बेमेतरा जिले में कोरोना के 301 मरीज मिले। जिसमे सबसे अधिक 111 मरीज बेरला ब्लॉक, बेमेतरा में 104, साजा में 50 और नवागढ़ में 36 मरीजो की पहचान हुई है। वही इलाज के दौरान दो मरीज की मौत हो गई है। साजा नगरीय निकाय में संपूर्ण लॉकडाउन के कारण मरीजो की संख्या में गिरावट आई है, इसके विपरीत बेमेतरा शहर समेत ब्लॉक में बीते एक सप्ताह में हालात बिगड़े है । हर रोज बेमेतरा ब्लॉक में 100 से अधिक मरीज मिल रहे है।

रिपोर्ट में देरी से मरीजों की तबीयत बिगड़ी
कोरोना पुष्टि के लिए जिले से मेडिकल कॉलेज राजनांदगांव में आरटीपीसीआर जांच के लिए भेजे गए करीब 3 हजार सैम्पल की रिपोर्ट आना बाकी है। मंगलवार को एंटीजन टेस्ट किट खत्म होने पर 821 लोगों के सैम्पल लेकर आरटीपीसीआर जांच के लिए भेजे गए हैं। कोरोना संक्रमण बढऩे के साथ टेस्टिंग व वैक्सीनेशन में तेजी आई है। वहीं जांच किट की पर्याप्त उपलब्धता नहीं होने के कारण बड़ी संख्या में सैम्पल आरटीपीसीआर जांच के लिए भेजे जा रहे हैं। इसलिए रिपोर्ट आने में समय लग रहा है। आलम यह है आरटीपीसीआर रिपोर्ट मिलने में 5-6 दिन लग रहे हैं। रिपोर्ट मिलने तक इलाज को लेकर लोगो में असमंजस की स्थिति है। हालांकि एंटीजन टेस्ट और ट्रू नाट की अपेक्षा आरटीपीसीआर रिपोर्ट की विश्वसनीयता अधिक है। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार रोजाना औसत 400 सैम्पल आरटीपीसीआर जांच के लिए भेजे जा रहे हैं। वैक्सीन और किट नहीं होने पर मंगलवार की जिले में कोरोना वैक्सिनेशन व एंटीजन टेस्ट प्रभावित रहा। बुधवार को शासन से 4500 टेस्टिंग किट और 22 हजार वैक्सीन का लाट मिला है। जिसमें बेमेतरा, बेरला, नवागढ़ व साजा ब्लॉक को 800-800 किट व 5400-5400 वैक्सीन का वितरण किया गया है। वर्तमान में शासन से प्राप्त किट और वैक्सीन तीन दिनों का कोटा है।

Dakshi Sahu Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned