आने वाले दिनों में यहां होगी भर्ती, कलक्टर ने मांगी रिक्त पदों की जानकारी

उधार के कर्मियों के भरोसे चल रहा जिले का कामकाज, 6 साल में भी नहीं हो पाई 60 कर्मियों की भर्ती, दूसरे विभागों में भी कामकाज पर पड़ रहा असर

By: Laxmi Narayan Dewangan

Published: 25 Apr 2018, 12:22 AM IST

बेमेतरा. जिला गठन 6 साल के बाद जिला कार्यालय में कई पद रिक्त हैं। यहां कई जिम्मेदार पद पर दूसेर विभाग के उधार पर आए कर्मचारी कार्यरत हैं। जिसके कारण इन कर्मचारियों को मुक्त नहीं किया जा सका है। सेटअप के अनुसार जिला कार्यालय मे विभिन्न वर्ग के कुल 60 कर्मचारियों को नियुक्त किया जाना है। इसमें प्रमुख पदों को छोड़ कर दीगर पदों में 20 कर्मचारियों की कमी है। अधीक्षक का एक पद, स्टेनेग्राफर का एक पद, सहायक गे्रड -2 का 2 पद, सहायक गे्रड -3 का 2 पद, वाहन चालक के सभी 5 पद रिक्त हैं। चतुर्थ वर्ग मे मालजमादार का एक, दफ्तरी का एक पद, फर्रास का एक पद, चौकीदार के 3 पद, अर्दली के 2 पद रिक्त हैं, वहीं अशंकालीन स्वीपर का एक पद रिक्त है।
दीगर विभागों से आए कर्मचारी वापस नहीं लौटे
1 जनवरी 2012 को जिला गठन किया गया। इसके बाद कार्य संचालित करने के लिए दुुर्ग व बेमेतरा जिले के कर्मचारियों को अटैच किया गया था। सबसे अधिक स्टाफ जिला शिक्षा विभाग से लिए गए थे। जिसमें से आज भी 4 कर्मचारी लिपिक वर्ग व 4 कर्मचारी वर्ग 4 के हैं, जिन्हें मुक्त नहीं किया गया है। शिक्षा विभाग के कर्मचारियों को अटैच करने के कारण प्रभावित स्कूलों व कार्यालयों में कामकाज प्रभावित होने की बात सामने आई है। उच्च कार्यालय का मामला होने के कारण अस्थायी तौर पर दूसरे को जिम्मेदारी सौंप कर अपने विभाग के कर्मचारियों को मुक्त करने का इंतजार किया जा रहा है। वहीं जिले के दीगर विभागों में कार्यरत चालकों को ही वाहन चालक के तौर पर अटैच कर दिया गया है जिसके कारण मूल विभागो में अस्थायी वाहन चालकों से कार्य कराया जा रहा है।
राजस्व अमले मे 84 कर्मचारियों की कमी
जिला कार्यालय के आलावा साजा, बेमेतरा, नवागढ़ व बेरला अनुविभागीय कार्यालयों एवं बेेमेतरा, साजा, नवागढ़, बेरला थानखम्हरिया के तहसील कार्यालयों में रिक्त पदों की स्वीकृत पदों की संख्या 30 फीसदी के करीब है। जिले में राजस्व अमले के सेटअप के अनुसार कार्यालयीन पदों के लिए कुल 204 पद स्वीकृत किए गए हैं। जिसमें से 120 कर्मचारी कार्यरत हैं शेष 84 कर्मचारियों के पद रिक्त हैं। रिक्त पदों में सबसे अधिक प्रभावित लिपकीय वर्ग के पद हैं, जिसमें दोनों वर्ग के कुल 81 पदों में से 55 कार्यरत हंै, वहीं 26 रिक्त है। वहीं वाहन चालक के कुल 14 पदों मे से केवल दो पद भरे हैं। 12 पद रिक्त हैं। स्टेनो टाइपिस्ट के 3 पद, मालजमादार के सभी 5 पद, फर्रास के सभी 5 पद, चौकीदार के सभी 7 पद, प्रोस्ेास सर्वर के 6 पद, अर्दली के 2 पद, भृत्य के 5 पद व अंशकालीन स्वीपर के सभी 5 पद रिक्त है। पूर्व में जिला प्रशासन द्वारा रिक्त पदों की भर्ती के लिए प्रक्रिया शुरू की गई थी, जो विवादों के कारण आज तक लबित हैं।
डिप्टी कलक्टर के पद रिक्त, तीन नायब तहसीलदार भी चाहिए
जानकारी के अनुसार जिले मे डिप्टी कलक्टर के एक पद, तहसीलदार के एक पद, नायब तहसीलदार के 3 पद, अधीक्षक के एक पद रिक्त हंै जिले में प्रशासनिक स्तर के पदों की भी कमी है।जानकार मानते हैं कि पदों की कमी का असर कामकाज पर पड़ता है। सबसे अधिक नुकसान अटैच किए गए कर्मचारी के मूल विभाग को होता है जहां पर एक कर्मचारी के भरपाई के लिए दीगर कर्मचारी का सहारा लिया जाता है। इस संबंध में कलक्टर महादेव कावरे ने कहा कि रिक्त पदों की जानकारी मंगाई गई है आने वाले 48 घंटे में फाइल प्रस्तुत करने कहा गया है। जिसके बाद आगे की कार्रवाई तय की जाएगी।

Laxmi Narayan Dewangan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned