बेमेतरा जिले के इस गांव में भूतों के नाम पर बांट दिया पेंशन, सचिव के करनामे की ग्रामीणों ने खोली पोल

पंचों ने कहा कि जिन ग्रामीणों का देहांत बरसों पहले हो गया है, उनका नाम वृद्धा पेंशन योजना से अभी भी जुड़ा हुआ है।

By: Dakshi Sahu

Updated: 29 Jun 2020, 01:39 PM IST

बेमेतरा. जिला मुख्यालय से 5 किमी दूर स्थित ग्राम नवलपुर में मृतकों के नाम पर पेंशन का भुगतान किया जा रहा है। इस माामले में पंचायत सचिव की शिकायत करते हुए ग्रामीणों ने जिला पंचायत सदस्य प्रज्ञा निर्वाणी को ज्ञापन सौंपकर बर्खास्त करने की मांग की है। पंचायत के पंचों व ग्रामीणों ने उपसरपंच कृष्णा साहू के साथ पहुंच जिला पंचायत सदस्य से जांच करने की मांग की है। वे सचिव की मनमानीपूर्ण रवैये से त्रस्त हैं।

ग्रामीणों का कहना है कि पिछले 10 साल से एक ही पंचायत में पदस्थ होने के कारण उसका दु:साहस चरम पर है। पंच सरपंच सभी नए बने हैं, नियमों की वैसी जानकारी नहीं है जैसे अनुभवियों को रहती है। इसका फायदा उठाकर पंचायत सचिव रुद्रमणी मनमानी कर रहा है। उप सरपंच ने ग्रामीणों के हस्ताक्षर युक्त ज्ञापन सौंपकर बेहद ही गंभीर आरोप लगाते हुए सचिव को पद मुक्त या स्थानांतरित करने की मांग की है।

पंचों ने कहा कि जिन ग्रामीणों का देहांत बरसों पहले हो गया है, उनका नाम वृद्धा पेंशन योजना से अभी भी जुड़ा हुआ है। जबकि 70 से 80 साल के जो बुजुर्ग निराश्रित हैं और पात्र हैं, उन्हें पेंशन योजना का लाभ नहीं मिल रहा है। उपसरपंच ने सूची सौंपते हुए बताया कि पार्वती/सीताराम, मांगतीन/महावीर, बिरझा /देवसिंह, गनेशिया/कृपाराम, सोनकी/अलेन साहू आदि को मरणोपरांत वृद्धा पेंशन प्राप्त हो रहा है। गांव के आबादी जमीन के पट्टे पैसे लेकर बाँट दिए गए हैं। राजस्व विभाग से इनकी जांच होनी चाहिए। अपने परिवार के लगभग 20 लोगों को जमीन के पट्टे दे दिए, जिसमे नाबालिग भी शामिल है। सचिव गांव में आता ही नहीं है। इस तरह की आर्थिक अनियमितताओं की शिकायत ग्रामीणों व पंचों ने जिला पंचायत सदस्य से की।

कॉल करने पर बंद मिला पंचायत सचिव का फोन
वस्तु स्थिति की जानकारी और आरोपों के सत्यता की पुष्टि के लिए निर्वाणी ने ग्रामीणों के सामने सचिव को फोन किया परन्तु सचिव के दोनों नंबर बंद थे। ग्रामीणों ने बताया कि सचिव को पता था, हम सब शिकायत करने आपके पास आ रहे हैं, इसलिए उसने फोन बंद कर दिया है। जिला पंचायत सदस्य ने ग्रामीणों और जनप्रतिनिधियों को आश्वस्त किया कि सचिव पर लगाए गए आरोपों की जांच की जाएगी और दोष सिद्ध होने पर उस पर अनुशासनात्मक कार्रवाई और राज्य सरकार के राजस्व को कूटरचना के माध्यम से हड़पने की साजिश के तहत कानूनी कार्रवाई की अनुशंसा की जाएगी। जिला पंचायत सदस्य से मिलने वालों में घनश्याम साहू, रमेश साहू, उरांव साहू, चुम्मन साहू सहित ग्रमीण आए हुए थे।

Show More
Dakshi Sahu Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned