चहेतों को रातोंरात जारी किया टोकन, रतजगा करने वाले को एक माह बाद बुलाया तो आक्रोशित किसानों ने किया हंगामा

सेवा सहकारी समिति कुसमी में कई दिनों तक रतजगा करने के बावजूद किसानों को टोकन नहीं मिल पा रहा है। वहीं अपने चहेते किसानों को रातोंरात टोकन जारी कर दिया गया।

By: Laxmi Narayan Dewangan

Published: 03 Dec 2019, 07:12 AM IST

बेमेतरा . खेत में धान उगाने से लेकर खरीदी केन्द्र तक पहुंचाने में किसानों को हर मोर्चे पर संघर्ष करना पड़ रहा है। हालत यह है कि खरीदी केंद्र में धान बेचने के लिए कई दिनों तक रतजगा करने के बावजूद किसानों को टोकन नहीं मिल पा रहा है। वहीं अपने चहेते किसानों को रातोंरात टोकन जारी कर दिया गया। मामला सेवा सहकारी समिति कुसमी का है। यहां समिति की ओर से एक माह तक के लिए टोकन जारी कर दिया गया। यानि एक माह की अवधि में समिति के किसी भी किसान को टोकन जारी नहीं किया जाएगा। समिति प्रमुखों के इस रवैये से किसानों में खासी नाराजगी है। सोमवार को टोकन जारी नहीं होने से समिति पहुंचे किसान प्रदर्शन करने लगे। समिति प्रबंधक व अध्यक्ष के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। प्रदर्शन में राजेश कुमार, जितेन्द्र वर्मा, खिलावन देवांगन, कैलाश मिरी, शोभाराम, रामकिशुन, दुर्गेश, बिहारी लाल समेत 100 से अधिक किसान शामिल थे।

रतजगा करने के बावजूद बैरंग लौटे किसान
ग्राम बहेरा के किसान राजू वर्मा ने बताया कि टोकन के लिए रविवार रात से समिति के बाहर डटे हुए थे। सोमवार सुबह समिति खुलने पर प्रबंधक ने टोकन जारी करने से साफ इंकार कर दिया। उन्होने शनिवार को समिति की ओर से 445 किसानों को टोकन जारी करने की बात कहकर लौटने के लिए कह दिया। प्रबंधक की बात सुनकर किसान आक्रोशित होने के साथ प्रदर्शन करने लगे।

मुनादी कराए बिना गुपचुप तरीके से चहेते किसानों को जारी किया टोकन
ग्राम कुसमी के किसान गुप्तादास टंडन, राजेश कुमार ने बताया कि समिति प्रबंधक व अध्यक्ष ने किसानों को टोकन जारी करने के पहले संबंधित गांवों में कोटवार के माध्यम से मुनादी कराने का आश्वासन दिया था। बकायदा इसकी सूचना समिति के सूचना पटल पर चस्पा की गई थी। लेकिन गांवों में मुनादी कराए बिना गुपचुप तरीके से समिति प्रमुखों के चहेते किसानों को टोकन जारी किया गया है। अब गरीब किसान टोकन के लिए समिति के चक्कर काट रहे हैं।

मुख्य समिति व उपकेन्द्र में 20 हेक्टेयर रकबा घटाया
हर समिति में रकबा अपडेट करने के नाम पर पंजीकृत रकबा को घटाने का खेल चल रहा है। कुसमी समिति व उपकेन्द्र खुड़मुड़ी में करीब 20 हेक्टेयर रकबा घटाया गया है। जानकारी के अनुसार कुसमी समिति में 1304 व खुड़मुड़ी उपकेन्द्र में 570 किसान पंजीकृत हैं। वर्तमान में कुसमी समिति के 445 किसानों को 680 हेक्टेयर रकबा के लिए मैनुअल टोकन जारी किया गया है।

एक माह का टोकन बगैर मुनादी कराए जारी करना गलत है
जिला सहकारी बैंक बेमेतरा के नोडल अधिकारी एमएल वारे ने कहा कि आपके माध्यम से जानकारी मिली है, मौखिक जानकारी मांगी जाएगी। जरुरत पडऩे पर नोटिस जारी कर लिखित में जवाब मांगा जाएगा। एक माह का टोकन बगैर मुनादी कराए जारी करना गलत है। कुसमी समिति के प्रबंधक रामदयाल साहू ने कहा कि समिति के सदस्यों के साथ पहुंचे सभी किसानों को 2 जनवरी तक टोकन जारी किया गया है। इसलिए सोमवार को समिति पहुंचे किसानों को टोकन जारी करना संभव नहीं हो पा रहा है, उन्हें समझाइश दी गई है कि इस अवधि में हर दिन 3-4 किसानों को टोकन जारी कर एडजस्ट किया जाएगा।

Laxmi Narayan Dewangan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned