१३ करोड़ की लागत से बन रहे इस जच्चा-बच्चा केंद्र से सुधरेगी मासूमों की सेहत, मिलेगी यहां ये खास स्वास्थ्य सुविधा

१३ करोड़ की लागत से बन रहे इस जच्चा-बच्चा केंद्र से सुधरेगी मासूमों की सेहत, मिलेगी यहां ये खास स्वास्थ्य सुविधा

Dakshi Sahu | Publish: Mar, 15 2018 07:00:00 AM (IST) Bhilai, Chhattisgarh, India

जिला चिकित्सालय के 13 करोड़ रुपए की लागत से बन रहे महतारी बच्चा अस्पताल का लाभ कुछ माह बाद मिलने की उम्मीद है।

बेमेतरा. जिला चिकित्सालय के 13 करोड़ रुपए की लागत से बन रहे महतारी बच्चा अस्पताल का लाभ कुछ माह बाद मिलने की उम्मीद है। अस्पताल निर्माण का कार्य पूरा हो चुका है। सेटअप के कार्यों को पूरा करने का कार्य चल रहा है। अस्पताल में बच्चों के इलाज के लिए उपकरण पहुंचने लगा है। केंद्रीय योजना के तहत बन रहे अस्पताल को अब स्टाफ की नियुक्ति और उपकरणों को इंस्टाल करने के बाद शुरू किया जाएगा।

समयावधि के दो साल के बाद भी नहीं बना अस्पताल

बताना होगा कि समयावधि के दो साल बीत जाने के बाद भी अस्पताल नहीं बन पाया है। जिसके कारण बच्चों को मिलने वाली सुविधाएं व उपचार नहीं हो पा रहा है। परिणाम स्वरूप बच्चों के ईलाज कराने के लिए जिलेभर के मरीजों को प्राइवेट अस्पतालों में अधिक राशि खर्च करनी पड़ रही है।

अस्पताल बनने से सभी सुविधाएं मिलने लगेगी और कम खर्च में बच्चों का इलाज हो सकेगा। वर्तमान में अस्पताल में अभी खिडक़ी दरवाजा व प्लबिंग का काम चल रहा है। जिसे पूरा होने में कुछ महीने और लगने की संभावना है। इधर ठेकेदार ने अप्रैल के अंत तक कार्य पूरा करने की बात कही है।

बच्चों के उपचार के लिए पहुंचे ये उपकरण

जिला अस्पताल में करीब 45 लाख की मशीन पहुंच गई है। प्रभारी मारकण्डे ने बताया कि बच्चों के अस्पताल के 6 मशीन के 22 नग उपकरण पहुंच गए हैं। जिसमें सर्जरी के पूर्व बेहोश करने की मशीन, ओटी में सर्जरी करने की कॉटी, अस्पताल के वातावरण को शुद्ध रखने के लिए इन्वाटोमेंट डी कन्टामिनेशन मशीन, जन्म के समय गर्मी देने के लिए 14 नग इन्फेंट रेडिमेंन्ट मशीन, वाटर बाथ, ब्लड में सेल्स काउटिंग करने की ब्लड सेल काउंटर मशीन शामिल हैं। इन उपकरणों की सेवा चिकित्सकों के पहुंचने पर शुरू की जाएगी। तीन-चार महीने में बच्चों को सुविधाएं मिलने लगेगी।

खिडक़ी-दरवाजे और प्लंबिंग का काम बाकी

वर्तमान में अस्पताल प्रांगण में रोड निर्माण का कार्य चल रहा है। इसके पूरा होने के बाद अस्पताल के भीतरी तलों के शेष कार्यों को शुरू किया जाएगा। तीन मंजिला अस्पताल में खिडक़ी, दरवाजा, ओटी, बिजली वायरिंग, एसी सेटअप, डोम की सीट निर्माण का कार्य शेष है। जिनका कार्य चल रहा है।

मजदूरों ने बताया कि दो से तीन माह में कार्य पूरा कर लिया जाएगा। खिडक़ी-दरवाजे लगाने के बाद कांच लगाया जाएगा। सिविल सर्जन डॉ एसके पाल ने बताया कि जच्चा-बच्चा अस्पताल निर्माण का कार्य अंतिम चरण में है। चिकित्सकों के आते ही काम शुरू किया जाएगा। अभी 22 नग उपकरण प्राप्त हुए हैं। जिसे अस्पताल में सुरक्षित रखा गया है।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned