ऐसे होटल का बिल बनाया जिसका वजूद ही नहीं

महिला एवं बाल विकास विभाग के खंडसरा और दाढ़ी परियोजना के अधिकारियों ने ऐसे होटल का बिल बनाया जिसका कोई वजूद ही नहीं है।

By: Rajkumar Bhatt

Published: 24 May 2018, 06:00 AM IST

 

बेमेतरा/नवागढ़ . महिला एवं बाल विकास विभाग बेमेतरा में अधीनस्थ कार्यालय नवागढ़, नांदघाट व खंडसरा में फर्जीवाड़ा करने अधिकारी सभी सीमाएं पार कर दिए। पहले तो खंडसरा व दाढ़ी जैसे छोटे कस्बे से 92 रुपए प्लेट की समोसा खरीदी का बिल बनाया। बाद में पांच का पंद्रह का बिल में कांटछांट कर दिए। इससे अधिक फर्जी क्या हो सकता है कि अपनी मर्जी से होटल का नामकरण कर लिए।

न गुप्ता जी का होटल मिला न हरीश जी मिले

मुख्यमंत्री बाल संदर्भ योजना के तहत वर्ष 2015-16 में खंडसरा परियोजना में 2320 रुपए किलो कलाकंद खरीदी के बाद परियोजना का एक और फर्जी बिल आया। इसमें 13 प्लेट समोसा का 1195 रुपए देना बताया गया। विभाग ने 92 रुपए के भाव से जहां से समोसा खरीदा, उस होटल का दर्शन करने के लिए दो आदमी दो दिन तक घूमे पर वह होटल नहीं मिला। खंडसरा में गोपी होटल के नाम पर क्रमश: एक हजार व पंद्रह सौ रुपए के दो बिल लगाए गए हैं। सत्यता का पता करने गंगाराम यादव ने खंडसरा का एक-एक कोना तलाशा पर उसे वहां पर गोपी होटल नहीं मिला। बाजार चौक दाढ़ी के गुप्ता होटल के नाम पर दो बिल लगाकर राशि आहरण किया गया पर दाढ़ी में इस होटल की तलाश की तो न गुप्ता जी का होटल मिला न प्रोपाइटर हरीश जी मिले।

मोबाइल नंबर भी मंदसौर का

यह कहावत सत्य साबित हुआ कि चोर निशान छोडक़र जाता है। खंडसरा के गोपी होटल व दाढ़ी के गुप्ता होटल के बिल में प्रोपाइटर का मोबाइल नंबर 97533224037 लिखा है पर यह नंबर अल्ताफ खान मंदसौर वाले का है। उन्होंने बताया कि वे लगभग 8 साल से इसका उपयोग कर रहे हैं। खंडसरा वालों ने यह नंबर कहां से पाया अल्ताफ भी हैरान हैं। उन्होंने कहा कि मंदसौर का अफीम प्रसिद्ध है अब वे बेमेतरा के समोसा का प्रचार करेंगे। मामले में जिला कार्यक्रम अधिकारी, महिला एवं बाल विकास विभाग, बेमेतरा राजेंद्र कश्यप ने बताया कि पुराने बिलों में किसने क्या किया, यह जांच में सामने आएगा।

Rajkumar Bhatt
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned