लोटाधारियों को रोकने के लिए तालाबों में लगाई गई नपा कर्मियों की ड्यूटी

लोटाधारियों को रोकने के लिए तालाबों में लगाई गई नपा कर्मियों की ड्यूटी

Laxmi Narayan Dewangan | Publish: Dec, 08 2018 11:37:44 PM (IST) Bemetara, Bemetara, Chhattisgarh, India

शहर को खुले में शौच मुक्त बनाने के लिए की पहल, कर्मचारी रोज सुबह-शाम 5 से 8 बजे तक करेंगे निगरानी

बेमेतरा . तालाबों में लोटाधारियों को खुले में शौच जाने से रोकने के लिए नगर पालिका द्वारा कर्मियों को तालाब किनारे तैनात कर दिया गया है। जिसके बाद कर्मचारी रोज सुबह 5 से 8 बजे और शाम को 5 से 8 बजे तक तालाब किनारे ही पहरा दे रहे हैं। बताना होगा कि स्वच्छता को बरकरार रखने व ओडीएफ की शर्तों का पालन करने के लिए नगर पालिका प्रशासन द्वारा इस बार तालाबों की निगरानी की जा रही है। इसके लिए शहर के 6 तालाबों को चिन्हित कर 12 कर्मचारियों को तैनात किया गया है, जो निर्धारित समय पर तालाबों के पास तैनात रहेंगे और पूरे तालाब की निगरानी करेंगे।
इन कर्मचारियों पर है जिम्मेदारी
नगर पालिका कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार योगेन्द्र साहू, प्रमोद ठाकुर की ड्यूटी सिंघौरी तालाब, हरमन वर्मा, अरविंद मिश्रा, दुष्यंत राव, अशोक ठाकुर, रूपेन्द्र वर्मा की ड्यूटी कोबिया तालाब, संतोष वर्मा, रामाधार वर्मा, गणेश धृतलहरे व अशोक वर्मा की ड्यूटी मोहभटठा तालाब, गौरव केशरवानी, एससी साहू, विनीत ठाकुर, बशीर खान, मारकंडेय साहू, ताराचंद मानदेव व सेामेश सिन्हा की ड्यूटी बाधा तालाब, विकास सोनकर, ईश्वर वर्मा व देवेन्द्र बनाफर को कईहा तालाब में तैनात किया गया है। कामदेव वर्मा, अर्जुन यादव को शीतला मंदिर तालाब सिघौरी व नगर पालिका कार्यालय में तैनात किया गया है।
इन पर रहेगी इनकी नजर
कर्मचारियों की तैनाती के बाद मौके पर निगरानी के लिए जिम्मेदारी दी गई है। जिसमें वार्ड एक से वार्ड सात तक केएन ताम्रकार, वार्ड 8 से 14 तक हर्षा तिवारी व वार्ड 15 से 21 के लिए जिज्ञासा जैन को जिम्मेदारी दी गई है। वहीं सहायक नोडल अधिकारी के तौर पर श्रीनिवास द्विवेदी को नियुक्त किया गया है। शौचालयों की निगरानी के लिए लेखापाल पोषण सिंह ठाकुर को करना है। सीएमओ मोहेंद्र सिंह ने कहा कि लोगों में स्वच्छता जागरूकता लाने के लिए प्रयास किया जा रहा है, जो अनवरत जारी रहेगा।
तालाबों मे रोशनी नहीं, विवाद होने की है आशंका
पालिका की टीम को तालाबों की निगरानी करने का आदेश तो दे दिया गया है, लेकिन नगर के ज्यादातर तालाबों में लाइट नहीं होने से शाम होते ही अंधेरा हो जाता है। ऐसे में कर्मियों को तालाबों की निगरानी करने में दिक्कत होगी। साथ ही विवाद होने की भी आशंका है। निगरानी के दौरान कर्मियों की सुरक्षा के लिए कोई उपाय नहीं किए गए हैं। इससे कभी भी अनहोनी हो जाने की भी आशंका है। बहरहाल शहर में लोटाधारियों पर पाबंदी के लिए किए जा रहे प्रयास से खुले में शौच करने वालों को रोकने में सफलता मिलने की उम्मीद है।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned