फर्जी पति बनाकर दिया बच्ची को जन्म फिर फेंक दिया नवजात को मरने, पुलिस ने पकड़ा तो कलयुगी मां ने अपनाने से किया इनकार

फर्जी पति बनाकर दिया बच्ची को जन्म फिर फेंक दिया नवजात को मरने, पुलिस ने पकड़ा तो कलयुगी मां ने अपनाने से किया इनकार
फर्जी पति बनाकर दिया बच्ची को जन्म फिर फेंक दिया नवजात को मरने, पुलिस ने पकड़ा तो कलयुगी मां ने अपनाने से किया इनकार

Dakshi Sahu | Updated: 09 Oct 2019, 11:12:32 AM (IST) Bemetara, Bemetara, Chhattisgarh, India

अपनी नवजात बच्ची को किसान भवन के पास फेंकने वाली निर्दयी व निष्ठुर मां का पता चल गया है। पुलिस ने उसे ग्राम कोदवा से गिरफ्तार कर लिया है।

बेमेतरा. अपनी नवजात बच्ची को किसान भवन के पास फेंकने वाली निर्दयी व निष्ठुर मां का पता चल गया है। पुलिस (Bemetara police) ने उसे ग्राम कोदवा से गिरफ्तार कर लिया है। मां ने अपनी बच्ची को अपनाने से इनकार कर दिया है। हालांकि उसने बच्ची उसकी होना स्वीकार कर लिया है। उसे सखी सेंटर में रखा है। पुलिस का कहना है कि अवैध संतान का मामला है।

नहीं रखना चाहती बच्ची को अपने पास
पुलिस के अनुसार 19 वर्षीय मां ने उसे जिला अस्पताल में ही एक अक्टूबर को जन्म दिया था। गिरफ्तार करने के बाद पुलिस उसे जिला अस्पताल लेकर पहुंची थी, जहां उसने बच्ची से मिलने या देखने की बिल्कुल भी रुचि नहीं दिखाई। पुलिस ने उसके खिलाफ धारा 317 के तहत कार्रवाई की है। पहले मां को बाल कल्याण समिति के पास भेजा गया था। इसके बाद भी उसने बच्ची को अपने पास रखने के लिए तैयार नहीं हुई।

Read more: नवरात्रि में तीन दिन की जिंदा बच्ची को फेंक दिया मरने, भीड़ देखते रही तमाशा, फरिश्ता बनकर 21 साल के युवक ने गोद में उठाया....

लोगों ने शक के आधार पर पकड़ा
पुलिस के अनुसार मां और उसके परिजन मूलत: उत्तरप्रदेश के रहने वाले हैं। वे लोग फेरी का काम करते हैं। जगह-जगह घूम-घूम कर सामान बेचते हैं। यह परिवार कोदवा गांव में रुका हुआ था। सोमवार को किराए के वाहन से सपरिवार जाने की तैयारी में थे। तभी गांव वालों ने शक के आधार पर उन लोगों को पकड़ लिया। इसके बाद पुलिस को सूचना दी।

Read more: लावारिस नवजात बच्ची को अस्पताल में मिली यशोदा मां, करा रही स्तनपान ....

सिटी कोतवाली पुलिस ने आरोपी महिला को गिरफ्तार कर लिया। बताया गया है कि घूम-घूम कर कारोबार करने के दौरान ही किसी लड़के से उसके अवैध संबंध बन गए थे, जिससे वह गर्भवती हो गई थी। इसके बाद परिजन ने बच्ची के जन्म के बाद उसे कहीं छोड़ देने पर सहमति बनाई। चार अक्टूबर को बच्ची को फेंक दिया गया।

बच्ची को नहीं मिल रही मां की ममता
आठ दिन की बच्ची को उसकी मां की ममता नहीं मिल पा रही है। समाजसेवी ताराचंद माहेश्वरी ने इस पर चिंता जताई है। उन्होंने कहा कि उनका प्रयास किसी अपराध के दोषी पकड़वाने का नहीं था बल्कि वे चाहते हैं कि बच्ची को उसकी मां मिल जाए। लेकिन मां ने बच्ची को रखने से इनकार कर दिया है।

पति का नाम फर्जी
लड़की की डिलीवरी जिला अस्पताल बेमेतरा (Bemetara District hospital) में हुई। लेकिन अविवाहित होने के कारण उसने पति का फर्जी नाम दर्ज कराया था। वह 1 से लेकर 3 अक्टूबर तक अस्पताल में भर्ती थी। अस्पताल से छुट्टी के बाद बच्ची को फेंक दिया। जब उसके पहचान वालों ने उसके बच्चे के बारे में पूछा तो बता दिया कि बच्चा मृत पैदा हुआ था। जिसे दफन कर दिया है। लेकिन लावारिस बच्ची के मिलने की खबर से ग्रामीणों को इस पर शक था। जब वे सोमवार को सपरिवार जाने की तैयारी में थे, उन्हें पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned