13 दिनों से स्वास्थ्य केंद्र नहीं आई एएनएम, बनाया पंचनामा

कर्मचारी अभी भी पुराने ढर्रे पर कर रहे काम

By: yashwant janoriya

Published: 31 Mar 2020, 11:23 PM IST

मुलताई. कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने स्वास्थ्य विभाग का अमला 24 घंटे काम में लगा हुआ है, लेकिन कुछ कर्मचारी अभी भी पुराने ढर्रे पर काम कर रहे हैं। सर्रा में एएनएम पिछले 13 दिनों से उप स्वास्थ्य केंद्र पर नहीं पहुंची है। ग्रामीणों की शिकायत पर सोमवार को बीएमओ उदय प्रताप सिंह तोमर ने पंचनामा तैयार किया है। बीएमओ तोमर ने बताया कि एएनम निर्मला उप स्वास्थ्य केंद्र सर्रा में 18 मार्च को मुख्यालय से अनुपस्थित है। इसके पूर्व भी कई बार वह मुख्यालय से अनुपस्थित रह चुकी है। उन्हें कारण बताओ नोटिस थमाए जा चुके है, लेकिन इसके बाद भी उनकी कार्यशैली में कोई सुधार नहीं आया है । सोमवार को बीएमओ ने सरपंच, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता की उपस्थित में पंचनामा तैयार किया गया है।

नहीं थम रही खड़े ट्रकों से डीजल चोरी की वारदात
सारनी. ट्रांसपोर्ट नगर कालीमाई और रिहायशी क्षेत्रों में खड़े ट्रकों से डीजल चोरी थमने का नाम नहीं ले रही। बीती रात कालीमाई में खड़े 10 चका वाहन की टंकी में गड्ढा करके अज्ञात चोरों द्वारा डीजल चोरी कर लिया गया है। इस तरह की वारदात इससे पहले भी कई बार हो चुकी है। बावजूद इसके अब तक चोरों के विरूद्ध पुलिस द्वारा कठोर कार्रवाई नहीं की है। इससे चोरों के हौसले बुलंद होते जा रहे हैं। ट्रक मालिक अनीश कुरैशी ने बताया डीजल टैंक में तोडफ़ोड़ करने से 4 हजार रुपए का नुकसान तो हुआ ही है। अतिरिक्त डीजल चोरी से हजारो ंरुपए का नुकसान हुआ है। उन्होंने बताया आए दिन ट्रांसपोर्ट नगर कालीमाई, कोयला खदान परिसर और कालोनियों के भीतर खड़े वाहनों से डीजल चोरी होने की वारदात हो रही है। इससे ट्रांसपोर्ट नगर कालीमाई के व्यापारियों और ट्रक ऑनरों में नाराजगी है।

कोरोना वायरस को गंभीरता से नहीं ले रहे लोग
सारनी. खदान मजदूर संघ लाल झंडा एटक के वरिष्ठ नेता व स्वतंत्रता संग्राम सेनानी डॉ. कृष्णा मोदी ने आम जनता से आग्रह किया है कि कोरोना बीमारी को नजर अंदाज नहीं करे। इस बीमारी को गंभीरता से ले।विश्व के लगभग सभी देश इस बीमारी से जूझ रहे हैं। कोरोना वायरस के संक्रमण का असर विश्व के देशों पर कितनी तेजी से हो रहा है।इसका अंदाजा विश्व के करीब 18 6 देशों में संक्रमण मिलने से ही लगाया जा सकता है। बावजूद इसके भारत की जनता इस बीमारी को गंभीरता से नहीं ले रही।जिसके दुष्परिणाम जल्द ही सामने आने से इंकार नहीं किया जा सकता। स्वतंत्रता संग्राम सेनानी ने आम जनता से आग्रह किया है कि इस बीमारी से लडऩे सावधानी बरतने की जरूरत है। वर्ष 2002 में सारस और कोविड-1 बीमारी ने दक्षिण चाइना में काफी असर छोड़ा था। 2019 में कोविड-19 कोरोना वायरस की चपेट में दुनिया के लगभग सभी देश आ गए हैं। इससे बचने के लिए जरूरी है कि सरकार द्वारा किए गए लॉक डाउन का पूर्ण पालन करे।

yashwant janoriya
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned