बिजली के नंगे तार बन रहे पक्षियों और बंदरों की मौत की वजह

सीसीएफ बोले- वन्य जीवों को करंट से बचाने संबंधित विभागों को लिखे जाएंगे पत्र

By: yashwant janoriya

Published: 22 Jan 2020, 10:31 PM IST

सारनी. शहरी क्षेत्र में करंट लगने से वन्य जीवों की मौत के प्रकरण लगातार बढ़ रहे हैं। इससे वन्य जीवों की संख्या में लगातार कमी आ रही है। समय रहते वन विभाग और विद्युत वितरण कंपनी द्वारा इस ओर ध्यान नहीं दिया गया तो वन्य जीवों को बड़ा नुकसान होने से इंकार नहीं किया जा सकता। बीते कुछवर्षों से नगरपालिका क्षेत्र सारनी अंतर्गत करंट लगने से बंदरों, चमगादड़ व कौओं की मौत के सबसे ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं।
खासबात यह है कि इसकी जानकारी वन विभाग, विद्युत वितरण कंपनी और वन्य जीवों के संरक्षण के लिए काम करने वाले संगठनों को भी है। बावजूद इसके वन्य जीवों को करंट से बचाने अब तक कोई पहल नहीं की गई। एक सप्ताह के भीतर पाथाखेड़ा क्षेत्र में तीन बंदरों और कई कौओं व सारनी में चमगादड़ों की मौत होने पर पत्रिका ने वन्य जीवों के संरक्षण को लेकर संबंधित विभागों से परिचर्चा की। जिस पर सभी ने अपने विचार रखे और करंट से वन्य जीवों की मौत रोकने विभिन्न उपाय अपनाने का आश्वासन दिया।
इनका कहना है
खुले तार के बजाए केबल बिछाकर पक्षियों और बंदरों को करंट से बचाया जा सकता है। फेस-टू-फेस होने के चलते करंट लगने से अक्सर मौत हो रही है।
- महेश कुमार कोली, सहायक यंत्री, वितरण कंपनी, सारनी

जहां वाइल्ड लाइफ है। वहां खुले तार के बजाए केबल फैलाकर सप्लाई करने पत्र लिखे जाएंगे। ताकि वन्य जीवों की करंट लगने से मौत नहीं हो।
- एके सिंह, सीसीएफ, बैतूल

करंट लगने से सबसे ज्यादा चमगादड़, कौआ और बंदरों की मौत हो रही है। वन्य प्राणियों की मौत करंट से नहीं हो। इसके लिए सभी विभागों को सकारात्मक उपाय अपनाने चाहिए। करंट के दौरान स्पार्किंग होने से ट्रांसफार्मरों को भी नुकसान पहुंचता है।
- आदिल खान, अध्यक्ष, पीपल फॉर एनिमल्स यूनिट, सारनी

शहर में ट्रांसफार्मर लगे पोल के पास करंट लगने से एक सप्ताह में तीन बंदरों की मौत हुई है। करंट लगने से पक्षियों की भी मौत हो रही है। बंदरों और पक्षियों को करंट से बचाने खुले तार के बजाए केबल फैलाने की मांग नपा से की जाएगी। सीएमओ को ज्ञापन भी सौंपा जाएगा।
- अंजनी सिंह, सामाजिक कार्यकर्ता, पाथाखेड़ा

yashwant janoriya
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned