खुलेआम नकल : तस्वीरें देख आप भी कहेंगे एमपी अजब है

sandeep nayak

Publish: Mar, 14 2018 01:44:44 PM (IST)

Hoshangabad, Madhya Pradesh, India
खुलेआम नकल : तस्वीरें देख आप भी कहेंगे एमपी अजब है

नकल करवाते पुलिसकर्मी कैमरे में कैद

भैंसदेही/बैतूल। परीक्षा के दौरान नकल के मामले में आपने बिहार की कई खबरें सुनीं होंगी कि किस तरह खुलेआम नकल की जाती है। आज हम आपको बता रहे हैं कि मध्यप्रदेश के इस जिले में किस तरह खुलेआम नकल करवाई जा रही है वह भी एक पुलिसकर्मी करवा रहा है।

 

 

board exam cheating in madhya pradesh

पुलिसकर्मी गाईड से करा रहा था नकल
मामला बैतूल जिले के भैंसदेही के शाससीय स्कूल का है। जहां एक पुलिसकर्मी स्कूल की अलग-अलग खिड़कियों पर गाईड से नकल करवाते पत्रिका के कैमरे में कैद हुआ।
बताया गया कि ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मी नियमों को धता बताते हुए कक्ष क्रमांक 2,3,4, में खिड़की के पास पहुंचकर स्वयं पर्चे बांट रहा था। यह कारनामा मंगलवार को कक्षा दसवीं के सामाजिक विज्ञान पेपर के समय शासकीय उत्कृष्ट बालक हाई स्कूल के परीक्षा केंद्र पर घटित हुआ, जहां ड्यूटी पर तैनात एसएएफ के जवान बैच नंबर 194 कृष्णा सिंग द्वारा गाइड से नकल फाड़कर परीक्षा केंद्र के कमरों की खिड़की के समक्ष जाकर दी जा रही थी। पुलिसकर्मी द्वारा बालक हाई स्कूल के परीक्षा कक्ष 2,3,4 में खिड़की के पास जाकर अपने परिचय के दायरे में आने वाले छात्र छात्राओं को बकायदा नकल पहुंचाई गई।

board exam cheating in madhya pradesh

किसी ने नहीं किया विरोध
आश्चर्य की बात है कि एक पुलिसकर्मी ऐसा कर रहा था तो उसमें परीक्षा ड्यूटी निभा रहे शिक्षक शिक्षिका ने इसका विरोध करते केंद्र अध्यक्ष को तक सूचना नहीं दी। 2 माह से एसएएफ के चार जवानों को भैंसदेही में तैनात किया था दो नगर में 4 जवान तैनात किए गए थे परंतु एसएएफ के जवान कृष्णा सिंग 194 द्वारा नकल बताने की घटना उजागर होते ही कमांंडेंट के द्वारा त्वरित आदेशित करते हुए उनकी रवानगी ग्वालियर ङाल दी गई।
मेरे संज्ञान में यह मामला आया नहीं है यदि ऐसा घटित हुआ तो वहां ड्यूटी कर रहे शिक्षकों ने मुझे बताया नहीं यदि ऐसा हुआ है तो नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।
लक्ष्मण साल्वे, केंद्राध्यक्ष उत्कृष्ट बालक हाई स्कूल भैंसदेही

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned