पढ़े, कोरोना संदिग्ध मरीजों की जांच रिपोर्ट निगेटिव आई

कोरोना संदिग्ध दो मरीजों की रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद स्वास्थ्य महकमे सहित जिला प्रशासन ने राहत की सांस ली है। सुरक्षा एवं स्वास्थ्य की दृष्टि रोजाना अस्पतालों में लोगों की स्क्रीनिंग का काम चालू है। विदेश यात्रा कर आए लोगों की संख्या भी बढ़कर 90 पर पहुंच गई है।

By: Devendra Karande

Published: 31 Mar 2020, 05:03 AM IST

बैतूल। कोविड १९ के तेजी से बढ़ते संक्रमण को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने मरीजों की रोजाना स्क्रीनिंग शुरू कर दी है। सोमवार को जिले भर के स्वास्थ्य केंद्रों पर ढाई हजार के लगभग मरीज इलाज कराने के लिए पहुंचे थे। इनमें से ५९२ मरीजों की स्क्रीनिंग की गई। जबकि रविवार को ४५९ मरीजों की स्क्रीनिंग हुई। इधर, कोरोना संदिग्ध दो मरीजों की रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद स्वास्थ्य महकमे सहित जिला प्रशासन ने राहत की सांस ली है। सुरक्षा एवं स्वास्थ्य की दृष्टि रोजाना अस्पतालों में लोगों की स्क्रीनिंग का काम चालू है। विदेश यात्रा कर आए लोगों की संख्या भी बढ़कर ९० पर पहुंच गई है। इनमें से ७२ को पूरी तरह से होम आइसोलेट किया गया है। हालांकि १४ लोगों ने होम आइसोलेशन की प्रक्रिया पूरी कर ली है।
दो कोरोना मरीजों की रिपोर्ट निगेटिव
जिले में दो संदिग्ध कोरोना मरीजों की जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है। शनिवार को एक बच्ची की जांच रिपोर्ट निगेटिव आई थी। जबकि आज दूसरे मरीज की रिपोर्ट भी निगेटिव आ गई है। दोनों रिपोर्टों के निगेटिव आने पर स्वास्थ्य विभाग एवं जिला प्रशासन ने राहत की सांस ली है। सुरक्षा की दृष्टि से महाराष्ट्र बार्डर को सील कर दिया गया है। जिले में किसी को भी अंदर आने की मनाही होगी। अस्पताल आने वाले मरीजों की भी थर्मल स्क्रीङ्क्षनग की जा रही है।
सबसे ज्यादा मरीज मुलताई से आ रहे
मुलताई तहसील महाराष्ट्र बार्डर ले लगी है। इसलिए यहां बीमार मरीजों की संख्या भी काफी ज्यादा है। सोमवार को ८१९ मरीज इलाज के लिए स्वास्थ्य केंद्रों एवं अस्पताल में पहुंचे थे। इनमें से महज २७ की स्क्रीनिंग की गई। इसके अलावा आठनेर में ३२७ मरीज, प्रभातपट्टन में २८६ मरीज, आमला में २८१ मरीज, जिला अस्पताल में २०९ मरीज, घोड़ाडोंगरी में १५५, शाहपुर में १४८, चिचोली में १२० और भीमपुर में ११८ मरीजों इलाज के लिए पहुंचे थे। जिले भर में एक दिन में कुल २ हजार ४४१ मरीज पहुंचे। इनमें से ५९२ की स्क्रीनिंग की गई। जबकि ९०४ मरीजों को दवाईयों का वितरण किया गया।
कर्मचारी का प्रथम प्रवेश पर टैंपरेचर लेना आवश्यक
प्रदेश में लॉक डाउन के दौरान संचालित होने वाले औद्योगिक संस्थानों तथा अन्य संस्थानों में कोरोना संक्रमण नियंत्रण के लिए स्वास्थ्य आयुक्त प्रतीक हजेला ने प्रोटोकाल जारी किया है। प्रोटॉकाल के अनुसार संस्थान में प्रथम प्रवेश के समय खांसी, जुकाम के लक्षण तथा 15 फरवरी के बाद प्रदेश या देश के बाहर की यात्रा कर चुके कर्मचारी का संस्था में प्रवेश वर्जित होगा। स्वस्थ तथा संक्रमण लक्षण रहित कर्मचारियों का संस्था के प्रथम प्रवेश पर इन्फ्रारेड थर्मल थर्मामीटर से तापमान लेना आवश्यक होगा। सामान्य तापमान पर ही प्रवेश दिया जाएगा। संस्था में हर दो घंटे में हाइपोक्लोराइट से पोंछा लगवाने और हैंडल-रेलिंग-स्विच आदि को साफ करने, कर्मचारियों को बार-बार साबुन से हाथ धुलवाने और सेनेटाइजर का उपयोग कराने, आपस में एक मीटर की दूरी बनाए रखने और छींकते-खासते समय मुंह ढकने के भी निर्देश दिए गए हैं।

Devendra Karande Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned