स्कूल से नहीं मिला प्रवेश पत्र, १०वीं-१२वीं के आधा सैकड़ा विद्यार्थी नहीं दे पाए पेपर

पालकों ने स्कूल संचालक के खिलाफ दिया धरना, प्राचार्य और संचालक गांव छोड़कर भागे

By: rakesh malviya

Published: 03 Mar 2019, 07:00 AM IST

मुलताई. मुलताई ब्लाक के ग्राम बरई में एक स्कूल में प्रवेश पत्र नहीं मिलने के कारण आधा सैकड़ा विद्यार्थी १०वीं और १२वीं की परीक्षा से वंचित रह गए। नाराज विद्यार्थियों और उनके पालकों ने शनिवार को बोरदेही मार्ग पर चक्काजाम किया। बाद में सूचना पर बैतूल से जिला शिक्षा अधिकारी, मुलताई से तहसीलदार सहित थाना प्रभारी सहित बीईओ एवं बीआरसीसी ने मौके पर पहुंचकर आश्वासन दिया। वहीं विद्यार्थी और पालकों ने मुलताई थाने पहुंचकर स्कूल संचालक के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की मांग की। नहीं पालकों ने बच्चों के परीक्षा से वंचित होने पर आंदोलन की बात कही है। प्राप्त जानकारी के अनुसार बरई स्थित जय महालक्ष्मी स्कूल द्वारा 10 वीं एवं 12 वीं के विद्यार्थियों परीक्षा फीस लेने के बाद भी उनको प्रवेश पत्र नहीं दिए। विद्यार्थी लगातार स्कूल प्राचार्य रमेश सोनी तथा संचालक सुरेश सोनी के पास प्रवेश पत्र के लिए चक्कर लगाते रहे। लेकिन शनिवार सुबह कक्षा बारहवीं के प्रथम प्रश्रपत्र के दौरान प्रवेश पत्र नहीं होने से 40 विद्यार्थी परीक्षा देने से वंचित हो गए। बताया जा रहा है कि शुक्रवार कक्षा 10 वीं के कुछ विद्यार्थी भी परीक्षा नहीं दे पाए। इसकी सूचना मिलते ही पालकों ने स्कूल पहुंचकर हंगामा किया। जिसकी सूचना मिलते ही स्कूल प्राचार्य सहित संचालक गांव से भाग गए। जिससे पालाकों का रोष और बढ़ गया। इधर ग्रामीणों ने डायल 100 को सूचना दी। जिस पर डीईओ बीएस बिसोरिया सहित अन्य अधिकारी मौके पर पहुंचे। डीईओ बसोरिया ने बताया कि प्रयास किया जा रहा है कि विद्यार्थी आगे के पेपर दे पाएं तथा किसी भी स्थिति में बच्चों को परीक्षा से वंचित नही होने दिया जाएगा। शाला में बरई सहित हेटी, खतेड़ाकला,चंदोरा खुर्द, टेमझीरा, करपा, बाबरबोह, बोरगांव, परसठानी, काठी एवं मुलताई के विद्यार्थी परीक्षा दे रहे थे।

बच्चे बोले- फीस दी, नहीं मिला प्रवेश पत्र
चंदोराखुर्द निवासी कक्षा 12 वीं की छात्रा ज्योति डहारे ने बताया कि उन्होंने पूर्व में ही परीक्षा फीस दे दी थी लेकिन उनका प्रवेश पत्र नहीं दिया गया। बरई के योगेश परिहार ने बताया कि उन्हे लगातार संचालक तथा प्राचार्य द्वारा प्रवेश पत्र के लिए घूमाया जा रहा था। टेमझीरा की रविना सूर्यवंशी ने बताया कि परीक्षा के दिन तक प्रवेश पत्र देने का झूठा आश्वासन दिया गया। वहीं डिवटिया के छात्र नीलेश ने बताया कि परीक्षा प्रारंभ होने के कुछ देर पहले संचालक और प्राचार्य दोनों फरार हो गए। मुलताई के गांधी वार्ड निवासी छात्रा वैष्णवी पंडोले ने बताया कि वे परीक्षा नही दे पाई आगे उनका भविष्य क्या होगा यह सोचकर ही मन घबरा रहा है।

टीआई ने कहा-एफआईआर होगी
मामले में जब थाना प्रभारी आरएस चौहान से चर्चा की गई तो उन्होंने बताया कि पहले शिक्षा विभाग पूरे मामले की जांच करेगा। जिसके बाद दोषियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की जाएगी। इधर, डीईओ बिसोरिया ने बताया कि जांच के आदेश दे दिए गए हैं, संचालक द्वारा सभी बच्चों से फीस जमा करने के बाद भी प्रवेश पत्र नहीं दिया गया। मामला गंभीर है तथा बच्चों के भविष्य से जुड़ा हुआ है इसलिए विभाग द्वारा शीघ्र पूरे मामले की शिकायत थाने में की जा रही है। उन्होने कहा कि जो भी नियम है उसके अनुसार आगे की कार्रवाई की जा रही है।

विभाग को पता था कि बच्चे नहीं दे पाएंगे परीक्षा
शुक्रवार सुबह ही कलेक्टर, डीईओ सहित अन्य अधिकारियों को पता चल गया था कि बरई के निजी स्कूल द्वारा बच्चों को प्रवेश पत्र नहीं दिया गया है इसके बावजूद अधिकारियों द्वारा बच्चों को परीक्षा दिलाने के कोई प्रयास नहीं किए गए। इधर शनिवार को जब बच्चे परीक्षा देने से वंचित हो गए तब प्रशासन ने आनन-फानन में मौके पर पहुंचकर मात्र आश्वासन देने की औपचारिकता की गई फिर भी यह नही बताया गया कि बच्चे आगे परीक्षा दे पाएगे या नहीं।

मंत्री ने कहा कि प्रयास करेंगे कि बच्चे अगला पेपर दें
मामले में केबिनेट मंत्री सुखदेव पांसे ने बताया कि एक दिन पूर्व ही उन्हे भी इसका पता चला। उन्होंने मामले को गंभीरता से लेते हुए कलेक्टर तरूण पिथौड़े, जिला शिक्षा अधिकरी बीएस बिसोरिया से चर्चा कर किसी भी प्रकार से हल निकालने का कहा गया। उन्होने कहा कि पूरा प्रयास रहेगा कि बच्चे परीक्षा से वंचित ना हो पाएं।

इनका कहना है-
मामला गंभीर है तथा विद्यार्थियों के भविष्य से जुड़ा हुआ है, हमारा यही प्रयास है कि बच्चे अगले प्रश्रपत्र से वंचित ना हो साथ ही दोषियों पर कार्रवाई की जा रही है।
बीएस बिसोरिया जिला शिक्षा अधिकारी बैतूल।

rakesh malviya Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned