इटारसी से लौटी युवती और हैदराबाद आए युवक को बुखार, घोड़ाडोंगरी कोविड वार्ड में किया भर्ती

जिले में अभी कोरोना का खतरा पूरी तरह टला नहीं है। झल्लार के ग्राम सायगोहान में शुक्रवार को बुखार से पीडि़त बीस मरीज मिलने के बाद घोड़ाडोंगरी में इटारसी से लौटी एक युवती को तेज बुखार आने पर स्वास्थ्य केंद्र के कोविड वार्ड में भर्ती कराया गया है। वहीं हैदराबाद से आए एक युवक को भी बुखार के चलते भर्ती किया गया है। पाथाखेड़ा में एक परिवार को १४ दिनों के लिए क्वारेंटीन किया गया है।

By: Devendra Karande

Published: 10 May 2020, 05:04 AM IST

बैतूल। जिले में अभी कोरोना का खतरा पूरी तरह टला नहीं है। झल्लार के ग्राम सायगोहान में शुक्रवार को बुखार से पीडि़त बीस मरीज मिलने के बाद घोड़ाडोंगरी में इटारसी से लौटी एक युवती को तेज बुखार आने पर स्वास्थ्य केंद्र के कोविड वार्ड में भर्ती कराया गया है। वहीं हैदराबाद से आए एक युवक को भी बुखार के चलते भर्ती किया गया है। पाथाखेड़ा में एक परिवार को १४ दिनों के लिए क्वारेंटीन किया गया है। बताया गया कि लॉक डाउन ३.० में छूट मिलने के बाद बड़ी संख्या में मजदूर तबका सहित बाहर पढ़ाई करने वाले छात्र घर वापस लौट रहे हैं। जिले में बाहर से आने वालों की संख्या ४० हजार से ऊपर पहुंच चुकी हैं। ऐसे में संक्रमण फैलने का खतरा और अंदेशा दोनों बढऩे लगा है। सरकार ने हॉट स्पॉट जोन भोपाल, इंदौर एवं उज्जैन से भी आवागमन के लिए ई-पास जारी करने शुरू कर दिए हैं। जिसके चलते अब सतर्क रहने की ज्यादा जरूरत हो गई है।
हॉट स्पॉट जोन इटारसी से लौटी युवती को आया बुखार
घोड़ाडोंगरी ब्लॉक के ग्राम दूधावानी में दो-तीन दिन पहले एक युवती दो लोगों के साथ हॉट स्पॉट जोन इटारसी से लौटी थी। घर लौटे के बाद वह सीधे होम क्वारेंटीन हो गई थी लेकिन अचानक ही उसे तेज बुखार आना शुरू हो गया। जिसके बाद परिजन उसे इलाज के लिए घोड़ाडोंगरी के स्वास्थ्य केंद्र लेकर पहुंचे। यहां चिकित्सक ने उसका परीक्षण किया। चूंकि लड़की को तेज बुखार आया था और वह हॉट स्पॉट जोन से लौटी थी इसलिए उसका कोरोना सेम्पल लेकर जांच के लिए भेजा गया है। युवती को इलाज के लिए स्वास्थ्य केंद्र के कोविड वार्ड में भर्ती किया गया है।
हैदराबाद से लौटे युवक को बुखार आने पर ग्रामीणों ने गांव से निकाला
हैदराबाद से २२ अप्रेल को लौटे शक्तिगढ़ गांव के एक युवक को १४ दिन के लिए स्कूल में बने क्वारेंटीन सेंटर में रखा गया था, लेकिन १४ दिन गुजरने के बाद अचानक उसे तेज बुखार आ गया। ग्रामीणों को जब युवक के बुखार से पीडि़त होने की सूचना मिली तो उन्होंने उसे इलाज कराने के लिए गांव से बाहर निकाल दिया। जिसके बाद परिजन युवक को घोड़ाडोंगरी स्वास्थ्य केंद्र लेकर गए। यहां युवक को बुखार के लिए दवा दी गई जिसके बाद उसका टेम्पेचर तो उतर गया है लेकिन कोरोना की आशंका के चलते उसका भी सेम्पल आज, कल में लिया जा सकता है।
सेतु एप के मैसेज के बाद परिवार को क्वारेंटीन किया
सेतु एप में पाथाखेड़ा क्षेत्र में कोरोना मरीज के होने की सूचना से हड़कंप मच गया था। बीएमओ डॉ संजीव शर्मा ने बताया कि चिकित्सकों ने जब एप के बारे में जानकारी ली तो पता चला कि गलत नंबर एड होने की वजह से पाथाखेड़ा में कोरोना मरीज होना दर्शाया जा रहा था। जबकि एप में दर्ज आधार नंबर मैच नहीं हो रहा था। एतिहात के तौर पर परिवार को १४ दिनों के लिए होम क्वारेंटीन में रहने के लिए कहा गया है। बताया गया कि परिवार के सदस्य फरवरी से कहीं बाहर भी नहीं गए थे। इसलिए उनकी कोई ट्रैवल हिस्ट्री भी नहीं है। बाहर से भी कोई नहीं आया था। सर्दी-खांसी के भी किसी को कोई लक्षण नहीं है। आधार नंबर का भी कोई लिंक नहीं मिला है, लेकिन एतिहात के तौर पर सभी को घर में रहने की सलाह दी गई है।
जिले के बाहर से आने वालों की संख्या ४० हजार के पार
लॉक डाउन ३.० में छूट मिलने के बाद राज्य एवं जिले के बाहर से आने वाले लोगों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। शनिवार को यह संख्या ४० हजार से ऊपर पहुंच गई। इन सभी की स्क्रीनिंग की जाकर सभी को १४ दिनों के लिए होम क्वारेंटीन में रहने के लिए दिए गए हैं, लेकिन स्थिति यह है कि बाहर से आने वाले लोगों को घरों में नीले-पीले पर्चे तक नहीं लगाए गए हैं जिससे इनकी पहचान नहीं हो पा रही है। इसके अलावा विदेश भ्रमण से आने वाले कुल लोगों की संख्या २४१बताई जाती है लेकिन इनमें से १५२लोगों की स्वास्थ्य विभाग द्वारा स्क्रीनिंग की गई है। जबकि शेष ८९जिले में वापस नहीं लौटे हैं। जिला प्रशासन ने अभी तक ३४ हजार ९६३ लोगों को होम क्वारेंटीन किया गया है। इनमें से ३० हजार ७१८ की क्वारेंटीन अवधि खत्म भी हो चुकी है।

Devendra Karande Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned