कम्प्यूटर कोर्स के नाम पर छात्रों के रुपए लेकर संचालक भागा, मांगने पर मिल रही धमकी

मामले की शिकायत विद्यार्थियों द्वारा थाना मुलताई में की

By: rakesh malviya

Published: 10 Mar 2019, 11:27 AM IST

मुलताई. नगर में बाहरी व्यक्तियों द्वारा झांसा देकर लोगों से रुपए ठगी के कई मामले सामने आ चुके हैं इसके बावजूद नगर के लोग बाहरी व्यक्तियों के झांसे में आकर अपनी मेहनत की कमाई लुटाने से नहीं चूकते, बिना पूरी जानकारी लिए लोग पैसे दे देते हैं और ठगी होने के बाद में शिकवा-शिकायत करते है जब तक बहुत देर हो चुकी होती है। ऐसा ही एक मामला कम्यूटर कोर्स के नाम पर विद्यार्थियों को ठगने का आया है जिसमें लगभग 250 से अधिक छात्र-छात्राओं को लाखों रुपए का चूना लगाकर संचालक फरार हो गया है। पूरे मामले की शिकायत विद्यार्थियों द्वारा थाना मुलताई में की गई है। ताईखेड़ा निवासी छात्र तुलसीदास पिता सहादेव दौड़के ने थाने में की गई शिकायत में बताया कि नगर के कामथ क्षेत्र गुजराती कॉलोनी में आईटीसीसी कम्यूटर इंस्टीट्यूट के संचालक राजीव विश्वास द्वारा पूरे क्षेत्र के सैकड़ों छात्र-छात्राओं को हार्डवेयर एवं साफ्टवेयर कंप्यूटर कोर्स कराने एवं इंटरनेशनल लेवल का सर्टिफिकेट देकर जॉब लगाने का प्रलोभन देकर प्रत्येक विद्यार्थी से 15 हजार लिए थे लेकिन उसके बाद से ही संचालक राजीव विश्वास द्वारा ना तो क्लास लगी और ना ही सर्टिफिकेट मिला इसके बाद संचालक से फोन पर संपर्क होना भी बंद हो गया जिससे परेशान विद्यार्थियों द्वारा इसकी शिकायत थाना प्रभारी आरएस चौहान से की गई।

विद्यार्थियों से गांव-गांव में कराया था प्रचार
छात्रा पूजा उइके, रुपाली गणेशे, ममता लिखितकर, भावना बर्डे, दीपाली, कंचना सोनारे, वंदना सोनारे, नीतू सोनारे आदि ने बताया कि संचालक राजीव विश्वास द्वारा पहले क्षेत्र की ही कुछ छात्राओं को गांव-गांव भेजकर अपने इंस्टीट्यूट का प्रचार कराया जिसके बाद उक्त छात्राओं द्वारा अन्य विद्यार्थियों के पालकों के पास जाकर यह विश्वास दिलाया कि मात्र 15 हजार रुपए में कम्यूटर कोर्स के इंटरनेशनल लेबर का सर्टिफिकेट मिलेगा जिससे शीघ्र ही जाब लग सकता है। इस पर ग्रामीण अंचलों के विद्यार्थियों सहित पालक भी लालच में आ गए तथा फिर संचालक द्वारा सैकड़ों विद्यार्थियों से जमकर वसूली की गई।

कमीशन देना का देता था लालच
कम्यूटर संचालक विश्वास द्वारा उसके इंस्टीट्यूट में आने वाले विद्यार्थियों को यह बताया गया था कि यदि वे तीन विद्यार्थियों का एडमिशन कराते हैं तो उन्हे 1500 रूपए कमीशन देंगे। इस लालच में सभी विद्यार्थी गांव तथा आसपास के अन्य विद्यार्थियों को भी एडमिशन कराने के लिए जोर देते तथा इसी के चलते सैकड़ों विद्यार्थियों द्वारा इंस्टीट्यूट में एडमिशन लिया और रुपए लेकर संचालक इंस्टीट्यूट में ताला लगाकर फरार हो गया।

कई स्थानों पर चल रहे फर्जी इंस्टीट्यूट
विद्यार्थियों ने बताया कि आईटीसीटी कम्यूटर की अन्य शाखाएं भी चल रही है। उन्होंने बताया कि परासिया एवं महाराष्ट्र सहित विभिन्न स्थानों पर शाखाएं चल रही है तथा वहां भी विद्यार्थियों से राशि वसूली जा रही है। उन्होंने पुलिस से गुहार लगाई है कि संचालक का पता कर कार्रवाई करें तथा विद्यार्थियों की राशि वापस दिलाएं।

इनका कहना
विद्यार्थियों की शिकायत पर फिलहाल उनके बयान लिए जा रहे हैं जिसके बाद पूरे मामले की जांच कर दोषी पाए जाने पर संचालक पर कार्रवाई की जाएगी।
आरएस चौहान, थाना प्रभारी, मुलताई

rakesh malviya Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned