63 लाख की एफडी नपा की फाइलों में गुम

63 लाख की एफडी नपा की फाइलों में गुम
Rainwater Harvesting System

Ghanshyam Rathore | Publish: Jun, 14 2019 05:03:06 AM (IST) Betul, Betul, Madhya Pradesh, India

नगरपालिका की पीडब्ल्यूडी शाखा में ६३ लाख रुपए की एफडीयां फाइलों में गुम पड़ी है। जिन्हें पिछले पांच-छह सालों से कोई लेने नहीं आया है। अब नगरपालिका एफडी स्वामियों का फाइलों से पता लगाकर उन्हें नोटिस जारी कर रही है।

बैतूल। नगरपालिका की पीडब्ल्यूडी शाखा में ६३ लाख रुपए की एफडीयां फाइलों में गुम पड़ी है। जिन्हें पिछले पांच-छह सालों से कोई लेने नहीं आया है। अब नगरपालिका एफडी स्वामियों का फाइलों से पता लगाकर उन्हें नोटिस जारी कर रही है। दरअसल में पूरा मामला वर्षा जलसंरक्षण से जुड़ा हुआ है। नगरपालिका द्वारा भवन निर्माण की अनुमति देने के लिए वर्ष २०११ में रेनवॉटर हार्वेस्टिंग सिस्टम को कानून अनिवार्य रूप से लागू किया गया था। जिसके तहत दस हजार रुपए की संयुक्त एफडी करने पर ही भवन निर्माण की अनुमति दी जाती है। लोगों ने दस हजार रुपए की एफडी कर भवन निर्माण की अनुमति तो ले ली लेकिन भवन निर्माण पूरा होने के बाद रेनवॉटर हार्वेस्टिंग सिस्टम बनाना भूल गए। जबकि भौतिक सत्यापन कराने के बाद एफडी की यह राशि भवन स्वामी को वापस लौटा दी जाती है, लेकिन ज्यादातर भवन स्वामी एफडी की राशि वापस लेने ही नहीं आए। तब से एफडी फाइलों में ही गुम पड़ी है।चूंकि पिछले दो सालों से अल्पवर्षा के चलते शहर में सूखे के हालात निर्मित हो गए हैं ऐसे में जलसंरक्षण को लेकर नगरपालिका द्वारा रेनवॉटर हार्वेस्टिंग सिस्टम बनाने पर जोर दिया जा रहा है। इसी के चलते नगरपालिका लापता भवन स्वामियों की फाइलों को खंगालकर उन्हें रेनवॉटर हार्वेस्टिंग सिस्टम बनाने नोटिस जारी कर रही है।
९ साल में १३१० भवन निर्माण को दी अनुमति
वर्ष २०११ में नगरपालिका परिषद द्वारा रेनवॉटर हार्वेस्टिंग सिस्टम को नगरीय क्षेत्र में कानून रूप से लागू किया गया था। तब से लेकर अभी तक नगरपालिका द्वारा नगरीय क्षेत्र में भवन निर्माण के लिए १३१० अनुमतियां जारी की गई है। जिसमें से ६७४ भवन स्वामियों ने तो मकान बनाने के साथ रेनवॉटर हार्वेस्टिंग सिस्टम भी अपने घरों में बना लिए हैं। उनके द्वारा एफडी की राशि भी वापस ले ली गई है लेकिन शेष ६३६ भवन स्वामियों का अभी तक पता नहीं चल सकता है। इनके द्वारा एफडी की राशि वापस लौटाए जाने के लिए नगरपालिका को आवेदन भी नहीं किए गए।
६३ लाख रुपए एफडी के रूप में जमा
नगरपालिका के पास ६३६ भवन स्वामियों का करीब ६३ लाख रुपए एफडी के रूप में जमा पड़ा है। भवन स्वामियों की फाइलों में यह एफडी लागकर रखी गई है लेकिन इन्हें लेने सालों से कोई नहीं आया है। बताया गया कि नगरपालिका सीएमओ और भवन स्वामि के नाम से दस हजार रुपए की संयुक्त एफडी कराई जाती है। यह एफडी नगरपालिका के पास ही रहती है। जब भवन स्वामी अपने मकान में रेनवॉटर हार्वेस्टिंग सिस्टम बना लेता है और उसका भौतिक सत्यापन नगरपालिका के इंजीनियर किया जाता है उसके बाद ही एफडी की राशि वापस भवन स्वामी को लौटाई जाती है।
६३६ भवन स्वामियों को नोटिस जारी
नगरपालिका ने रेनवॉटर हार्वेस्टिंग सिस्टम नहीं बनाने वाले ६३६ भवन स्वामियों को नोटिस जारी किए हैं। इसके अलावा प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बनने वाले मकानों में भी रेनवॉटर हार्वेस्टिंग सिस्टम को अनिवार्य किया गया है। शहर में कुल २१०१ आवास बन रहे हेैं। इनमें से १११० आवास पूर्ण हो चुके हैं। जिन्हें भी नोटिस जारी किए गए हैं। नोटिस में रेनवॉटर हार्वेस्टिंग सिस्टम का निर्माण सात दिवस के भीतर किए जाने के निर्देश दिए गए हैं अन्यथा नगरपालिका उनके मकान में रेनवॉटर हार्वेस्टिंग सिस्टम का निर्माण कराएगा। नगरपालिका द्वारा ठेकेदार एवं कर्मचारियों को लोगों को घरों में भेजा जा रहा है। ताकि तत्काल रेनवॉटर का निर्माण उनके घरों में कराया जा सके।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned