नई इकाई से 6 पैसे महंगा, पुरानी इकाईयों से 23 पैसे प्रति यूनिट सस्ता हुआ उत्पादन

नई इकाई से 6 पैसे महंगा, पुरानी इकाईयों से 23 पैसे प्रति यूनिट सस्ता हुआ उत्पादन
नई इकाई से 6 पैसे महंगा, पुरानी इकाईयों से 23 पैसे प्रति यूनिट सस्ता हुआ उत्पादन

Pradeep Sahu | Updated: 15 Jun 2019, 05:02:02 AM (IST) Hoshangabad, Hoshangabad, Madhya Pradesh, India

मप्र पॉवर मैनेजमेंट कंपनी ने जारी की मई माह की एमओडी

सारनी. मप्र पॉवर मैनेजमेंट कंपनी ने प्रदेश भर के बिजली घरों की मई माह की मैरिड आर्डर डिस्पैच (एमओडी) जारी की है। जिसमें सतपुड़ा ताप विद्युत गृह की पुरानी इकाइयों से बिजली उत्पादन में उल्लेखनीय सुधार आया है। वहीं नई इकाई से उत्पादन करना 6 पैसे प्रति यूनिट महंगा हुआ है। प्राप्त जानकारी के अनुसार सतपुड़ा के पीएच-टू और पीएच-थ्री से विद्युत उत्पादन करना प्रति यूनिट 23 पैसे सस्ता हुआ है। अप्रैल माह में सतपुड़ा की पुरानी इकाइयों से 2.81 पैसे प्रति यूनिट की दर से बिजली उत्पादन हो रहा था। जबकि मई माह की एमओडी में पुरानी इकाइयों से प्रति यूनिट 2.58 पैसे की दर से उत्पादन लिया जा रहा है। इसके ठीक विपरीत नई इकाइयों से अप्रैल माह में 2.21 पैसे प्रति यूनिट की दर से उत्पादन लिया जा रहा था। जो मई माह की एमओडी में 6 पैसे प्रति यूनिट बढ़कर 2.27 पैसे प्रति यूनिट हो गई है।
बिरसिंहपुर में 10 पैसे प्रति यूनिट का सुधार : नई एमओडी में बिरसिंहपुर थर्मल पॉवर प्लांट की 500 मेगावाट की विद्युत उत्पादन दर में 10 पैसे प्रति यूनिट का सुधार आया है। अप्रैल माह की एमओडी में जहां 1.87 पैसे प्रति यूनिट उत्पादन दर थी जो मई माह की एमओडी में बढ़कर 1.97 पैसे प्रति यूनिट तक जा पहुंची है। वहीं यहां की 210 मेगावाट क्षमता की 4 इकाइयों की उत्पादन लागत में 10 पैसे प्रति यूनिट की बढ़ोत्तरी हुई है। अप्रैल माह में 2.6 पैसे प्रति यूनिट की दर से उत्पादन करने वाली यूनिटों की उत्पादन दर मई माह में बढ़कर २.16 पैसे प्रति यूनिट तक जा पहुंची है। अमरकंट में 4 पैसे प्रति यूनिट का सुधार आया है। वहीं श्रीसिंगाजी पॉवर प्लांट के फेज वन में 3 पैसे प्रति यूटिन का सुधार आया है। जबकि फेज-टू में 4 पैसे प्रति यूटिन की बढ़ोत्तरी हुई है।

लो-वैक्यूम से कम लोड पर चल रही इकाइयां - 1330 मेगावाट क्षमता के पॉवर प्लांट से शुक्रवार को 560 मेगावाट बिजली उत्पादन हुआ। यहां की 210 मेगावाट की 7 और 250 मेगावाट की 10 नंबर इकाई संधारण कार्य के चलते बंद हैं। वहीं 200 मेगावाट की 6 नंबर इकाई लो-वैक्यूम और जनरेटर में प्राब्लम की वजह से बंद है। यह इकाई शनिवार सुबह तक लोड पर आने की उम्मीद है। वहीं 210-210 मेगावाट की 8 व 9 नंबर इकाई लो-वैक्यूम के चलते कम लोडपर चल रही है। 8 नंबर इकाई को जहां 160 मेगावाट के लोड पर चलाया जा रहा है। वहीं 9 नंबर इकाई 150 मेगावाट बिजली उत्पादन कर रही है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned