डाकघर भवन की छत से टपकता है पानी, दीवारों में आई सीलन

डाकघर भवन की छत से टपकता है पानी, दीवारों में आई सीलन

rakesh malviya | Publish: Jun, 14 2018 03:26:22 PM (IST) Hoshangabad, Madhya Pradesh, India

अव्यवस्थाओं के चलते डाकघर में कामकाज हुआ ठप्प, डाक विभाग नहीं बदल रहा भवन

खिरकिया. नगर के डाकघर में एक बार फिर कामकाज ठप्प हो गया है। पहली अल्प बारिश के बाद भवन की अव्यवस्थाओं के चलते डाकघर की समूची व्यवस्था गड़बड़ा गई है। डाक घर के माध्यम से संचालित की जाने वाली डाक व्यवस्थाओं का संचालन बंद हो गया है, जिससे नागरिकों को डाक संबंधी कार्यों के लिए परेशान होना पड़ रहा है। जानकारी के अनुसार जनपद पंचायत के जर्जर भवन में संचालित हो रहे डाकघर में बारिश की वजह से बिजली सप्लाई प्रभावित हो रही है। जिससे डाकघर में संचालित उपकरण भी जल रहे है। ओवर वोल्टेज के कारण तार खराब हो रहे है। डाकघर में सिस्टम को संचालित करने वाला राउटर भी खराब हो गया है। जिससे डाकघर में लेनदेन सहित समूची डाक व्यवस्था विगत कई दिनों से बंद पड़ी हुई है। उपभोक्ताओं को स्पीड पोस्ट, मनीआर्डर, लेनदेन, पेंशन सहित अन्य कार्यों के लिए परेशान होना पड़ रहा है। वहीं कार्य बंद होने के कारण समूचा स्टाफ खाली बैठा रहता है।

 

छत से टपक रहा पानी, दीवारों में आई सीलन -
डाकघर का हाल यह है कि एक हाल के रूप में समूचा डाक विभाग संचालित हो रहा है। इस अव्यवस्था में भवन की स्थिति महत्वपूर्ण कारण है। भवन गीला होने के कारण ओवर वोल्टेज मिल रहा है। जिससे सप्लाईफाल्ट हो रही है। भवन की दीवारों में दरारें आ गई है, वहीं छत पर भी पानी भरा रहता है, जिससे भवन अंदर से भी गीला हो जाता है। छत से पानी टपक रहा है, वहीं भवन की दीवारों में सीलन आ गई है। हाल ही में हुई बारिश के बाद यह अव्यवस्थाएं और अधिक बढ़ गई है। बारिश में आए दिन डाकघर में कामकाज बंद हो जाता है। इससे पूर्व भी लगातार डाकघर का काम बंद रह चुका है। पूर्व में जपं द्वारा भवन को दुरूस्त कराने का प्रस्ताव भी लिया गया था, लेकिन दुरूस्त नहीं कराया गया। वहीं डाक विभाग द्वारा भी सुध नहीं ली जा रही है। जिससे परेशानियां बढ़ रही है।

जपं के इंजीनियरों ने माना भवन उपयोग योग्य नहीं-
जनपद पंचायत के इस भवन को दुरूस्त करने की मांग कई बार की चुकी है, लेकिन जनपद के इंजीनियरों ने भी भवन को उपयोगहीन बताया है। वहीं इस भवन का दुरूस्तीकरण भी नहीं किया जा सकता है। जनपद के इंजीनियरों ने डाक विभाग को इस संबंध में लिखित रूप से भी अवगत कराया है। जिसमें भवन से दुर्घटना होने का अंदेशा बताया है। भवन की इतनी खस्ताहाल स्थिति होने के बाद बावजूद भी कोई अन्य व्यवस्था नहीं की जा रही है। स्थानीय स्तर से भी वरिष्ठ कार्यालय को करीब 6 माह पूर्व अवगत कराया गया था, लेकिन उस पर विभाग द्वारा कोई निर्णय नहीं ले सका है।

रोजाना प्रभावित हो रहा 3 लाख का लेनदेन -
डाकघर के माध्यम से प्रतिदिन 3 लाख रुपए का लेनदेन होता है, लेकिन इस प्रकार की अव्यवस्था के कारण लेनदेन प्रभावित हो रहा है। नकदी राशि की आवश्यकता वाले उपभोक्ता बार बार चक्कर लगा रहे है, लेकिन व्यवस्थाए ठप्प पड़ी होने के कारण लेनदेन नहीं हो पा रहा है। डाकघर से करीब 44 हजार खातों का संचालन किया जाता है। जिसमें सबसे अधिक करीब 28 हजार आरडी खाते है। वहीं 15 हजार बचत, 6 00 मासिक आय योजना एवं 500 सावधि जमा खाते है। जिनके माध्यम से डाकघर के माध्यम से लेन देन का कार्य किया जाता है। खातों से किसी भी प्रकार का लेन देन और प्रक्रिया भी नहीं हो पा रही है।

इनका कहना है-
समस्या हमारे संज्ञान में है। डाकघर के लिए दूसरा भवन ढूंढ लिया गया है। शीघ्र ही डाकघर को दूसरे भवन मे स्थानांतरित किया जाएगा।
वसुंधरा गुलहाने, एएसपी, डाक, होशंगाबाद

Ad Block is Banned