कर्मचारी के मृत्यु के २४ घंटे में निपटारे का दुर्लभ मामला

कर्मचारी के मृत्यु के २४ घंटे में निपटारे का दुर्लभ मामला
Giving the settlement amount to the wife of the deceased.

Ghanshyam Rathore | Updated: 13 Oct 2019, 03:04:04 AM (IST) Betul, Betul, Madhya Pradesh, India

आम तौर पर किसी कर्मचारी की कार्य के दौरान मृत्यु हो जाती है तो परिवार को निपटारा राशि के लिए कार्यालय के चक्कर काटते काटते थक जाते है, लेकिन नागपुर रेल मंडल ने एक ऐसा उदाहरण पेश किया है कि कर्मचारी की मृत्यु होने पर, मृतक कर्मचारी की अंतेष्टी होने के पहले ही पीडि़त परिवार को निपटारा राशि सौंपकर दुर्लभ उदाहरण प्रस्तुत किया है।


बैतूल। आम तौर पर किसी कर्मचारी की कार्य के दौरान मृत्यु हो जाती है तो परिवार को निपटारा राशि के लिए कार्यालय के चक्कर काटते काटते थक जाते है, लेकिन नागपुर रेल मंडल ने एक ऐसा उदाहरण पेश किया है कि कर्मचारी की मृत्यु होने पर, मृतक कर्मचारी की अंतेष्टी होने के पहले ही पीडि़त परिवार को निपटारा राशि सौंपकर दुर्लभ उदाहरण प्रस्तुत किया है। नागपुर मंडल के अंतर्गत आने वाले मरामझिरी स्टेशन पर कार्यरत ५० वर्षीय रेल कर्मचारी रामकरण पिता आशाराम डढोरे की शुक्रवार शाम ६.४० को मेल एक्सप्रेस को झंडी दिखाने के दौरान मालगाड़ी की चपेट में आने से मौत हो गई थी। घटना की सूचना मिलते ही मंडल रेल प्रबंधक सोमेश कुमार ने उच्चस्तरीय जांच के आदेश दिए थे। साथ ही कर्मिक लेखा तथा परिचालन विभाग को पीडि़त परिवार को त्वरित सहायता उपलब्ध कराने के निर्देश दिए थे। जनसंपर्क अधिकारी अनिल कुमार ने बताया कि यह पहला अवसर है जब किसी कर्मचारी की कार्य के दौरान मृत्यु हो जाने पर २४ घंटे में परिवार को सभी निपटारा राशि प्रदान कर दुर्लभ उदाहरण प्रस्तुत किया है। परिवार को रेलवे की ओर से १५ लाख ८६ हजार ८१२ राशि का भुगतान किया गया।
राशि लेकर अंतेष्टी में पहुंचे अधिकारी
रेलवे अधिकारियों ने बताया कि भारतीय रेलवे द्वारा इनती शिघ्रता से मामले में निपटरा किया कि २४ घंटे में मृतक रेल कर्मचारी के परिवार के खाते में राशि पहुंच गई। राशि का चेक लेकर नागपुर के अधिकारी शनिवार को मृतक कर्मचारी के अंतेष्टी में शामिल होने के लिए पहुंचे थे। मृतक कर्मचारी का अंतिम संस्कार होता, उसके पूर्व ही रेलवे के अधिकारियों ने मृतक प्वांट्स मेन रामकरण की पत्नी पुष्पा बाई डढोरे को निपटारा राशि प्रदान की। कर्मचारी के मौत के ६ घंटे में ही परिवार को ४० हजार राहत राशि दी गई। वहीं शनिवार को कर्मचारी कल्याण कोष से ८० हजार की राशि प्रदान की। वहीं १० हजार रूपए अन्य कोष से दिए गए। इस कार्य में प्रवर मंडल कार्मिक अधिकारी गोरक्ष जगता, प्रवर मंडल परिचालन प्रबंधक प्रबंधक आशुतोष श्रीवास्तव , प्रवर मंडल वित्त प्रबंधक विजय कदम और उनकी टीम ने सहकार्य किया।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned