पढ़े, राशन और सब्जी डिलेवरी करने व्यापारी तैयार, वितरण करने नहीं मिल रहे वाहनों को पास

कोरोना संक्रमण के बाद जिले को किए गए लॉक डाउन में लोग राशन और सब्जी के लिए परेशान हो रहे हैं। लॉक डाउन के बाद जैसे कि प्रशासन द्वारा होम डिलेवरी राशन और सब्जी की व्यवस्था करने की बात कही जा रही थी यह सिर्फ कागजों पर ही नजर आ रही है।

बैतूल। कोरोना संक्रमण के बाद जिले को किए गए लॉक डाउन में लोग राशन और सब्जी के लिए परेशान हो रहे हैं। लॉक डाउन के बाद जैसे कि प्रशासन द्वारा होम डिलेवरी राशन और सब्जी की व्यवस्था करने की बात कही जा रही थी यह सिर्फ कागजों पर ही नजर आ रही है। व्यापारियों के मुताबिक इसकी खास वजह राशन और सब्जी पहुंचाने के लिए वाहनों को पास जारी नहीं होना है। प्रशासन द्वारा सब्जी और राशन के वितरण के लिए बनाई गई व्यापारियों की सूची लोगों तक नहीं पहुंच रही है। सब्जी कैसे मंगाना है और कहां से लेना हैं इसकी जानकारी भी नहीं मिल पा रही है। उद्यानिकी विभाग के सब्जी वाहन की लोग राह ताक रहे हैं,लेकिन यह भी नहीं पहुंच रहा है। इधर लॉक डाउन में पुलिस ने शहर में घुमने वाले लोगों को रोकने और दुकानें बंद करने के लिए व्यापक इंतजाम किए हैं। शहर में जगह-जगह बेरिकेड्स लगाए हैं। दिन पुलिस का वाहन भी घूम रहा है। चौक-चौराहों पर पुलिस बल भी तैनात किया है। लॉक डाउन शहर में प्रमुख सड़कों पर ही दिखाई दे रहा है। शहर में ही मोहल्ले में दुकानें खुल रही है। लोग घूम भी रहे हैं। पुलिस के पहुंचने के पर लोग दुकानें बंद कर लेते हंैं और कुछ देर के लिए इधर-उधर हो जाते हैं,फिर इसके बाद वही हालत हो जाते हैं।
सब्जी वितरण की थोपी जिम्मेदारी,व्यवस्था नहीं
सब्जी के थोक और चिल्लर विक्रेता संघ के अध्यक्ष राजकुमार राठौर ने बताया कि प्रशासन द्वारा उनके संघ के तीन पदाधिकारियों का नंबर जिले भर में सब्जी की होम डिलेवरी के लिए जारी कर दिया है। इसकी जानकारी भी हमे नहीं है। जिले भर से सब्जी की व्यवस्था के लिए लोगों के फोन आ रहे हैं। फोन की वजह से ही परेशान हो रहे हैं। वही अधिकारियों ने नंबर जारी करने को लेकर कोई सूचना नहीं दी। सब्जी वितरण को लेकर कोई इंतजाम भी नहीं किए हैं। वाहनों के पास तक जारी नहीं करवाए हैं। गुरुवार सब्जी वितरण को लेकर अधिकारियों से पास को लेकर चर्चा भी की है,लेकिन कोई स्पष्ट जवाब नहीं मिल पाया है। राठौर ने बताया कि सब्जी वितरण के लिए जिले के गांव से ही सब्जी मंगवाना पड़ेगा। सब्जी मंगवाने के लिए कोई पास की व्यवस्था नहीं हो पा रही है। गांव में किसानों के पास सब्जी की व्यवस्था हैं,और लोगों को इसकी जरुरत भी है लेकिन पास आदि की व्यस्था नहीं होने से सब्जी वितरण नहीं हो पा रहा है। लोग सब्जी के लिए परेशान हो रहे हैं। गली-कूचे में चोरी-छिपे सब्जी बेची जा रही है,यहां तक कि सब्जी के मनमाने दाम भी वसूल किए जा रहे हैं। वाहनों के लिए पास की व्यवस्था भी होती हैं तो सब्जी मंगवाने और वितरण में दो दिन का समय लग जाएगा।
राशन को लेकर भी यही हालत
जिस तरह से सब्जी वितरण की व्यवस्था है। ठीक उसी तरह से राशन वितरण को लेकर भी व्यवस्था है। जिम्मेदार अधिकारियों को राशन वितरण की कोई जानकारी ही नहीं है। व्यवस्था करने की बात कर रहे हैं। वही सोशल मीडिया पर राशन वितरण की सूची घूम रही है। राशन वितरण की होम डिलेवरी को लेकर भी व्यवस्था फ्लॉप नजर आ रही है। कागजों में ही प्लाङ्क्षनग बन रही है। धरातल पर कुछ नजर नहीं आ रहा है। राशन के लिए लोग परेशान हो रहे हैं। कई बाहर से आए मजदूर और जरुरतमंदों के पास राशन ही समाप्त हो गया है। नगर पालिका राशन वितरण के लिए आने वाले आवेदन को एसडीएम कार्यालय से पास जारी करने भिजवा देने की बात कही जा रही है।
उद्यानिकी का वाहन नहीं आ रहा नजर
शहर में सब्जी वितरण को लेकर उद्यानिकी विभाग शहर के चार रुटों पर सात वाहन भेजने की बात कही जा रही है,लेकिन क्षेत्र में यह वाहन नजर ही नहीं आ रहे हैं। लोग सब्जी के लिए वाहनों की रास्ता देख रहे हैं। सब्जी वितरण को लेकर जारी किए गए नंबर पर आम लोग मोबाइल लगा रहे हंैं। इन नंबरों पर भी फोन नहीं उठाया जा रहा है। सब्जी के दामों को लेकर सोशल मीडिया पर जो सूची जारी की गई है। उसमें दाम भी अधिक होना बताया जा रहा है।
इनका कहना
किराना वितरण के लिए हमारे पास २८ लोगों के आवेदन आए थे। पास जारी करने के लिए एसडीएम के पास भेज दिए हैं। वही से पास जारी होंगे।
प्रियंका सिंह, सीएमओ नपा बैतूल।
-हमारे द्वारा १० से १५ थोक और चिल्लर में राशन वितरण के लिए पास जारी किए हैं। सब्जी के लिए सात से आठ और फल के लिए तीन लोगों को पास जारी किए है,जो लोग आ रहे हैं उन्हें पास जारी कर रहे हैं।
राजीव रंजन पांडे, एसडीएम बैतूल।

Devendra Karande Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned