पढि़ए, कार ने कैसे बचाई एक युवक की जान

पढि़ए, कार ने कैसे बचाई एक युवक की जान
Youth leap

Devendra Kumar Karande | Updated: 09 Sep 2017, 09:15:00 PM (IST) Betul, Madhya Pradesh, India

 एलआईसी  बिल्डिंग से शुक्रवार दोपहर एक युवक के चौथे माले से सीधे नीचे गिरने पर हड़कंप मच गया।

बैतूल। शहर के सिविल लाइन स्थित एलआईसी की बहुमंजिला इमारत से शुक्रवार दोपहर एक युवक के चौथे माले से सीधे नीचे गिरने पर हड़कंप मच गया। युवक ऊपर से सीधे कार के शीशे में जाकर गिरा जिससे उसकी जान तो बच गई लेकिन अंदुररूनी रूप से गंभीर चोटे पहुंची है। हादसे के बाद लोगों की भारी भीड़ जमा हो गई थी। किसी को समझ ही नहीं आ रहा था कि मांजरा क्या है। भीड़ में खड़े कुछ लोग तो ब्लू वेल गेम की वजह से आत्महत्या के प्रयास से भी मामले को जोड़कर देख रखे थे, लेकिन बाद में पता चला कि युवक मानसिक रूप से विक्षिप्त है और पार्ढुंना का रहने वाला है। जो बैतूल में अपने जीजा के घर आया था। दोपहर में जीजा ने उसे पार्ढुना जाने के लिए बस स्टैंड पर छोड़ा था लेकिन वह कैसे एलआईसी बिल्डिंग के ऊपर पहुंचकर कूद गया यह समझ से परे हैं। घटना के बाद युवक को घायल हालत में १०८ की मदद से तत्काल इलाज के लिए जिला *****्पताल ले जाया गया। यहां प्राथमिक उपचार किए जाने के बाद युवक को डॉक्टर द्वारा भर्ती किया गया लेकिन युवक उठकर भागने की कोशिश कर रहा था। जिसे पुलिसकर्मियों ने पकड़ लिया। पुलिस के मुताबिक युवक विक्षिप्त होने की वजह से अपना नाम भी उलटा-सीधा बता रहा है। पहले ब्रज भलावी बताया तो बाद में कुछ ओर बता रहा है। जिसके कारण उसकी सही पहचान नहीं हो सकी है। हालांकि युवक का कहना था कि वह पार्ढुंना का रहने वाला है।
कार का कांच हुआ चकनाचूर
एलआईसी बिल्डिंग के चौथे माले से छलांग लगाने वाला युवक सीधे नीचे खड़ी चमचमाती सफेद रंग की कार के विंडो स्क्रीन पर जा गिरा। जिससे कार के सामने की तरफ की बॉडी और विंडो स्क्रीन चकनाचूर हो गए। गनीमत यह रही कि हादसे में युवक की मौत नहीं हुई। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक यदि कार उस जगह पर खड़ी नहीं होती तो हादसे में युवक की मौत होना तय थी। इधर हादसे के बाद युवक के आसपास लोगों की भारी भीड़ भी जमा हो गई थी। चूंकि ब्लू व्हेल गेम की दहशत इन दिनों चर्चा में है और इसी तरह लोग ऊंचाई से कूदकर आत्महत्या करते हैं इसलिए युवक को देख लोग यहीं अंदाजा लगा रहे थे कि कहीं वह भी गेम का शिकार तो नहीं हो गया, लेकिन हादसे के बाद भी युवक बोलने लायक स्थित में था, जिससे उसकी मानसिक विक्षिप्ता का पता चला। घटना के बाद युवक *****्पताल जाने से परहेज कर रहा था लेकिन १०८ के कर्मचारी उसे जबदस्ती *****्पताल इलाज के लिए ले आए। यहां भी युवक ने इलाज होने के बाद भागने की कोशिश की। इधर पुलिस युवक के परिजनों एवं रिश्तेदारों से संपर्क करने में लगी है ताकि उनके सुपुर्द युवक को किया जा सके।

 

 

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned