पढ़े, एसडीएम ने दो अवैध कॉलोनियों को प्रबंधन में दर्ज किया

अवैध कॉलोनी निर्माण को लेकर एसडीएम न्यायालय द्वारा छह कॉलोनाइजरों को कारण बताओ नोटिस जारी किए गए थे। २४ जनवरी को कॉलोनाइजरों को नोटिस का जवाब प्रस्तुत करने सहित कॉलोनी निर्माण के लिए विकास अनुमति प्रस्तुत की जाना थी। कॉलोनाइजरों के पास विकास अनुमति नहीं होने पर एसडीएम ने कॉलोनी की कुल १.९३०० हेक्टेयर जमीन को प्रबंधन में दर्ज कर लिया है।

बैतूल। अवैध कॉलोनी निर्माण को लेकर एसडीएम न्यायालय द्वारा छह कॉलोनाइजरों को कारण बताओ नोटिस जारी किए गए थे। २४ जनवरी को कॉलोनाइजरों को नोटिस का जवाब प्रस्तुत करने सहित कॉलोनी निर्माण के लिए विकास अनुमति प्रस्तुत की जाना थी। कॉलोनाइजरों के पास विकास अनुमति नहीं होने पर एसडीएम ने कॉलोनी की कुल १.९३०० हेक्टेयर जमीन को प्रबंधन में दर्ज कर लिया है। उल्लेखनीय हो कि पत्रिका ने २१ जनवरी को अवैध कॉलोनी निर्माण में छह कॉलोनाइजर को नोटिस शीर्षक से खबर प्रकाशित की थी। जिसके बाद कॉलोनी को प्रबंधन में दर्ज करने की कार्रवाई की गई है। बताया गया कि अब इस कॉलोनी के प्लाट न तो कोई बेच सकेगा और न ही खरीद पाएगी। जब तक कॉलोनाइजर नियमानुसार कॉलोनी का विकास नहीं करता है तब तक कॉलोनी प्रबंधन में दर्ज रहेगी।
छह कॉलोनाइजरों को जारी किए नोटिस
अनुविभागीय राजस्व न्यायालय द्वारा अवैध कॉलोनी निर्माण को लेकर एसआर डेवलपर्स बैतूल पार्ट्नर्स को नोटिस जारी किए गए थे। नोटिस में तीन दिन में जवाब प्रस्तुत करने के लिए कहा था, लेकिन कॉलोनाइजरों द्वारा न तो जवाब प्रस्तुत किया गया और न ही विकास अनुमति के दस्तावेज उपलब्ध कराए गए। जिसके बाद एसडीएम कार्यालय के माध्यम से मौजा बडोरा खसरा नंबर २२९/१, २३०/१०, २३०/१४ रकबा १.५७६०, ०.१४४, ०.२१० कुल हेक्टेयर १९.३०० भूमि को प्रबंधन में दर्ज कर लिया गया है। बताया गया कि कॉलोनाइजरों द्वारा उक्त जमीन पर मुरम से अर्थवर्क, बोल्डर से कच्चा रास्ता बनाकर अवैध कॉलोनी का निर्माण किया जा रहा था।
एक अन्य कॉलोनी को प्रबंधन में दर्ज किया गया
बड़ोरा क्षेत्र की ही एक अन्य कॉलोनी को प्रबंधन में दर्ज किया गया है। बताया गया कि बडोरा क्षेत्र में खसरा नंबर २२०/१ रकबा २.५८० हेक्टेयर को प्रबंधन में लिया गया है। यह कॉलोनी गोकुल बिहारी के नाम से थी। इस कॉलोनी के निर्माण के लिए भी विकास की अनुमति नहीं ली गई थी। कॉलोनी के सभी प्लाट कॉलोनाइजरों द्वारा बेच दिए गए हैं। जिससे कॉलोनी के प्रबंधन में दर्ज होने से आम लोगों की परेशानियां बढ़ सकती है।

Devendra Karande Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned