कागजों में शहीद हुआ गणेश, झापल में कर रहा मजदूरी

कागजों में शहीद हुआ गणेश, झापल में कर रहा मजदूरी

Rakesh Kumar Malviya | Publish: Aug, 13 2018 12:23:55 AM (IST) Hoshangabad, Madhya Pradesh, India

सेना में नौकरी का फर्जीवाड़ा, शहीदों के सत्यापन में हुआ खुलासा, गणेश के दस्तावेज पर एक युवक ने सेना में पाई थी नियुक्ति


चिचोली। क्षेत्र में युवकों द्वारा फर्जीवाड़ा कर नौकरी हासिल करने के मामले एक के बाद एक खुलते जा रहे हैं। अभी कुछ दिन पहले आदिवासी के फर्जी दस्तावेज लगाकर नौकरी करने वाले युवक राजेश यादव को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेजा है कि दूसरा फर्जीवाड़ा फिर सामने आ गया है। ढोलियाढाना मलाजपुर निवासी गणेश यादव के नाम पर भी एक युवक फर्जी रुप से सेना में भर्ती हो गया। सेना में नौकरी करते हुए यह युवक शहीद हो गया। शहीद के परिजनों को शासन से १५ अगस्त पर मिलने वाली राशि के लिए शहीद परिवार का सत्यापन किया गया तो खुलासा हुआ है कि गणेश जिंदा है और मजूदरी करता है। अब पुलिस गणेश के नाम से फर्जी नौकरी करने वाले युवक का पता लगा रही है। गणेश के नाम पर किसने नौकरी हासिल की और शहीद हुआ। शासन से क्या फायदे लिए गए।
शासन द्वारा शहीदों के परिजनों को 15 अगस्त को दस लाख रुपए दिए जाना है। इसके लिए शहीद के परिवारों का सत्यापन कराया जा रहा है। सत्यापन में थाना क्षेत्र के कटकुही डोलिया ढाना निवासी गणेश सुखन्दन से तज्दीक में पाया कि शहीद गणेश पिता सुखनंदन वर्तमान में जीवित है,जिसकी उम्र 29 वर्ष है और वह अपनी पत्नी लक्ष्मी के साथ थाना ग्राम झापल में मजदूरी कर रहा है। पिता सुखनंदन यादव द्वारा भी शहीद गणेश के जीवित होने की पुष्टि की है। अब सवाल यह उठता है कि शहीद गणेश के नाम पर कौन व्यक्ति केंद्र सरकार में रायफल मेन के पद पर भर्ती हुआ था। 2017 में जो जवान शहीद हुआ जिसका अंतिम संस्कार राष्ट्रीय सम्मान के साथ जिला के प्रशासनिक अधिकारी ,क्षेत्रीय विधायक ,एवं क्षेत्रीय जनप्रतिनिधि एवं आम जनों की उपस्थिति में रामप्रसाद यादव के निवास पर मलाजपुर में किया गया था।

लवकुश की नियुक्ति पर उठ रहे सवाल
मलाजपुर निवासी लवकुश वर्ष 2017 में सेना में जवान रहते हुए शहीद हुआ था। लवकुश की सर्पदंश से मौत हुई थी। लवकुश की नियुक्ति को लेकर सवाल उठाए जा रहे हैं। इस संबंघ में समाज सेवी भीम सेना के जिला प्रवक्ता मेजर विनोद यादव ने मामले की निष्पक्ष जांच की मांग की है। केंद्र सरकार द्वारा दी जा रही सहायता राशि जो लाखों में है वह कौन के खाते में जमा कर उसका उपयोग किन लोगों के द्वारा किया जा रहा है। जानकारी जुटाकर फर्जीवाड़ा करने वालों पर कार्रवाई की मांग की है। जिसकी जांच भी शुरू हो गई है। तहसीलदार द्वारा जांच की जा रही है। गणेश के किन-किन दस्तावेजों का उपयोग कर जवान लवकुश कैसे आर्मी में भर्ती हुआ है यह जांच का विषय है।

राजेश यादव पहुंचा जेल
सेना में ही आदिवासी युवक रामकिशोर अहाके निवासी सीताडोंगरी के फर्जी दस्तावेज लगाकर नौकरी हासिल करने वाले बन्नूढाना निवासी राजेश यादव को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल दिया है। राजेश ने ड्राइविंग लाइसेंंस बनाने के नाम पर रामकिशोर से दस्तावेज लेकर सेना में भर्ती हो गया था और दो वर्ष से नौकरी कर रहा था। चिचोली पुलिस की जांच पर राजेश के खिलाफ धारा 419 ,420, 467, 468 ,471 ,आईपीसी के तहत केस दर्ज किया है।

इनका कहना
लवकुश द्वारा फर्जी दस्तावेज लगाकर गणेश के नाम से नौकरी हासिल करने की शिकायत मिली है। मामले की जांच की जा रही है। लवकुश के एकाउंट की डिटेल निकाली जा रही है।
निहित उपाध्याय, एसडीओपी शाहपुर।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned