छात्रों ने जुगाड़ से बना डाली इलेक्ट्रिक साइकिल

एक बार चार्ज होने पर चलती है 30 किलोमीटर

By: yashwant janoriya

Published: 18 Feb 2020, 11:31 PM IST

बैतूल. पेट्रेाल के महंगे दाम और पर्यावरण प्रदूषण को कमरे करने के उद्देश्य से शहर के ही एक निजी कॉलेज के छात्रों ने जुगाड़ से इलेक्ट्रिक साइकिल का निर्माण किया है। छात्रों का कहना है कि बाइक की तुलना में इसकी लागत बहुत कम है। कम आय वाले के लिए यह साइकिल अच्छा विकल्प हो सकती है। जुगाड़ की यह साइकिल एक बार चार्ज करने पर 30 किमी तक चल सकती है। घाट में भी इसे चलाया जा सकता है। बैटरी चार्ज करने पर खर्च भी अधिक नहीं होगा।
कॉलेज के छात्र पहले भी कर चुके नवाचार
कॉलेज के प्राचार्य डॉ केके खासदेव ने बताया कि एमएससी कक्षा के छात्र पूर्व में भी इस तरह के नवाचार कर चुके हैं। छात्रों को प्रोजेक्ट तैयार करना होता है,जिसके तहत छात्र नवाचार करते हैं। छात्रों ने पूर्व में वॉल हेङ्क्षगग कूलर, ड्रोन और विंड मिल का भी निर्माण कर चुके हैं। छात्रों द्वारा अब इलेक्ट्रिक साइकिल बनाई है। छात्रों को इसे अपने नाम से पेंटेंट करने में जो भी मदद लगेगी कॉलेज के माध्यम से की जाएगी।
दस हजार में तैयार की साइकिल
शहर के वीवीएम कॉलेज एमएससी चतुर्थ सेमेस्टर भौतिक के छात्रों ने यह इलेक्ट्रिक साइकिल बनाई है। इसे खासतौर से छात्र सुमीत बारमासे और अंकित वर्मा ने तैयार किया है। छात्रों ने बताया कि पेट्रोल की मंहगाई और दिल्ली में जिस तरह से पर्यावरण प्रदूषण है। इसको देखते हुए इलेक्ट्रिक साइकिल तैयार की है। जुगाड़ की इस साइकिल में सबसे पहले एक मोटर लगाई है। फ्रेविल बड़ा और मोटरसाइकिल की चैन लगाई गई है। इसके साथ बैटरी का उपयोग किया है। एक्सीलेटर के माध्यम से यह साइकिल चलती है। बैटरी को चार्ज करना पड़ता है। एक बार बैटरी चार्ज करने पर इसे ३० किलोमीटर तक चल सकते हैं। घाट में भी यह साइकिल चल सकती है।रात के समय चलने को लेकर लाइट भी लगाया है। कॉलेज के छात्रों के सहयोग से ही इसे लगभग १५ दिनों में तैयार किया है। इसकी कीमत लगभग १० हजार रुपए के आसपास है। छात्रों के द्वारा तैयार की गई इस साइकिल की सभी तरफ चर्चा हो रही है। कॉलेज के जिस भी छात्र को इसकी जानकारी लगती वह चलाने से नहीं चूकता। साइकिल को तैयार करने वाले छात्रों का कहना है कि इसे और मॉडीफाय करके बनाया जाए तो कम आय वाले लोगों के लिए यह एक बेहतर विकल्प हो सकता है।

yashwant janoriya
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned