जिले की बारिश 500 मिमी. पर थमा, 31 जलाशयों में सूखे के हालात

जिले की बारिश 500 मिमी. पर थमा, 31 जलाशयों में सूखे के हालात

rakesh malviya | Publish: Sep, 07 2018 08:26:22 PM (IST) Hoshangabad, Madhya Pradesh, India

जिले में औसत सामान्य बारिश से आधी बारिश होने पर बिगड़े हालात, सापना जैसी मध्यम परियोजना में जलस्तर एलएसएल लेबल से 1.927 मीटर ऊपर पहुंचा

बैतूल। जिले में अल्पवर्षा की स्थिति ने जलाशयों में सूखे के हालात निर्मित कर दिए हैं। 31 जलाशयों में जलभराव की स्थिति जीरो प्रतिशत होना बताई जा रही है। वहीं बारिश का आंकड़ा 500 मिमी पर जाकर थम गया है। जबकि जिले में बारिश का कुल औसत 1083.9 मिमी बताया जाता है। सापना जलाशय जैसी मध्यम परियोजना में इस साल 3.293 मिलियन क्यूबिक मीटर जलभराव हुआ है। जबकि जलाशय की जलभराव क्षमता 14.316 मिलियन क्यूबिक मीटर बताई जाती है। बारिश की असमान्य स्थिति के कारण शतप्रतिशत जलभराव अभी तक किसी भी जलाशय में नहीं हो सका है। पिछले साल भी बारिश की ऐसी ही स्थिति के चलते आधा सैडक़ा जलाशय सूखे रह गए थे। इस साल भी यही हालात निर्मित होने के चलते जिले में सूखे के आसार नजर आ रहे हैं।

80 जलाशय सहित 3 बैराज
जलसंसाधन विभाग बैतूल डिविजन के अंतर्गत 79 जलाशय, सापना मध्यम परियोजन सहित 3 बैराज आते हैं। इस साल अल्पवर्षा के चलते इन जलाशयों में सूखे के हालात बने हुए हैं। चिलकापुर, कोलगांव, सेहरा एवं मारू जलाशय में 26 से 50 प्रतिशत जलभराव हुआ है। कुर्सी जलाशय में 51 से 75 प्रतिशत के बीच भरा हुआ है। जबकि 76 से 100 प्रतिशत के बीच खामला और कुंड जलाशय भरे होना बताए जा रहे हैं। हालांकि शतप्रतिशत जल भराव अभी तक किसी भी जलाशय में नहीं हो सका है।

इन जलाशयों में नहीं आया एक बूंद पानी
अल्पवर्षा के चलते जिले के 31 जलाशयों में एक बूंद पानी तक नहीं आया है। जिसके कारण इन जलाशयों का एलएसएल लेबल (न्यूनतम जल स्तर) जीरो प्रतिशत होना बताया जा रहा है। इनमें बोरगांव-२ कोदारोटी, गोलीबरगी, झगडिय़ा, झाड़ेगांव, खंडारा, अपरजावरा, बरेठा, बुड्ढी, चिलम टेकड़ी, देशावाड़ी, दुल्हारगढ़, हाथीकुंड, मोतीढाना, निशाना, पहावाड़ी, पाथई, पॉवरझंडा, सालीमेट, पूंजी, रावणवाड़ी, भीकुंड, बोरगांव, धनगांव, जामझिरी, जूनावानी, कोलगांव, मच्छी, पिपरिया, रामजीढाना, रायता, सिवनपाट शामिल है। इन जलाशयों में हालात सूखे जैसे हैं।

17 जलाशयों में 25 प्रतिशत जलभराव
जिन क्षेत्रों में अच्छी बारिश हुई है वहां जलाशयों में जलभराव की स्थिति बेहतर होना बताई जा रही है। बैतूल डिविजन के कुल 17 जलाशयों में 11 से 25 प्रतिशत के बीच होना बताया जा रहा है। इनमें बलईमाल, नांदरा, देवपुर, पाटाखेड़ा, सरंडई गोराखार, कोसमी, उड़दन, डोडाजाम, जगधर, गोंडीगौला, गोदना, भीमपुर, लाखापुर, गुनघाटी, चिखली, लक्कडज़ाम शामिल है। इन जलाशयों में जलस्तर न्यूनतम जलस्तर से सिर्फ एक मीटर ऊपर होना बताया जाता है।

सापना मध्यम परियोजना भी खाली
मध्यम परियोजना सापना में जलस्तर 3.293एमसीएम(मिलियन क्यूबिक मीटर) होना बताया जा रहा है। जबकि जलाशय की जलभराव क्षमता 14.316 एमसीएम है। जलाशय को पूरा भरने के लिए 11.023 एमसीएम पानी की आवश्यकता है। बताया गया कि सापना जलाशय का एसएसएल लेबल (न्यूनतम जल स्तर) 686.100 एमसीएम है। वर्तमान में जलाशय में एलएसएल लेबल से 688.027 एमसीएम होना बताया जा रहा है। जो एसएसएल लेबल 1.927 एमससीएम ऊपर है।

फैक्ट फाइल
जलाशयों में जलभराव की स्थिति
0 प्रतिशत जलभराव 31 जलाशय
1 से 10 प्रतिशत जलभराव 25 जलाशय
11 से 25 प्रतिशत जलभराव 17 जलाशय
26 से 50 प्रतिशत जलभराव 04 जलाशय
51 से 75 प्रतिशत जलभराव 01 जलाशय
76 से 100 प्रतिशत जलभराव 02 जलाशय

Ad Block is Banned