साढ़े तीन हजार करदाताओं ने नहीं भरा रिटर्न

साढ़े तीन हजार करदाताओं ने नहीं भरा रिटर्न

Sandeep Nayak | Updated: 15 Aug 2018, 07:00:00 AM (IST) Hoshangabad, Madhya Pradesh, India

वाणिज्यकर विभाग ने व्यापारियों को जारी किए नोटिस

बैतूल. जीएसटी में पंजीयन कराने के बाद भी जिले के साढ़े तीन हजार से अधिक व्यापारियों ने अभी तक अपना रिटर्न जमा नहीं कराया है। वाणिज्यकर विभाग ने ऐसे व्यापारियों को नोटिस जारी कर रिटर्न भरने की हिदायत दी हैं। दरअसल में वाणिज्यकर आयुक्त ने समय पर रिटर्न जमा नहीं करने वाले डिफाल्टर व्यापारियों के पंजीयन निरस्त करने के निर्देश जारी किए हैं। जिसके बाद हरकत में आए विभाग द्वारा व्यापारियों को नोटिस जारी कर रिटर्न भरने की बात कहीं जा रही है।
हर महीने रिटर्न जमा करने वालों की संख्या ज्यादा: जीएसटी के तहत व्यापारी मंथली और तिमाही रिटर्न जमा कर सकते हैं। मंथली रिटर्न जमा करने की सुविधा सभी व्यापारियों को प्रदान की गई है जबकि तिमाही रिटर्न डेढ़ करोड़ वार्षिक टर्न ओवर से नीचे वाले व्यापारियों के लिए है। हालांकि वे भी स्वेच्छा से मंथली रिटर्न जमा कर सकते हैं। बताया गया कि इस महीने करीब 3 हजार व्यापारियों द्वारा समय पर रिटर्न नहीं भरा गया है। जबकि छह महीने से अधिक समय तक रिटर्न जमा नहीं करने वाले व्यापारियों की संख्या 300 के लगभग बताई जाती है।
५० रुपए प्रतिदिन लग रही पेनाल्टी: जीएसटी के तहत समय पर रिटर्न जमा नहीं करने पर व्यापारियों को प्रतिदिन ५० रुपए के हिसाब से पेनाल्टी लगाई जा रही है। जीएसटी सॉफ्टवेयर में जो नया प्रावधान किया गया है उसमें यदि कोई व्यापारी पिछले महीने का रिटर्न जमा नहीं कर पाया है चालू महीने का रिटर्न जमा करता है तो सॉफ्टवेयर रिटर्न नहीं लेगा। व्यापारियों को पहले पिछले महीने का रिटर्न पेनाल्टी सहित जमा करना होगा उसके बाद ही वह चालू महीने का रिटर्न जमा कर सकेंगे। इस स्थिति के चलते कई व्यापारियों द्वारा अभी तक रिटर्न जमा नहीं किया जा सकता।
रिटर्न डिफाल्टरों के पंजीयन निरस्त करने के निर्देश- वाणिज्यकर आयुक्त ने समस्त विभागों को एक पत्र जारी कर रिटर्न जमा नहीं करने वाले डिफाल्टर व्यापारियों के पंजीयन तत्काल निरस्त करने के निर्देश जारी किए हैं। उन्होंने कहा है कि जो निसक्रिय व्यापारी है और छह माह से अधिक अवधि से रिटर्न जमा नहीं कर रहे हैं उनका पंजीयन निरस्त कर दिया जाए। बताया गया कि अकेले बैतूल जिले में ऐसे व्यापारियों की संख्या ३०० के लगभग है। विभाग अब ऐसे व्यापारियों के जीएसटी पंजीयन निरस्त निरस्त करने की तैयारी कर रही है।
विभाग ने शुरू की हेल्पलाइन डेस्क- जीएसटी के तहत रिटर्न जमा करने को लेकर व्यापारियों को आ रही परेशानियों को देखते हुए वाणिज्यकर विभाग ने हेल्पलाइन डेक्स भी शुरू की है। डेक्स के माध्यम से व्यापारियों की समस्याओं का तत्काल निराकरण करने का दावा किया जा रहा है। वहीं ब्लॉकों में जीएसटी को लेकर कार्यशालाओं का आयोजन भी किया जा रहा है। जिसमें जीएसटी में रिटर्न दाखिल करने को लेकर व्यापारियों को जानकारी दी जा रही है। इसके अलावा जीएसटी के फायदे भी गिनाए जा रहे हैं।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned