कोतवाली में फरियादी की मौत मामले में सीबीआई जांच की मांग को लेकर आमरण अनशन शुरू

Sunil Yadav

Publish: Jul, 13 2018 07:43:37 PM (IST)

Bhadohi, Uttar Pradesh, India

भदोही. जिले के गोपीगंज कोतवाली में बीते 29 जून को फरियादी रामजी मिश्रा की मौत के मामले में सीबीआई जांच और आरोपी इंस्पेक्टर की गिरफ्तारी की मांग को लेकर आमरण अनशन शुरू हो गया है। आमरण अनशन पर बैठे स्थानीय नागरिक धर्मेंद्र द्विवेदी का आरोप है कि अगर इंस्पेक्टर को गिरफ्तार नहीं किया गया तो वे मामले की जांच को प्रभावित कर सकते हैं। वहीं आमरण अनशन शुरू होने के बाद पुलिस आगे की कार्रावई को लेकर दबाव में दिख रही है।

गौरतलब हो कि बीते 29 जून को भाई से जमीन के विवाद के मामले को लेकर गोपीगंज के फूलबाग निवासी ऑटो चालक रामजी मिश्रा गोपीगंज कोतवाली गए थे। जहां उनकी मौत हो गयी। मामले में मृतक की बेटी ने आरोप लगाया कि थाने के अंदर पुलिस ने पहले उनके पिता की पिटाई किया और उन्हें लॉकअप में बंद कर दिया। जिसके बाद उनकी मौत हो गयी। जबकि पुलिस का कहना था कि वो थाने में पहुंचे थे जिसके बाद बातचीत के दौरान हार्ट अटैक से जमीन पर गिरे उन्हें अस्पताल ले जाया गया। लेकिन उनकी मौत हो गयी।

 

जिसके बाद मृतक की बेटी ने पुलिस पर कार्रवाई की मांग की लेकिन सुनवाई होता न देख परिवार और स्थानीय लोगों ने सड़क जाम कर दिया। जिसके बाद मामला सुर्खियों में आने के बाद राजधानी तक पहुंच गया। मामले में पुलिस को बैकफुट पर आता देख तत्कालीन पुलिस अधीक्षक ने कोतवाली के इंस्पेक्टर सुनील वर्मा को पहले लाइन हाजिर किया फिर दो दिन के बाद उनपर धारा 302 के तहत मुकदमा दर्ज कर दिया। कुछ दिनों बाद एसपी सचिंद्र पटेल का गैर जनपद स्थानांतरण हो गया और जनपद में नवागत एसपी ने चार्ज लिया। नवागत एसपी के चार्ज लेते ही इस मामले ने फिर टूल पकड़ना शुरू कर दिया। अब मामले में आरोपी इंस्पेक्टर सुनील वर्मा की गिरफ्तारी के साथ पूरे मामले की सीबीआई जांच की मांग को लेकर आमरण अनशन भी शुरू हो गया है। अब देखने वाली बात होगी कि इस मामले में नवागत एसपी किस तरह का फैसला लेते हैं।

By- महेश जायसवाल

Ad Block is Banned