बाबा ने कहा था मौन साधना करने गुफा में जा रहा हूं, दस दिन के बाद लोगों ने जाकर देखा तो हो गये अचंभित

Ashish Shukla

Publish: May, 18 2018 03:42:07 PM (IST)

Bhadohi, Uttar Pradesh, India
बाबा ने कहा था मौन साधना करने गुफा में जा रहा हूं, दस दिन के बाद लोगों ने जाकर देखा तो हो गये अचंभित

संत को कोई पुकारता नहीं है कि बाबा गुफा में साधना कर रहे होंगे उन्हे बुलाना शायद अच्छा न हो

भदोही. गंगा के किनारे सालों से रह रहा एक संत जो दस दिन पहले लोगों से मुलाकात करता है। एक सुरंग भी बनाता है और लोगों से कहता है कि अब मैं इसी गुफा मे जाकर मौन साधना करूंगा। वो अचानक गायब भी हो जाता है। लोग उसकी कुटिया तक जाते तो हैं लेकिन उसे संत को कोई पुकारता नहीं है कि बाबा गुफा में साधना कर रहे होंगे उन्हे बुलाना शायद अच्छा न हो।

लेकिन शुक्रवार को इस बाबा गुफा और मौन साधना का रहस्य इसलिए बिल्कुल गहरा जाता है कि उस बाबा की लाश सड़ी हालत में मिलती है। लोग हैरान हो जाते हैं इलाके में बाबा के मौत की खबर आग की तरह फैल जाती है। जिस बाबा के इकने सारे भक्त हों जिससे आशीर्वाद लेने के लिए इलाके के लोग आते जाते रहे हों। उस बाबा की मौत की कहानी हमेशा के लिए शायद रहस्य बन गई।

कोइरौना थाना क्षेत्र के फुलवरिया बलुआ घाट पर एक कुटिया बनाकर पिछले कई सालों से एक संत रहते थे। इस संत का नाम था खण्डेश्वरी बाबा। अपने साधारण जीवन और लोगों की भलाई का काम करने के लिए ये बाबा इलाके में काफी प्रिय थे। यहां के लोग बाबा के पास जाते और उनसे धार्मिक बातें किया करते थे। बाबा भी लोगों के साथ घुल मिलकर आध्यात्म कि दुनियां में रम गये थे।

इलाके के लोग बताते हैं कि बाबा एक गुफा बनाये थे। दस दिन पहले लोगों को बुलाकर कहा कि मैं इस गुफा में मौन साधना करने जा रहा हूं। कोई हो सके तो मुझे को ना बुलाये। बाबा के ऐसे कहने के बाद लोगों को लगा कि बाबा की साधना है ऐसे में उनसे कुछ दिन दूर रहा जाये।

शुक्रवार को कुछ लोग बाबा की कुटिया के पास पहुंचे तो वहां का नजारा देखकर हैरान हो गये। क्षत-बिक्षत हाल में बाबा का शव गंगा के किनारे मिला। सड़ी गली लाश देख लोगों को ऐसा लगा कि जैसे मौत के एक सप्ताह बीत गये हों। बाबा के मौत की खबर इलाके में आग की तरह फैल गई। अब बाबा की मौत कैसे हुई यह स्पष्ट नही हो सका है। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है और पूरे मामले की जांच में जुटी हुई है। आस-पास के लोग बाबा के ऐसे छोड़ जाने से काफी दुखी हैं। हर कोई इस रहस्य को लेकर परेशान है कि आखिर बाबा ने गुफा फिर मौन साधना जैसी बातों को क्यों कहा।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned