जानिये कौन है श्याम कुमारी मौर्य, समाजवादी पार्टी ने घोषित किया है भदोही से जिला पंचायत अध्यक्ष प्रत्याशी

समाजवादी पार्टी ने भदोही से श्याम कुमारी मौय को सपा की ओर से जिला पंचायत अध्यक्ष प्रत्याशी घोषित किया है। सपा का दावा है कि भदोही में जीते 10 जिला पंचायत सदस्य उनके हैं। इससे यहां मुकाबला रोचक हो चुका है।

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

भदोही. भदोही जिला पंचायत अध्यक्ष पद के चुनाव को लेकर समाजवादी पार्टी ने अपने पत्ते खोल दिये हैं। यहां सपा ने वार्ड संख्या 20 से जिला पंचायत सदस्य का चुनाव जीती श्याम कुमारी मौर्य को अध्यक्ष पद का प्रत्याशी घोषित किया है। गौरतलब हो कि जिला पंचायत चुनाव परिणाम आने के बाद सपा ने दावा किया था कि जीते हुए 10 जिला पंचायत सदस्य उनके हैं। ऐसे में अब जिला पंचायत का चुनाव रोचक हो गया है। अभी भाजपा ने अपना प्रत्याशी घोषित नही किया है।


सपा प्रत्याशी श्याम कुमारी मौर्या पूर्व प्रदेश सचिव और पिछड़ा आयोग के सदस्य रहे प्रमोद चन्द्र मौर्या की बहू हैं। प्रमोद मौर्या गिनती खांटी सपाई नेताओं में होती है। इनके पिता पारस नाथ मौर्या स्वतंत्रता संग्राम सेनानी और सपा से एमएलसी रहे। जिले में समाजवादी पार्टी से जिला पंचायत अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ने के लिए नवनिर्वाचित जिला पंचायत सदस्य नीरा यादव और सूबेदार यादव ने टिकट के लिए दावेदारी की थी। जिलाध्यक्ष विकास यादव ने बताया कि भदोही में पार्टी की एक बैठक हुई जिसमें टिकट मांगने वाले दो दावेदार नीरा और सूबेदार ने श्याम कुमारी मौर्य के समर्थन का फैसला लिया इसके बाद उन्हें प्रत्याशी घोषित कर दिया है।


गौरलब हो कि सपा का दावा है कि नवनिर्वाचित सदस्यों में दस सदस्य पार्टी के नेता और कार्यकर्ता हैं ऐसे में अब देखने वाली बात होगी कि श्याम कुमारी मौर्या जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी पर काबिज हो पाती हैं या नही। क्योंकि जिले में भाजपा विधायक रविन्द्र नाथ त्रिपाठी के भाई और भतीजे जिला पंचायत सदस्य हुए हैं और जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए दावेदारी कर रहे हैं। उनके साथ सपा के एक नवनिर्वाचित सदस्य का फ़ोटो वायरल होने के बाद समाजवादी पार्टी मे खलबली थी। वहीं भाजपा ने अभी अपने पत्ते नही खोले हैं। यह देखने वाली बात होगी कि भाजपा किसे प्रत्याशी बनाती हैं।

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned