script10 and 15 year old vehicles should not be seen on the road | आदेश पुराना, निर्देश नए...सड़क पर नहीं दिखें 10 व 15 साल पुराने वाहन | Patrika News

आदेश पुराना, निर्देश नए...सड़क पर नहीं दिखें 10 व 15 साल पुराने वाहन

-डीजल-पेट्रोल वाले ऐसे वाहनों को लेकर सख्ती

भरतपुर

Published: November 17, 2021 11:58:18 am

भरतपुर. एनसीआर में बढ़ते प्रदूषण को लेकर अब दुबारा से 10 व 15 साल पुराने डीजल-पेट्रोल के वाहनों पर सख्ती की कवायद तेज हो गई है। इसे देखते हुए मुख्य सचिव निरंजन आर्य ने मंगलवार को प्रशासनिक अधिकारियों को प्रदूषण फैलाने वालों के विरूद्ध अविलंब सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। एनसीआर से जुड़़े जिलों में वायु प्रदूषण की स्थिति को गंभीरता से लेते हुए तय हुआ है कि वहां 10 व 15 साल पुराने डीजल व पेट्रोल वाहन सड़कों पर दिखाई नहीं देने चाहिए। साथ ही हिदायत दी गई कि इस काम में किसी प्रकार की चूक नहीं होनी चाहिए। वर्तमान परिस्थितियों में प्रशासन की सर्वोच्च प्राथमिकता प्रदूषण को बढऩे से रोकना होना चाहिए और इसके लिए सभी संबंधित विभाग सामंजस्य व तत्परता से कठोर निर्णय लें।
राजस्थान के कई जिलों की हवा जहरीली होती जा रही है। इसे देखते हुए मुख्य सचिव निरंजन आर्य ने प्रशासनिक अधिकारियों को प्रदूषण फैलाने वालों के विरूद्ध अविलंब सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि प्रशासनिक, पुलिस व राजस्थान राज्य प्रदूषण नियंत्रण मंडल के अधिकारी भिवाड़ी उद्योग क्षेत्र व अलवर की एयर क्वालिटी की सतत् निगरानी करें और प्रदूषण को रोकने के लिए आवश्यक कदम उठाएं। उन्होंने जिला प्रशासन को निर्देश दिए हैं कि प्रदूषण को नियंत्रण करने के लिए आवश्यक कदम उठाएं। प्राकृतिक कारणों के अतिरिक्त प्रदूषण फैलाने वाले अन्य कारकों पर अविलंब सख्त कार्रवाई सुनिश्चित करें। रोड डस्ट से उत्पन्न प्रदूषण की रोकथाम के लिए उद्योग व परिवहन के हितधारकों से संवाद कर कार्य योजना बना कर उसे तत्परता से लागू करें। 10 व 15 साल पुराने डीजल व पेट्रोल वाहनों को हटाने के शत प्रतिशत लक्ष्य को प्राप्त किया जाए। इस कार्य में किसी भी प्रकार की कोताही ना बरती जाए।
आदेश पुराना, निर्देश नए...सड़क पर नहीं दिखें 10 व 15 साल पुराने वाहन
आदेश पुराना, निर्देश नए...सड़क पर नहीं दिखें 10 व 15 साल पुराने वाहन
चिंता बढ़ा रहा है एयर क्वालिटी का गिरता स्तर

वन एवं पर्यावरण की प्रमुख शासन सचिव श्रेया गुहा ने कहा कि नेशनल केपिटल क्षेत्र में स्थित अलवर व भरतपुर के एयर क्वालिटी इंडेक्स एवं ग्रेडेड रेस्पोंस एक्शन प्लान (ग्रेप) की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि नवंबर अब तक भिवाड़ी क्षेत्र में एयर क्वालिटी का स्तर गिरा है, जो कि चिंतनीय है। सभी संबंधित विभागों का तत्परता से कार्य करते हुए एयर क्वालिटी को सुधार करना अति आवश्यक है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

UP Election 2022: यूपी चुनाव से पहले मुलायम कुनबे में सेंध, अपर्णा यादव ने ज्वाइन की बीजेपी5G से विमानों को खतरा? Air India ने अमरीका जाने वाली कई उड़ानें रद्द कीदेश में घट रहे कोरोना के मामले, एक दिन में सामने आए 2.38 लाख केसPM मोदी की मौजूदगी में BJP केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक आज, फाइनल किए जाएंगे UP, उत्तराखंड, गोवा और पंजाब के उम्मीदवारों के नामक्‍या फ‍िर महंगा होगा पेट्रोल और डीजल? कच्चे तेल के दाम 7 साल में सबसे ऊपरशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातप्यार हो तो ऐसा- मंगेतर को उम्र कैद पर युवती ने किया इंतजार, 13 साल बाद लेंगे सात फेरेIND vs SA Dream11 Team Prediction: कैसी रहेगी पिच, बल्लेबाजों को मिलेगी मदद; जानें मैच से जुड़ी सारी अपडेट
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.