scriptAfter all, the responsible did not wake up, the greenery was lost | आखिर नहीं जागे जिम्मेदार, हार गई हरियाली | Patrika News

आखिर नहीं जागे जिम्मेदार, हार गई हरियाली

- 4.50 लाख पौधों का होना था जिले में वितरण
- एक अगस्त से शुरू हुआ पौधा वितरण का पहला चरण

भरतपुर

Published: December 18, 2021 02:16:52 pm

भरतपुर. केन्द्र सरकार की ओर से शुरू की गई हर घर औषधीय पौधा वितरण की योजना को 'अपनोंÓ ने ही पलीता लगा दिया है। जिम्मेदारों के नहीं जागने से हरियाली नर्सरी में ही हार गई है। योजना के पीछे सरकार का उद्देश्य हरियाली बढ़ाने के साथ आमजन को स्वास्थ्य लाभ पहुंचाना था, लेकिन अधिकारी और जनप्रतिनिधियों की उपेक्षा ने इसे गर्त में पहुंचा दिया है।
योजना के तहत जिले में करीब 4.50 लाख पौधों का वितरण होना था, लेकिन अधिकारियों की उदासीनता के चलते अब तक केवल दो लाख 36 हजार 909 पौधे ही वितरित हो सके हैं। पौधा वितरण का पहला चरण एक अगस्त से शुरू हुआ था। इसके बाद दूसरे चरण में भी विभाग को कोई खास सफलता हाथ नहीं लगी है। इसके चलते कई औषधीय पौधे तो बड़ी संख्या में सूख गए हैं, लेकिन जिम्मेदार अभी इनकी सुध नहीं ले रहे हैं।
आखिर नहीं जागे जिम्मेदार, हार गई हरियाली
आखिर नहीं जागे जिम्मेदार, हार गई हरियाली
जिले मेे दो पौधशालाओं से होना था वितरण

केन्द्र सरकार की औषधीय पौधा वितरण योजना के तहत घना के सामने और कम्पनी बाग स्थित दो पौधशालाएं हैं। इनमें कई पौधे विकसित किए जाते हैं। पौधों को विकसित करने के बाद उन्हें नगर निगम, नगर पालिका व पंचायत समितियों में वितरण के लिए भेजा जाता है। इसके बाद वितरण की जिम्मेदारी प्राशासनिक देखरेख में जनप्रतिनिधियों की होती है। यहां पहले चरण में तो पौधा वितरण कार्य में सभी ने रुचि दिखाई, लेकिन अब न प्रशासनिक अधिकारियों का इस ओर ध्यान है और न ही जनप्रतिनिधियों इस कार्य में रुचि ले रहे हैं।
निगम क्षेत्र में सबसे कम वितरण

नगर निगम क्षेत्र में 65 वार्ड हैं। पंचायत समिति कुम्हेर और सेवर के बाद निगम क्षेत्र का लक्ष्य तीसरे स्थान पर था। इसके चलते निगम को विभिन्न वार्डों में 96 हजार औषधीय पौधों का वितरण करना था, लेकिन नगर निगम अपने पार्षदों के जरिए अब तक केवल 35 हजार 12 पौधों का ही वितरण कर सका है। दूसरे चरण में पौधा वितरण की प्रक्रिया सुस्त पड़ गई, जबकि पौधाशाला से कई बार विकसित किए गए पोधों को वितरण के लिए भेजा जाता है। इसके बाद भी सबसे कम पौधा वितरण नगर निगम क्षेत्र में हो सका है।
इन पौधों का होना था वितरण

- अश्वगंधा
- कालमेघ
- नीम गिलोय
- तुलसी
- अमरूद
- पीपल
- बढ़
- गूलर
- अर्जुन
- कदम्ब

यहां इतना हुआ वितरण

क्षेत्र लक्ष्य वितरण
नगर निगम 96,000 35,012
न. पा. कुम्हेर 40,000 14,000
न. पा. उच्चैन 40,000 6,000
पं. समिति कुम्हेर 1,12,000 86,060
पं. समिति सेवर 1,12,000 95,837
इनका कहना है

पौधशाला में केवल पौधों को विकसित करने का काम है। विभिन्न क्षेत्रों से मांग के अनुसार पौधों को उन क्षेत्रों में भेजा जाता है। शहरी क्षेत्र में वितरण कराने की जिम्मेदारी नगर निगम और अन्य स्थानों पर नगर पालिका व पंचायत समिति की है, लेकिन अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों ने सरकार की पौधा वितरण योजना में रुचि नहीं दिखाई। इसके फलस्वरूप कई पौधे सूख गए। पौधशाला में आज भी कई औषधीय पौधे विकसित किए जा रहे हैं।
- देवेंद्र सिंह, क्षेत्रीय वन अधिकारी, भरतपुर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ससुराल में इस अक्षर के नाम की लडकियां बरसाती हैं खूब धन-दौलत, किस्मत की धनी इन्हें मिलते हैं सारे सुखGod Power- इन तारीखों में जन्मे लोग पहचानें अपनी छिपी हुई ताकत“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेशSharp Brain- दिमाग से बहुत तेज होते हैं इन राशियों की लड़कियां और लड़के, जीवन भर रहता है इस चीज का प्रभावमौसम विभाग का बड़ा अलर्ट जारी, शीतलहर छुड़ाएगी कंपकंपी, पारा सामान्य से 5 डिग्री नीचेइन 4 नाम वाले लोगों को लाइफ में एक बार ही होता है सच्चा प्यार, अपने पार्टनर के दिल पर करते हैं राज

बड़ी खबरें

India-Central Asia Summit: सुरक्षा और स्थिरता के लिए सहयोग जरूरी, भारत-मध्य एशिया समिट में बोले पीएम मोदीAir India : 69 साल बाद फिर TATA के हाथ में एयर इंडिया की कमानयूपी चुनाव से रीवा का बम टाइमर कनेक्शननागालैंड में AFSPA कानून को खत्म करने पर विचार कर रही केंद्र सरकारजिनके नाम से ही कांपते थे आतंकी, जानिए कौन थे शहीद बाबू राम जिन्हें मिला अशोक चक्रUP Election 2022: भाजपा सरकार ने नौजवानों को सिर्फ लाठीचार्ज और बेरोजगारी का अभिशाप दिया है: अखिलेश यादवतमिलनाडु सरकार का बड़ा फैसला, खत्म होगा नाईट कर्फ्यू और 1 फरवरी से खुलेंगे सभी स्कूल और कॉलेजपीएम नरेंद्र मोदी कल करेंगे नेशनल कैडेट कॉर्प्स की रैली को संभोधित, दिल्ली के करियप्पा ग्राउंड में होगा कार्यक्रम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.