चाचा से कहा था 10 बजे तक आ जाएंगे, आधा घंटे बाद ही हादसे में चारों की मौत

-हादसा इतना वीभत्स...पिता-पुत्र के सिर तक हो गए अलग

By: Meghshyam Parashar

Published: 22 May 2020, 11:47 PM IST

भरतपुर/नदबई. लुलहारा के पास हुए हादसे में खास बात यह भी है कि यह हादसा सुबह छह बजे से सात बजे के बीच हुआ था। कार मृतक अब्दुल गनी का बेटा शहजाद चला रहा था। हादसे से आधा घंटा पहले ही मृतक ने अपने चाचा से जयपुर बात भी की थी। इसमें चाचा के पूछने पर उसने कहा था कि चाचा हम सुबह 10 बजे तक घर पहुंच जाएंगे। पुलिस अधिकारियों का भी मानना है कि हादसा नींद की झपकी लगने के कारण ही हुआ है। गर्मी के इस मौसम में सुबह पांच बजे से सात बजे के बीच ही झपकी लगने के कारण इस तरह के हादसे के मामले अधिक सामने आते हैं। जानकारी के अनुसार जयपुर के झोटवाडा क्षेत्र के मनिहारों की मस्जिद निवासी अब्दुल गनी पुत्र रुस्तम खां परिवार के साथ कार से आगरा से जयपुर लौट रहे थे। लखनपुर थाने के तहत हाई-वे पर लुलहारा मोड के पास चालक को नींद की झपकी आने से कार आगे चल रहे अज्ञात वाहन से टकरा गई। हादसे में कार सवार अब्दुल गनी, पत्नी शकीला, पुत्र शहजाद खां व उसकी भाभी सलमा वेबा मोहम्मद हनीफ की मौके पर ही मौके पर हो गई।

तीन घंटे तक परिजन करते रहे शवों के लिए इंतजार

हाइवे पर हुए हादसे में चार जनों की मौत के बाद सूचना पर पहुंचे परिजनों को शव लेने के लिए करीब तीन घंटे तक इंतजार करना पड़ा। मृतकों के शवों की कोरोना जांच को लेकर अधिकारी मशक्कत करते नजर आए। हादसे के बाद पहले पुलिस अधिकारियों ने जिला कलक्टर के निर्देश पर शवों को जयपुर एसएमएस चिकित्सालय भेजने व कोरोना संक्रमण की जांच के बाद शव सौंपने की बात कही। हालांकि बाद में जयपुर एसएमएस चिकित्सालय प्रशासन के इनकार करने पर मृतकों का सीएचसी पर पोस्टमार्टम कराकर शव परिजनों को सौंप दिए। हादसे की सूचना पर पुलिस अधीक्षक हैदर अली जैदी भी मौके पर पहुंचे और घटना की जानकारी ली। इस दौरान ग्रामीण सीओ हरीराम मीणा, लखनपुर थाना प्रभारी पुरुषोत्तम सिंह, डहरा चौकी प्रभारी रमेशचंद गुर्जर भी मौजूद थे।

बीमार बहन को देख कर लौट रहा था परिवार

परिजनों ने बताया कि मृतक अब्दुल अपने पुत्र-पत्नी व भाभी के साथ आगरा स्थित चिकित्सालय में भर्ती अपनी बीमार बहन से मिलने गए थे। बहन की कुशलक्षेम लेकर सुबह कार वापस से जयपुर लौट रहे थे, जहां रास्ते में हादसा हो गया। प्रत्यक्षदर्शियों की मानें तो अज्ञात वाहन से तेज गति से टक्कर होने के चलते कार से बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गई। आगे सीट पर सवार दोनों पिता-पुत्र के शव क्षत-विक्षत हो गए, जबकि सवार पीछे बैठी महिलाओं के शव बुरी तरह से फंस गए। शवों को निकालने के लिए पुलिस को क्रेन मंगानी पड़ी। करीब एक घंटे की मशक्कत के बाद शवों को बाहर निकाला जा सका।

Meghshyam Parashar Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned