एंबुलेंस: निर्धारित से अधिक किराया वसूला तो होगी कार्रवाई

-मनमाना किराया वसूल करने पर जिला कलक्टर ने जारी किए आदेश, इसके बाद भी हो रही मनमानी

By: Meghshyam Parashar

Published: 06 May 2021, 04:53 PM IST

भरतपुर. जिले में कोविड-19 महामारी को दृष्टिगत रखते हुए एंबुलेंस सेवाओं की दरें निर्धारित कर दी गई हैं। जिला कलक्टर हिमांशु गुप्ता ने बताया कि राज्य सरकार की ओर से एंबुलेंस वाहनों की सेवाओं को सामाजिक वाहन सेवा मानते हुए वर्तमान में कोविड-19 की महामारी के समय आमजन को सुलभ एवं सस्ती दरों पर एंबुलेंस सेवा उपलब्ध कराने तथा एम्बुलेंसों की दरों में समरूपता लाने के लिए जिले में एम्बुलेंस एवं शव वाहनों के किराये की दरें निर्धारित कर दी गई हैं। इसके तहत प्रथम 10 किमी तक के दायरे में 500 रुपए (आना जाना शामिल है), 10 किमी के बाद मारूति वैन, मार्शल, मैक्स का 12 रुपए 50 पैसे प्रति किमी, टवेरा, इनोवा बोलेरो, कूर्जर एवं रायनो का 14 रुपए 50 पैसे तथा अन्य बड़े एम्बुलेन्स, शव वाहन का किराया 17 रुपए 50 पैसे प्रति किमी निर्धारित किया गया है। इसके अतिरिक्त एसी वाहन होने पर एक रुपए प्रति किमी अतिरिक्त शुल्क लिया जाएगा। कोविड के मरीज एवं शव को लाने ले जाने के लिए एम्बुलेंस चालक की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए पीपीई किट एवं सैनेटाइजेशन का व्यय प्रति चक्कर 350 रुपए अतिरिक्त वसूल किया जा सकेगा।
उन्होंने बताया कि एम्बुलेंस तथा शव वाहनों का किराया दोनों तरफ का देय होगा, क्योंकि प्राय: ये वाहन वापसी यात्रा में उपयोग में नहीं लिए जा सकते है इसलिए 10 किमी से अधिक चलने पर वाहनों को प्रथम 10 किमी के अतिरिक्त चलने वाली दूरी को दो गुना (आने व जाने) करने के पश्चात् कुल किमी की गणना की जायेगी। इन दरों की गणना 91 रुपए प्रति लीटर डीजल की दर मानकर की गई हैं। ये दरें डीजल की दर 91 रुपए प्रति लीटर होने तक देय रहेगी। 91 रुपए के पश्चात् होने वाली प्रति लीटर डीजल की वृद्धि दर में 20 पैसे प्रति रुपया की दर से किराये में वृद्धि की जाएगी। इन वाहनों का रात्रि का अतिरिक्त किराया देय नहीं होगा। एम्बुलेंस व शव वाहन उपयोगकर्ता से धुलाई करने का कोई अतिरिक्त चार्ज नहीं लेगा। एम्बुलेंस में आवश्यक चिकित्सीय यंत्र, उपकरणों एवं सुविधाओं के संबंध में चिकित्सालय प्रशासन की ओर से लिए गए निर्णय की अनुपालना के लिए एम्बुलेंस वाहन स्वामी बाध्य होंगे। एम्बुलेंस संचालक आपात स्थिति में आवश्यकता होने पर जिला प्रशासन को वाहन को उपलब्ध कराने के लिए पाबन्द रहेंगे एवं रोगी या शव को वाहन उपलब्ध होने पर उपलब्ध कराने मना नहीं करेंगे। निर्धारित किराये से अधिक किराये लेने वाले वाहन संचालक के विरुद्ध नियमानुसार सख्त कार्यवाही की जाए ताकि जनमानस को मनमाने किराये वसूले जाने से राहत मिल सके।

अब नहीं रुक रहा मनमाने किराये का खेल

भले ही जिला कलक्टर की ओर से एंबुलेंस व शव वाहनों का किराया निर्धारित कर दिया है, लेकिन अब भी यह खेल रुक नहीं रहा है। एंबुलेंस संचालकों की ओर से मनमाना किराया वसूल किया जा रहा है। इसका खामियाजा गरीब परिजनों को भुगतना पड़ रहा है। आरबीएम अस्पताल में मंगलवार को दोपहर को भी इस तरह का एक मामला सामने आया था। शिकायत व शोरगुल करने के बाद भी इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं हुई।

Meghshyam Parashar Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned