बूढ़े माता-पिता को पता ही नहीं, कि उनकी आंखों का तारा अब तिरंगे में लिपटकर आएगा

आतंकी हमले में नगर थाना क्षेत्र के गांव सुन्दरावली निवासी जवान जीतराम पुत्र राधेश्याम गुर्जर शहीद हो गया।

By: kamlesh

Updated: 15 Feb 2019, 09:16 PM IST

भरतपुर/नगर। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में गुरुवार को हुए आतंकी हमले में नगर थाना क्षेत्र के गांव सुन्दरावली निवासी जवान जीतराम पुत्र राधेश्याम गुर्जर शहीद हो गया। जीतराम 92 बटालियन में कांस्टेबल के पद पर तैनात था।

कांस्टेबल जीतराम की शहादत की खबर न तो बूढ़े माता-पिता को है और न ही पत्नी व दोनों बेटियों को। परिवार में चाचा व भाई ही हैं जो पूरे गम को सीने में दबाए पार्थिव देह के आने का इंतजार कर रहे हैं।

शुक्रवार सुबह पत्रिका संवाददाता शहीद के गांव सुन्दरावली पहुंचा, तो यहां गांव के बाहर ही सरपंच देवहरि गुर्जर के घर पर करीब बीस लोग बैठे दिखे, जिन्होंने संवाददाता को गांव में जाने से रोक लिया।

सरपंच और ग्रामीणों ने बताया कि अभी तक माता-पिता, पत्नी व परिजनों को जीतराम के शहीद होने की सूचना नहीं है। सरपंच ने बताया कि शहीद की पार्थिव देह देर रात तक आने की सम्भावना है। ऐसे में कोशिश की जा रही है कि पार्थिव देह आने तक परिजनों को शहादत की खबर न दी जाए।

दो दिन पहले ही छुट्टी पूरी कर ड्यूटी पर गया था
शहीद के चाचा पूरन सिंह ने बताया कि जीतराम गुर्जर 12 फरवरी को ही एक माह की छुट्टी पूरी कर ड्यूटी पर गया था। गांव में जीतराम के शहीद होने की सूचना से सन्नाटा पसरा हुआ है। जीतराम अपने चार भाई-बहनों में से दूसरे नम्बर का था। जीतराम के परिवार में पत्नी सुंदरी व दो बेटियां(एक छह माह की व दूसरी डेढ़ साल की), माता-पिता व तीन भाई-बहन हैं।

 

pulwama attack

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned