अब बींदणियों का नहीं होगा मधुशाला से नाता

- हालांकि बोली लगाने को होंगी स्वतंत्र

By: Meghshyam Parashar

Published: 01 Mar 2021, 08:53 PM IST

भरतपुर . नसीबों के लिहाज से बाजी मारने वाली आधी आबादी का नाता इस बार मधुशाला से कम ही रहने वाला है। नई नीति में महिलाओं को किस्मत आजमाने का मौका नहीं मिलेगा। हालांकि वह बोली लगाने को स्वतंत्र होंगी। ऐसे में तय माना जा रहा है कि इस बार ठेके महिलाओं के नाम से नहीं होंगे। नई नीति के हिसाब से देखें तो अबकी बार ठेकों में पुरुषों का ही दबदबा रहेगा। बोली लगाकर दुकान मिलने से अनुमान है कि इस बार शराब की दुकानों पर अनुज्ञापत्र धारी में महिलाओं का नाम नहीं होगा।
अब तक लोग कई-कई आवेदन कर किस्मत आजमाते थे। इनमें महिलाओं के नाम की लॉटरी भी बड़ी संख्या में होती थीं, लेकिन अब लॉटरी के स्थान पर शराब के ठेके बोली के माध्यम से मिलेेगे। इससे तय है कि इस बार ठेका चलाने में महिलाओं की भूमिका नगण्य रहेगी। अधिकतम बोली लगाकर पुरुष ही अपने नाम से ठेके चलाएंगे। गुजर रहे वित्तीय वर्ष में भी बहुतेरी बहुओं के नाम ठेके खुले थे, लेकिन अब इनकी संख्या बेहद कम रह सकती है। हालांकि विभाग का कहना है कि आधी आबादी बोली लगाकर अपने नाम ठेके ले सकती हैं। माह के अंतिम दिन राज्य सरकार ने संशोधित नीति जारी की।

यह है संशोधित नीति

- अग्रिम वार्षिक गारंटी राशि का 8 प्रतिशत के स्थान पर 5 प्रतिशत।

- धरोहर राशि 4 प्रतिशत के स्थान पर 2 प्रतिशत।

- आवेदक को कुल वार्षिक राशि 12 के स्थान पर 7 प्रतिशत ही वित्तीय वर्ष के प्रारंभ में जमा कराने होंगे।

- कम्पोजिट राशि एक मुश्त जमा कराने के स्थान पर दो किस्तों में (50 प्रतिशत राशि 31 मार्च 2021 तक तथा शेष 50 प्रतिशत 30 जून 2021) तक जमा कराने का निर्णय किया है।

- विदेशी मदिरा ब्रांड्स का भी भराव वार्षिक गारंटी राशि में समायोजित किया जा सकेगा।

जिले में हुआ 65 प्रतिशत बंदोबस्त

भले ही इस बार ठेके लॉटरी की बजाय बोली से मिलेंगे, लेकिन इसमें भी ठेकेदार खासा उत्साह दिखा रहे हैं। बोली लगने के दिन से पूर्व ही जिले में 65 प्रतिशत बंदोबस्त हो चुका है। यह प्रतिशत राजस्थान के टॉप-5 जिलों में शुमार हुआ है। यानि की राज्य के अन्य जिलों की अपेक्षा यहां ठेकेदारों ने अधिक रुचि दिखाई है। जिले में 3, 4, 5, 6 एवं 9 तथा 10 मार्च को बोली लगेगी।

विभाग को अच्छी बिक्री की उम्मीद

आबकारी विभाग भी इस रेस्पोंस को लेकर उत्साहित नजर आ रहा है। खास बात यह है कि इस बार खनन क्षेत्र बंशी पहाड़पुर, रुदावल एवं बयाना में पत्थर कारोबार शुरू होने से विभाग की बांछें खिली नजर आ रही हैं। ऐसे में विभाग उम्मीद संजोए बैठा है कि विभाग की बिक्री अन्य वर्षों में तुलना में बेहतर रहेगी।

इनका कहना है

जिले में ठेकेदारों में बोली लगाने को लेकर खासा उत्साह है। अब तक जिले में 65 प्रतिशत बंदोबस्त हो चुका है, जो राज्य के पांच टॉप में शुमार है। नई संशोधित नीति से ठेकेदारों को खासी सहूलियत मिलेगी। वहीं ठेकेदारों को खनन क्षेत्र में कार्य शुरू होने से राहत मिलेगी।

- शिव सिंह, जिला आबकारी अधिकारी भरतपुर

Meghshyam Parashar Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned