scriptBJP remained Panna Pramukh, we could not even make District President | भाजपा पन्ना प्रमुख बना रही, हम जिलाध्यक्ष तक नहीं बना सके | Patrika News

भाजपा पन्ना प्रमुख बना रही, हम जिलाध्यक्ष तक नहीं बना सके

-कांग्रेस के नगर निगम के मेयर अभिजीत कुमार के बिगड़े बोल, महंगाई के विरोध में था धरना, कांग्रेस पार्टी पर साधा निशाना

भरतपुर

Published: April 02, 2022 02:20:07 pm

भरतपुर. जिले में पिछले लंबे समय से चली आ रही कांग्रेस की गुटबाजी व आंतरिक की कलह की बात शनिवार को उस समय एक बार फिर जगजाहिर हो गई, जब जिला कांग्रेस की ओर से देश में लगातार बढ रहे डीजल, पेट्रोल व गैस सिलेण्डर के कीमतों के विरोध में श्रीहनुमान मंदिर भूरी सिंह व्यायामशाला पर धरना दिया जा रहा था। धरने को संबोधित करने के लिए जब नगर निगम के मेयर अभिजीत कुमार को बुलाया तो उनके मन की बात भी जुबां पर आ गई।
उन्होंने कहा कि 40-45 साल तक हमने एकछत्र राज किया, परंतु हम सुविधाभोगी बन गए। उस जमाने में जब हम सुविधाभोगी बन गए थे, उस जमाने में भारतीय जनता पार्टी हमसे चुनाव लडऩा सीखी। वो लड़ते-लड़ते हमको हराना सीख गई। अंग्रेजों से की हुई लड़ाई और सुविधाभोगी पक्ष बनने के बाद हम यहीं बैठे रहते हैं और कहते रहते हैं कि ये क्या हुआ और कैसे हुआ। पेट्रोल-डीजल का भाव बढ़ रहा है, यह तब तक कम नहीं होगा तो जब तक नरेंद्र मोदी नहीं हटेंगे। उसे हटाने का फॉर्मूला आपके पास है नहीं। क्योंकि हम सिर्फ धरना प्रदर्शन में या तो वाणी विलास करते हैं या बुद्धि विलास करते हैं। कभी संघर्ष विलास नहीं किया। उन्होंने कहा कि जिस जनता को आप कह रहे हैं वह अत्याचार से परेशान है। वही जनता उसको वोट दे रही है। इसका मतलब यह नहीं है कि जनता नहीं जानती है, इससे साफ है कि जनता खूब जानती है, लेकिन जनता को आपको समझाना ही नहीं आता है। जनता तभी समझती है जब आपको धूप में देखे और संघर्ष करते देखे। क्योंकि आप लड़ाई किसके लिए लड़ रहे हैं, यह जनता को मालूम पडऩा चाहिए। जनता सोचेगी और आपके बारे में पता करेगी। इसके बाद आपके संघर्ष को देखकर साथ देगी। पीएम ने तो जनता से कह दिया कि खाने को राशन ले जाओ और माला जपने को राम ले जाओ। जरुरत क्या पड़ रही है। हमारी और उनकी नीति में फर्क समझना होगा।
मेयर अभिजीत ने कहा कि कांग्रेस की विचारधारा इस बात में विश्वास रखती है कि हम लोगों को सशक्त बनाएं। ये उनको हम बता नहीं पाते हैं। मोदी ने देश को लूट लिया। मोदी ने अब नब्ज पकड़ ली है। घर में राशन और जपने को राम चाहिए। अब यही हाल राज्य सरकारों का होने वाला है। कोई टैक्स वसूल नहीं पाएगा। केंद्र सरकार मानस बना चुकी है कि पेट्रोल-डीजल को जीएसटी में नहीं दें। आज की तारीख में 18 हजार करोड़ रुपए सरकार मांगती है, लेकिन केंद्र सरकार नहीं देती है। कोशिश करते है कि गहलोत खुद हार मानकर जाएं और लेन-देन की बात करें। अगर इसको हटाना है तो इसके साथ इसकी ही पॉलिसी को अपनाकर कांटे को कांटे से निकालना है। आप जिस पार्टी से लडऩा चाहते हैं तो वह तो पन्ना प्रमुख तक बनाती है और आपकी पार्टी का तो जिलाध्यक्ष तक नहीं बना है। क्या उम्मीद करें। कुछ दिन पहले सभी निकायों के अध्यक्षों को बुलाया गया। इसमें सत्ता और संगठन में सांमजस्य पर विचार विमर्श किया गया। प्रदेशाध्यक्ष के सामने मैंने कहा कि जब संगठन ही नहीं है तो हम सत्ता के साथ ईलू-ईलू कैसे करें। ध्यान देने की आवश्यकता यह है कि हमारी लड़ाई में कहीं न कहीं ईमानदारी नहीं है। धरना प्रदर्शन में हम चार आदमी आते हैं और मजाक बनाकर जाते हैं। ऐसे हम कभी लड़ाई नहीं लड़ सकते।
भाजपा पन्ना प्रमुख बना रही, हम जिलाध्यक्ष तक नहीं बना सके
भाजपा पन्ना प्रमुख बना रही, हम जिलाध्यक्ष तक नहीं बना सके
जहां सातों सीट कांग्रेस की, वहां धरने में जुटे 25 कार्यकर्ता

हकीकत यह है कि जहां जिले से पांच मंत्रियों के साथ सातों सीट सत्ताधारी कांग्रेस पार्टी की हैं, वहां महंगाई के विरोध में दिए जा रहे धरने में मुश्किल से 30 कार्यकर्ताओं का भी न जुटना सवाल खड़ा करता है। चूंकि पार्टी में आपसी खींचतान की बात पिछले लंबे समय से सामने आती रही है। हालांकि खुद कांग्रेस के नेता भी इस बात को स्वीकार कर चुके हैं, परंतु पार्टी को एकजुट करने में सातों कांग्रेस विधायक भी फेल रहे हैं।
यूआईटी चेयरमैन से लेकर हर नियुक्ति पर विवाद

कांग्रेस खेमे में नियुक्तियों को लेकर विवाद की बात भी शुरू से ही सामने आती रही है। चूंकि फिलहाल भरतपुर में जिलाध्यक्ष से लेकर ब्लॉक अध्यक्षों की नियुक्ति अटकी हुई है। इसके अलावा यूआईटी चेयरमैन की नियुक्ति की मांग भी पिछले लंबे समय से की जा रही है। नियुक्ति नहीं होने के पीछे भी मंत्रियों व विधायकों के बीच आपसी खींचतान की बात सामने आती रही है। बात यहां पर ही खत्म नहीं होती। कुछ माह पहले कांग्रेस के ही पदाधिकारी विधायक व मंत्रियों पर भी खास लोगों को ठेके दिलाने व एक विधायक पर तबादलों में खुलेआम भ्रष्टाचार करने की शिकायत पार्टी हाइकमान से कर चुके हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ज्योतिष: ऊंची किस्मत लेकर जन्मी होती हैं इन नाम की लड़कियां, लाइफ में खूब कमाती हैं पैसाशनि देव जल्द कर्क, वृश्चिक और मीन वालों को देने वाले हैं बड़ी राहत, ये है वजहताजमहल बनाने वाले कारीगर के वंशज ने खोले कई राजपापी ग्रह राहु 2023 तक 3 राशियों पर रहेगा मेहरबान, हर काम में मिलेगी सफलताजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथJaya Kishori: शादी को लेकर जया किशोरी को इस बात का है डर, रखी है ये शर्तखुशखबरी: LPG घरेलू गैस सिलेंडर का रेट कम करने का फैसला, जानें कितनी मिलेगी राहतनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

आय से अधिक संपत्ति मामले में ओम प्रकाश चौटाला दोषी करार, 26 मई को सजा पर होगी बहसअरुणाचल प्रदेश पहुंचे अमित शाह, स्वामी विवेकानंद की प्रतिमा का अनावरण कर बोले- मोदी सरकार ने दिल्ली व नॉर्थ-ईस्ट के अंतर को खत्म कियाबेटी की 'अवैध' नियुक्ति को लेकर CBI ने बंगाल के मंत्री परेश अधिकारी से तीसरे दिन भी की पूछताछRajiv Gandhi 31st Death Anniversary: अधीर रंजन ने ये क्या कह दिया, Tweet डिलीट कर देनी पड़ रही सफाई, FIR तक पहुंची बातभीषण गर्मी : देश में 140 में से 60 बड़े बांधों का पानी घटा, राजस्थान के भी तीन बांधNCP प्रमुख शरद पवार आज पुणे में ब्राह्मण समुदाय के नेताओं से क्यों मिल रहे हैं?जून के अंत में आएगी कोरोना की चौथी लहर? जानिए AIIMS के पूर्व डायरेक्टर ने क्या दिया जवाब01 जून से दुर्लभ संधि योग में शुरू होगा राम मंदिर के गर्भगृह का निर्माण, वर्षों बाद बन रहा शुभ मुर्हूत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.