संक्रमण के बीच बदहाली की बुहारी

- 65 में से महज 25 कार्मिक कर रहे काम, संभाग का सबसे बड़ा आरबीएम अस्पताल और देखिए सफाई व्यवस्था का ऐसा हाल
बड़ा सवाल...अगर प्लेसमेंट एजेंसी नहीं सुन रही तो कार्रवाई क्यों नहीं?

By: Meghshyam Parashar

Published: 20 May 2021, 02:25 PM IST

भरतपुर . शहर में कोरोना संक्रमण ने हर किसी का संकट बढ़ा दिया है, लेकिन इस बीच संभाग के सबसे बड़े अस्पताल आरबीएम में बदहाली की बुहारी लगती नजर आ रही है। आरबीएम में प्रतिदिन हजारों मरीजों का आना-जाना रहता है। इसके बाद भी सफाई व्यवस्था यहां चरमराई हुई है। आलम यह है कि यूं तो सफाई के ठेका में 65 कार्मिक लगे हैं, लेकिन यहां काम महज 25 ही कर रहे हैं। ऐसे में यहां सफाई व्यवस्था बदहाल है। आलम यह है कि सफाई के लिए न तो मशीनों की व्यवस्था है और न ही अन्य संसाधन। ऐसे में यहां संक्रमण का खतरा नजर आता है। यह सवाल तब और भी बड़ा हो जाता है जब यह बात संभाग के सबसे बड़े आरबीएम अस्पताल के लिए की जा रही है। क्योंकि अगर संभाग मुख्यालय पर स्थापित अस्पताल की सफाई व्यवस्था को सुधारा नहीं जा सकता है तो पीएचसी और सीएचसी की सफाई व्यवस्था को सुधारना किसी सपने से कम नहीं होगा। जब संबंधित प्लेसमेंट एजेंसी की ओर से कार्य शुरू करने के बाद भी लापरवाही बरती जा रही है तो आखिर उसे ब्लेकलिस्ट क्यों नहीं किया जा रहा है। चूंकि कोरोना संक्रमण के इस दौर में मरीज व उनके परिजनों के स्वास्थ्य के लिहाज से अस्पताल में बेहतर सफाई व्यवस्था किया जाना बहुत आवश्यक है। इसलिए अस्पताल प्रशासन के साथ जिम्मेदार जनप्रतिनिधियों को भी चाहिए कि इस प्रकरण में त्वरित कार्रवाई करें। ताकि आरबीएम अस्पताल की सफाई व्यवस्था को बेहतर किया जा सके।

भरे पड़े हैं कचरा पात्र

अस्पताल में सफाई व्यवस्था कितनी बेहतर है, इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि अस्पताल के बाहर रखे कचरा पात्र गंदगी से भरे पड़े हैं। कचरा पात्र खाली नहीं होने के कारण उनसे गंदगी बाहर निकल रही है, लेकिन इस कचरे का निस्तारण करने वाले नजर नहीं आ रहे हैं। कई मर्तबा इस संबंध में लोगों ने शिकायत की है, लेकिन नतीजा अब तक सिफर ही रहा है।

चार मई को दिया था नोटिस

कोरोना संक्रमण की तेजी के बीच साफ-सफाई व्यवस्था पर खास ध्यान केन्द्रित किया जाना चाहिए। हाल ही में अधिकारी एवं जनप्रतिनिधियों के निरीक्षण के दौरान सफाई व्यवस्था बदहाल मिली। प्रमुख चिकित्सा अधिकारी ने भी 4 मई को अस्तपाल में कचरा मिलने पर नाखुशी जाहिर की थी। सफाई व्यवस्था बदहाल मिलने एवं पर्याप्त कार्मिक नहीं मिलने पर पीएमओ ने प्लेसमेंट एजेंसी को नोटिस जारी किया था। इसमें सफाई व्यवस्था में सुधार नहीं होने पर सख्त कार्रवाई की चेतावनी दी थी।

इनका कहना है

फिलहाल व्यवस्था ठीक है। इससे पहले प्लेसमेंट एजेंसी को नोटिस जारी कर दिया था। यदि फिर भी कहीं दिक्कत है तो उसमें सुधार कराया जाएगा।

- डॉ. जिज्ञासा साहनी, प्रमुख चिकित्सा अधिकारी आरबीएम

Meghshyam Parashar Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned