सुविधा का लाभ मिलने में लगेंगे महीनों, तब तक शहरवासियों को झेलनी पड़ेगी यह परेशानी...

सुविधा का लाभ मिलने में लगेंगे महीनों, तब तक शहरवासियों को झेलनी पड़ेगी यह परेशानी...
sewerage

Shyamveer Singh | Updated: 20 Dec 2018, 10:35:29 PM (IST) Bharatpur, Bharatpur, Rajasthan, India

भरतपुर. घरों के सामने खुदे गड्ढे, उखड़ा रोड, खुदी सड़क पर भरा पानी...ये सब परेशानियां शहरवासियों को सिर्फ इस उम्मीद में झेलनी पड़ रही हैं कि उन्हें निकट भविष्य में सीवरेज की सुविधा मिलने वाली है। शहर को सीवरेज से जोडऩे के लिए अमृत योजना के तहत पौने दो साल पहले शुरू हुआ कार्य अभी आधा भी पूरा नहीं हुआ है।

भरतपुर. घरों के सामने खुदे गड्ढे, उखड़ा रोड, खुदी सड़क पर भरा पानी...ये सब परेशानियां शहरवासियों को सिर्फ इस उम्मीद में झेलनी पड़ रही हैं कि उन्हें निकट भविष्य में सीवरेज की सुविधा मिलने वाली है। शहर को सीवरेज से जोडऩे के लिए अमृत योजना के तहत पौने दो साल पहले शुरू हुआ कार्य अभी आधा भी पूरा नहीं हुआ है। विभागीय जिम्मेदारों की मानें तो शहर में अमृत योजना के तहत मार्च 2019 तक 116 किमी. लम्बी सीवर लाइन डालनी है लेकिन जमीनी हकीकत यह है कि निर्धारित दो साल में से पौने दो साल का समय गुजर गया और अभी तक सिर्फ 55 किमी. सीवरेज का कार्य ही पूरा हो पाया है। ठेका कम्पनी की ओर से कुछआ चाल से किए जा रहे सीवरेज कार्य की वजह से शहरवासी परेशान हैं। राजस्थान पत्रिका की ओर से शहर की अलग-अलग कॉलोनियों में चल रहे सीवरेज कार्य की हकीकत जानी तो लोगों का दर्द सामने आया।
...अब 4 माह में बिछानी होगी 61 किमी सीवरेज
विभागीय जानकारी के अनुसार नगर निगम को अमृत योजना के तहत 79.66 करोड़ की लागत से शहर में 116 कमी. सीवरेज लाइन का कार्यकराना था। इसके लिए निगम ने मार्च 2017 में एलएनटी कम्पनी को ठेका दिया, जो कि मार्च 2019 में पूरा करना था। लेकिन कम्पनी की ओर से शहरभर में कराए जा रहे सीवरेज कार्यकी गति बहुत ही धीमी है। यही वजह है कि 20 माह में अभी तक सिर्फ 55 किमी सीवरेज लाइन बिछाने का कार्यही पूरा किया जा सका है। ऐसे में कम्पनी को चार माह में अब 61 किमी लाइन बिछानी होगी जो कि इनके कार्यकी गति को देखते हुए असम्भव लग रहा है। साथ ही ओएनडम का बजट 12.23 करोड़ का है यानी ठेका कम्पनी की ही दस साल तक मेंटीनेंस आदि का जिम्मेदारी रहेगी। इतना ही नहीं शहर में बिछाई जा रही सीवरेज लाइन भी तब शुरू होगी जब नौंह में सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) बनकर तैयार हो जाएगा। एसटीपी से पहले यदि सीवरेज कार्य पूरा हो जाता है तो भी सीवरेज की सुविधा शुरू नहीं हो पाएगी।

महीनों तक उधड़ी पड़ी रहती हैं सड़कें
नगर निगम ने एलएनटी कम्पनी को ठेका दिया और एलएनटी अब अन्य छोटी ठेका कम्पनियों से सीवरेज का काम करा रही है। शहर की कृष्णा नगर, जवाहर नगर, बी नारायण गेट, रूंधिया नगर आदि कॉलोनियों में घरों के सामने गड्ढा खोदकर फाउंडेशन आदि का कार्य किया जा रहा है लेकिन यह कार्य कई-कई दिन तक पूरा नहीं होता। ऐसे में घरों के सामने गड्ढा, कीचड़, मिट्टी की वजह से लोगों का रास्ता निकलना तक मुश्किल हो जाता है। साथ ही उधड़ी हुई सड़कें कई-कई माह तक तैयार नहीं कराई जातीं।

दुर्घटना का खतरा
शहर में कई जगह सीवरेज कार्य पूरा होने के बाद सड़क निर्माण भी करा दिया गया है लेकिन फिर भी यहां के हालात बदतर हैं। सीवरेज कार्य के बाद तैयार की गई सड़कें बनने के बाद भी पूर्व की सड़क के साथ मिलान नहीं किया जाता है। ऐसे में बीच में से सड़क नीची और पूर्व की बनी हुई दोनों तरफ की सड़क ऊंची रह जाती है। इतना ही नहीं सड़क के बीचों-बीच बनाए गए सीवर ***** भी सड़क से करीब एक-डेढ़ फीट ऊंचे हैं। ऐसे में रात के समय दुर्घटना का खतरा भी बना रहता है।

अमृत योजना के तहत शहर में एलएनटी कम्पनी को सीवरेज का ठेका दिया गया है। मार्च 2017 में कार्य सौंपा गया जो कि मार्च2019 में पूरा होना है। कम्पनी जितनी सड़क तोड़ेगी उतनी बनाने की जिम्मेदारी भी उसी की है। कृष्णा नगर कॉलोनी में बरसात की वजह से सड़क का कार्यनहीं हो पाया था, अब सड़क ठीक कराने का कार्यशुरू करा दिया गया है।
- लोकेन्द्र , सहायक अभियंता, नगर निगम,भरतपुर।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned